--Advertisement--

बुराड़ी: नोट्स से खुलासा- मृत पिता के आदेश पर पूरा परिवार फांसी पर लटका, छोटा बेटा आत्मा से बात करता था

क्राइम ब्रांच के एक अधिकारी ने कहा कि पोस्टमार्टम ने साफ कर दिया है कि बाहरी शख्स ने इनकी हत्याएं नहीं की।

Dainik Bhaskar

Jul 03, 2018, 07:57 PM IST
बेटी की सगाई के दिन ली गई परिवार की एक ग्रुप फोटो। बेटी की सगाई के दिन ली गई परिवार की एक ग्रुप फोटो।

- घर से 37 पन्नों का रजिस्टर मिला था, इसमें अनुष्ठानों का जिक्र है
- माना जा रहा है कि रजिस्टर में नोट्स छोटे बेटे ललित ने लिखे थे

नई दिल्ली. बुराड़ी में एक परिवार के 11 लोगों की मौत के मामले में नया खुलासा हुआ है। घर से बरामद हुए 37 पन्नों के रजिस्टर में छोटे बेटे ललित ने पिता के सपने में आने का जिक्र किया है। उसके पिता की कई साल पहले मृत्यु हो चुकी है। रजिस्टर के मुताबिक, ललित उनकी आत्मा से बात करता था। आत्मा उसे प्रॉपर्टी, कारोबार और पारिवारिक जिम्मेदारियों के संबंध में निर्देश देती थी। ललित परिवार में हुए सभी धार्मिक अनुष्ठानों को 'ऊपर से मिला आदेश' बताता था। दिल्ली पुलिस का कहना है कि पूरे परिवार के जान देने की एक वजह यह भी हो सकती है। सोमवार को पोस्टमार्टम रिपोर्ट से साफ हुआ कि सभी की मौत फांसी लगने से हुई।

पड़ोसियों ने कहा- दाढ़ी वाला शख्स अक्सर आता था: पड़ोसियों का कहना है कि इस परिवार में एक दाढ़ी वाला शख्स हफ्ते में दो-तीन बार आता था। दो-ढाई घंटे रुकता था। पुलिस को उसी पर इन लोगों का मोक्ष के नाम पर ब्रेन वॉश करने का शक है। उसकी तलाश की जा रही है। सूत्रों ने बताया कि एक बाबा को हिरासत में भी लिया गया है। हालांकि, पुलिस इससे इनकार कर रही है। क्राइम ब्रांच को भी किसी गदा बाबा के बारे में जानकारी मिली है। पुलिस की तहकीकात में पांच फोन नंबर सामने आए हैं, जिन पर लगातार बातें होती थीं। पुलिस इन फोन नंबरों की पड़ताल कर रही है।

रजिस्टर में लिखा- सिर पर काला कुत्ता हो: रजिस्टर में बरगद की पूजा पर 37 पेज लिखे हैं। घर में शव भी बरगद की जड़ों की तरह लटके थे। यह भी लिखा है कि हम मरने नहीं जा रहे, परमात्मा से मिलकर वापस आएंगे। सात दिन लगातार पूजा करनी है, इस बीच घर में कोई आ जाए तो पूजा अगले दिन नए सिरे से करनी है। पूजा के लिए गुरुवार और रविवार का दिन चुना गया है। सिर पर काला कुत्ता होना चाहिए। क्रिया रात 12 से 1 बजे के बीच करनी है। इससे पहले हवन करना है। खुद अपने हाथ बांधने हैं, क्रिया के बाद दूसरा खोलेगा।

ललित सबसे आखिरी में मरा, हाथ भी उसी के खुले थे: क्राइम ब्रांच के अनुसार बुजुर्ग महिला के दो बेटे ललित और भूपी थे। ललित सबसे ज्यादा धार्मिक था। डॉक्टरों के मुताबिक, सभी की मौत रात दो से ढाई बजे के बीच हुई। सबसे आखिरी में ललित और उसकी पत्नी टीना की मौत हुई। सभी 11 मृतकों में सिर्फ इन्हीं दोनों के हाथ खुले थे।

भाई ने कहा- 11 पाइप मैंने वेंटिलेशन के लिए लगवाए थे: पुलिस को घर की दीवार पर प्लास्टिक के 11 पाइप और जाल में बंधे 11 सरिए मिले। पाइप मकान की दाईं दीवार पर लगे हैं। 4 पाइप सीधे और 7 टेढ़े-मेढ़े हैं। मरने वाले भी 11 थे, इसलिए पुलिस इन्हें भी मौत से जोड़कर देख रही है। हालांकि, कोटा से आए परिवार के बड़े बेटे दिनेश का कहना है कि वो सिविल कॉन्ट्रैक्टर हैं। उन्होंने वेंटिलेशन के लिए ये पाइप लगवाए थे।

इसी जाल के नीचे 10 शव लटके थे और जाल के एक तरफ कुत्ता बंधा था। इसी जाल के नीचे 10 शव लटके थे और जाल के एक तरफ कुत्ता बंधा था।
घर की दाईं दीवार पर प्लास्टिक के 11 पाइप और जाल में 11 सरिए लगे मिले। घर की दाईं दीवार पर प्लास्टिक के 11 पाइप और जाल में 11 सरिए लगे मिले।
X
बेटी की सगाई के दिन ली गई परिवार की एक ग्रुप फोटो।बेटी की सगाई के दिन ली गई परिवार की एक ग्रुप फोटो।
इसी जाल के नीचे 10 शव लटके थे और जाल के एक तरफ कुत्ता बंधा था।इसी जाल के नीचे 10 शव लटके थे और जाल के एक तरफ कुत्ता बंधा था।
घर की दाईं दीवार पर प्लास्टिक के 11 पाइप और जाल में 11 सरिए लगे मिले।घर की दाईं दीवार पर प्लास्टिक के 11 पाइप और जाल में 11 सरिए लगे मिले।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..