--Advertisement--

राजधानी में सीसीटीवी कैमरे लगवाने पर तकरार, एलजी के आॅफिस के सामने बैठे केजरीवाल

धरने के दौरान आप नेताओं ने साढ़े तीन घंटे में सड़क पर बैठे-बैठे ही 15 ट्वीट, 92 रिट्वीट।

Dainik Bhaskar

May 15, 2018, 09:06 AM IST
AAP leaders protest infront of LG Anil Baijal office

नई दिल्ली. राजधानी में सीसीटीवी कैमरे लगवाने पर तकरार के बीच सीएम अरविंद केजरीवाल पैदल मार्च के बाद एलजी अनिल बैजल के दफ्तर के सामने धरने पर बैठ गए। केजरीवाल के साथ उनकी सरकार के मंत्री और विधायक भी धरने पर बैठे। दोपहर 3 बजकर 38 मिनट पर शुरु हुआ सीएम का धरना शाम 7 बजे तक चला। केजरीवाल बोले-एलजी ने ही हमें मिलने बुलाया था और अब मिलने से इंकार कर रहे हैं। सीएम समेत उनके सभी साथियों ने धरना स्थल से ट्वीट कई ट्वीट किए। करीब साढ़े तीन घंटे में केजरीवाल ने 7 ट्वीट और 17 रिट्वीट कर एलजी और भाजपा पर निशाना साधा। अलका लांबा ने दो बार फेसबुक लाइव भी किया। केजरीवाल ने इस दौरान ‘इंसान का इंसान से भाईचार’ गीत गाया। इसके बाद सीएम समेत सभी लोगों ने मिलकर ‘ईश्वर अल्लाह तेरे नाम, एलजी को सन्मति दे भगवान’ भी गुनगुनाया।

सीएम रहते केंद्र के खिलाफ भी धरने पर बैठे थे केजरीवाल

20 जनवरी 2014 को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल रेल भवन पर केन्द्र सरकार के खिलाफ धरने पर बैठे थे। इसके 51 महीने 25 दिन बाद दोबारा सोमवार को एलजी हाउस के सामने धरने पर बैठे।

सीएम : एलजी साहब विधायकों से क्यों नहीं मिलेंगे, मिलना पड़ेगा

केजरीवाल ने कहा, मुझे बेहद खेद और दुख है कि हम तीन घंटे से सड़क पर यहां इंतजार कर रहे हैं। एलजी साहब ने हमसे मिलने से मना कर दिया। एलजी साहब कह रहे हैं कि मैं विधायकों से नहीं मिलूंगा। एलजी साहब को बताना पड़ेगा कि क्यों नहीं मिलेंगे। यह जनतंत्र है। देश में एक संविधान है, एक कानून है। चाहे कोई कितना ही बड़ा एलजी हो, कितना ही बड़ा प्रधानमंत्री हो। उसे चुने लोगों से तो मिलना पड़ेगा। हम महिलाओं की सुरक्षा के मुद्दे पर चर्चा के लिए आए थे। अपने काम के लिए नहीं आए थे। आज एलजी साहब ने दिल्ली की जनता का अपमान किया है।

केजरीवाल बोले-एलजी साहब की कमेटी नहीं, जनता तय करेगी-कहां लगेंगे कैमरे
केजरीवाल ने कहा, पूरे मुद्दे को जनता के बीच लेकर जाना है। सीसीटीवी कैमरे जनता के पैसे से लग रहे हैं। अब एलजी साहब की कमेटी एसओपी नहीं बनाएगी बल्कि जनता एसओपी बनाएगी। जहां आरडब्ल्यूए और इलाके की महिलाएं कहेंगी, वहां कमरे लगेंगे। अगले कुछ हफ्तों के अंदर हर वार्ड के अंदर जनता की सभा बुलाई जाएगी। इसके बाद एक बड़ी सभा करेंगे। उसमें सभी सुझावों पर चर्चा कर एसओपी तैयार करेंगे।

बैजल ने कहा-महिलाओं व कमजोर वर्ग की सुरक्षा को अनदेखी कर रही सरकार
एलजी ने कहा कि प्रधान गृह सचिव की अध्यक्षता वाली समिति की शर्तों में स्पष्ट है कि यह समिति सीसीटीवी की निगरानी मजबूत करने के लिए बनाई है। सीएम और उनकी कैबिनेट महिलाओं और कमजोर वर्ग की सुरक्षा को अनदेखा कर रही है। सरकार का उद्देश्य सिर्फ सीसीटीवी कैमरे लगाना नहीं बल्कि यह भी सुनिश्चित करना होना चाहिए कि सीसीटीवी कैमरे से किस प्रकार महिलाओं, बुजुर्गों और समाज के कमजोर वर्गों की सुरक्षा हो।

X
AAP leaders protest infront of LG Anil Baijal office
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..