--Advertisement--

Delhi Pollution: दिल्ली में प्रदूषण के हालात 4 दिन और बने रह सकते हैं, रविवार तक सभी निर्माण कार्यों पर रोक

Dainik Bhaskar

Jun 14, 2018, 04:59 PM IST

ये भी कहा गया है कि 17 जून को बारिश हो सकती है। एेसे में धूल के कण जमीन पर बैठ जाएंगे और प्रदूषण कम हो सकता है।

Delhi Air Pollution: construction work stop till Sunday in delhi

नई दिल्ली. दिल्ली में प्रदूषण अपने उच्चतम स्तर पर पहुंच गया है जिसके कारण रविवार तक सभी निर्माण कार्यों पर रोक लगा दी गई है। आज गुरुवार को लगातार तीसरे दिन भी दिल्ली में प्रदूषण की वजह से आम लोगों को काफी परेशानी हुई। यहां धुंध छाई हुई है और कुछ लोगों ने सांस लेने में दिक्कत की शिकायत भी की है। दिक्कत इतनी ही नहीं है। मौसम विभाग ने कहा है कि अगले चार दिन तक हालात में ज्यादा बदलाव की उम्मीद नहीं है। हालांकि, ये भी कहा गया है कि 17 जून को बारिश हो सकती है। एेसे में धूल के कण जमीन पर बैठ जाएंगे और प्रदूषण कम हो सकता है।

डॉक्टरों ने क्या दी सलाह?

- प्रदूषण की इस खतरनाक स्थिति से निपटने के लिए डॉक्टरों ने मेडिकल एजवाइज दी है। इसके मुताबिक- छोटे बच्चे और बुजुर्गों को इस वक्त खासतौर पर सतर्क रहने की जरूरत है। क्योंकि ये प्रदूषण उनके लिए खतरनाक साबित हो सकता है।

- इस एडवाइज में कहा गया है कि जहां तक संभव हो लोग घर में ही रहें। खासतौर पर बुजुर्ग और बच्चे। इसमें आगे कहा गया है कि धूल के छोटे कण आंखों की बीमारी, कफ या फिर अस्थमा का कारण बन सकते हैं। अस्थमा यानी दमा के मरीजों को खासतौर पर केयर की जरूरत है। इस प्रदूषण की वजह से उन्हें सांस लेने में ज्यादा दिक्कत हो सकती है।

गुरुवार को एक अहम फैसला हुआ
- गुरुवार को दिल्ली सरकार के अफसरों और एलजी ने केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड यानी सीपीसीबी के साथ मीटिंग की। इसमें फैसला लिया गया कि रविवार तक दिल्ली में किसी तरह का कंस्ट्रक्शन वर्क यानी निर्माण कार्य नहीं किया जा सकेगा।

हवा के खराब होने की वजह क्या?
- ईरान-दक्षिण अफगानिस्तान की तरफ से धूल भरी हवाएं 20 हजार फीट की ऊंचाई से राजस्थान से होते हुए दिल्ली में दस्तक दे रही हैं। इससे वातावरण में धूल छा गई है। अगले चार दिन तक दिल्ली में ऐसे ही हालात रहेंगे।

पैरामीटर्स पर क्या दर्ज हुआ?
-केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने बताया कि दिल्ली में कई जगहों पर एयर क्वालिटी इंडेक्स 500 के पार पहुंच गया है। इसे लेवल को गंभीर स्तर माना जाता है।
- गुरुवार सुबह दिल्ली के आनंद विहार में पीएम 10 का लेवल सबसे ज्यादा 929 रहा। वहीं, पीएम 2.5 का लेवल 301 रहा।

पीएम 10 का मतलब ऐसे समझें
- पीएम 10 को पर्टिकुलेट मैटर कहते हैं। इन कणों का साइज 10 माइक्रोमीटर से कम होता है। इससे छोटे कणों का व्यास 2.5 माइक्रोमीटर या कम होता है। यह कण ठोस या तरल रूप में वातावरण में होते हैं।
- ये हवा में ऑक्सीजन की मात्रा कम कर देते हैं। इसकी जद में रहने वाले लोगों को घुटन का एहसास होता है।

X
Delhi Air Pollution: construction work stop till Sunday in delhi
Astrology

Recommended

Click to listen..