--Advertisement--

अमेरिका में आ रहा हरिकेन फ्लोरेंस

राहत कैंप के कामों में मदद करती बच्ची। खास  गाजा पट्टी एक फिलिस्तीनी क्षेत्र है। फिलिस्तीन अरबी और बहुसंख्य...

Danik Bhaskar | Sep 13, 2018, 03:12 AM IST
राहत कैंप के कामों में मदद करती बच्ची।

खास गाजा पट्टी एक फिलिस्तीनी क्षेत्र है। फिलिस्तीन अरबी और बहुसंख्य मुस्लिम बहुल इलाका है। इस पर हमास का कब्जा है, जो इजरायल विरोधी समूह है।

तीव्रता के लिहाज से तूफानों को 4 कैटेगरी में बांटा गया है। कैटगरी-4 यानी सबसे खतरनाक, जिसमें 200 किमी से तेज हवा चलती है। अमेरिका में 2005 में ऐसा ही तूफान हरिकेन कटरीना आया था, जिसमें 1800 जान गई थी। हरिकेन कटरीना कैटेगरी-3 का था। इस बार कैटेगरी-4 है।

215 किमी की रफ्तार से आगे बढ़ रहा कैटेगरी-4 का तूफान, 10 लाख लोगों को चेतावनी जारी; 100 शेल्टर होम और 4 बड़ी जेलें राहत कैंप में तब्दील हुईं

नासा ने महासागर से उठते तूफान की अंतरिक्ष से ली गई फोटो जारी की

वर्जीनिया

कैरोलिना

नॉरफॉक

बरमुडा ट्राइएंगल

हरिकेन फ्लोरेंस यहां से उठा

 नई दिल्ली , गुरुवार, 13 सितंबर, 2018

नन के दुष्कर्म के आरोप का मामला

एजेंसी|नई दिल्ली

सेना में सांगठनिक बदलाव सहित अन्य बड़े सुधारों को सैद्धांतिक रूप से मंजूरी दे दी गई है। इस संबंध में सेना प्रमुख बिपिन रावत और टॉप कमांडरों में बुधवार को औपचारिक सहमति बनी। सूत्रों के अनुसार सेना अपना युद्ध कौशल बढ़ाने के लिए संगठन में आमूल-चूल बदलाव करने पर विचार कर रही है। इसे लेकर सेना प्रमुख और टॉप कमांडरों की मंगलवार से उच्च स्तरीय बैठक शुरू हुई थी। इसमें सेना को चुस्त और अर्थपूर्ण बनाने के साथ ही कैडर रिव्यू पर चर्चा की गई। कैडर रिव्यू के तहत सेना में ब्रिगेडियर रैंक को खत्म करने का विचार है। सेना के आधुनिकीकरण की प्रक्रिया और सेना को नए हथियारों और मोर्चे पर तैनात करने पर भी विचार किया गया। इस संबंध में अगले माह कमांडरों की बैठक में विस्तार से चर्चा होगी।