वॉट्सएप-पे की घोषणा होने के बाद डिजिटल पेमेंट मार्केट में शुरू हो सकता है कड़े मुकाबले का दौर

New-delhi News - भारत में स्मार्टफोन और ई-कॉमर्स कंपनियों के बीच कड़ी प्रतिस्पर्धा के बाद अब डिजिटल पेमेंट में भी दो बड़े प्लेयर के...

May 07, 2019, 07:25 AM IST
भारत में स्मार्टफोन और ई-कॉमर्स कंपनियों के बीच कड़ी प्रतिस्पर्धा के बाद अब डिजिटल पेमेंट में भी दो बड़े प्लेयर के बीच युद्ध जैसी स्थिति बन सकती है। फेसबुक के फाउंडर मार्क जकरबर्ग ने घोषणा की है कि कंपनी जल्दी ही भारत में वॉट्सएप-पे सर्विस लॉन्च कर सकती है। इसके बाद से मौजूदा समय में देश की नंबर-1 डिजिटल पेमेंट कंपनी पेटीएम पर दबाव की बातें शुरू हो गई हैं। क्रेडिट सुइस की एक रिपोर्ट के मुताबिक साल 2023 तक भारत में डिजिटल पेमेंट इंडस्ट्री 1 लाख करोड़ डॉलर (करीब 70 लाख करोड़ रुपए) की हो जाएगी। पिछले साल यह 14 लाख करोड़ रुपए की थी। पेटीएम के अलावा, गूगल और एपल जैसी बड़ी टेक कंपनियां भी तेजी से बढ़ती इस इंडस्ट्री में पैर जमाने की कोशिश में लगी हैं।

अब वॉट्सएप की एंट्री से प्रतिस्पर्धा और कड़ी हो जाएगी। वॉट्सएप-पे और पेटीएम की संभावित जंग सोशल मीडिया स्पेस में भी काफी चर्चित हो रही है। इस बारे में कई रोचक कमेंट किए जा रहे हैं। उद्यमी अजय नंदीवेडकर ने ट्वीट किया, ‘युद्ध होना तय है। देखना है जीत किसी होती है।’ वहीं, जोसेफ ओमेन नाम के एक यूजर ने ट्वीट किया, ‘नोटबंदी के समय पेटीएम सबसे ज्यादा उत्साहित थी। लेकिन दो साल में ही इस पर खत्म होने का खतरा मंडराने लगा है।’ रोहित कुट्‌टपन ने लिखा, पेटीएम के लिए अब ठंडा मौसम आने वाला है।’ सोशल मीडिया एक्सपर्ट माने जाने वाले अनूप मिश्रा ने ट्वीट किया, ‘वॉट्सएप पे आने के बाद पेटीएम को अपनी पंच लाइन बदलनी पड़ सकती है। अभी कंपनी अपने विज्ञापन में कहती है, ‘पेटीएम करो।’ लेकिन, वॉट्सएप के आने के बाद इसे कहना पड़ सकता है, ‘पेटीएम भी कर लो।’ कुछ यूजर्स ने पेटीएम को श्रद्धांजलि भी दे डाली और रिप पेटीएम जैसे कमेंट किए।

वॉट्सएप ने 3 मई को सुप्रीम कोर्ट में कहा था कि यह देश में पेमेंट सर्विस लॉन्च करने से पहले भारतीय रिजर्व बैंक के सभी दिशा-निर्देशों का पालन करेगी। इसमें डेटा लोकलाइजेशन भी शामिल है।

भारत में वॉट्सएप के 30 करोड़ और पेटीएम के 23 करोड़ यूजर हैं

वॉट्सएप के भारत 30 करोड़ से ज्यादा यूजर हैं। वहीं, पेटीएम के पास अभी 23 करोड़ यूजर हैं। इसलिए वॉट्सएप पे को पेटीएम के लिए बड़ा खतरा माना जा रहा है। इससे पेटीएम के फाउंडर विजय शेखर शर्मा भी वाकिफ हैं। उन्होंने पिछले साल ट्वीट कर लिखा था कि फेसबुक भारत में सस्ते हथकंडों से ओपन इंटरनेट की जंग जीतने में विफल रही थी। अब यह ऐसी ही कोशिश डिजिटल पेमेंट में भी करने जा रही है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना