• Home
  • Union Territory News
  • Delhi News
  • News
  • दुकानदार पर फायरिंग कर 50 लाख फिरौती मांगने वाला संदीप डूमा अरेस्ट
--Advertisement--

दुकानदार पर फायरिंग कर 50 लाख फिरौती मांगने वाला संदीप डूमा अरेस्ट

फर्रुखनगर स्थित राधे स्वीट्स के मालिक पर फायरिंग कर 50 लाख रुपए रंगदारी मांगने के मुख्य आरोपी को उसके साथी सहित...

Danik Bhaskar | Jun 12, 2018, 02:10 AM IST
फर्रुखनगर स्थित राधे स्वीट्स के मालिक पर फायरिंग कर 50 लाख रुपए रंगदारी मांगने के मुख्य आरोपी को उसके साथी सहित बिलासपुर अपराध शाखा ने डाबोदा मोड़ से गिरफ्तार किया। वारदात में संलिप्त तीन आरोपियों को पुलिस पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है। आरोपी एक साल पहले जेल से जमानत पर बाहर आए थे। आसानी से रुपए कमाने के लिए आरोपियों ने अपराध की राह चुनी। सोमवार को आरोपियों को कोर्ट में पेशकर रिमांड पर लिया गया।

सोमवार को डीसीपी क्राइम सुमित कुहाड़, एसीपी क्राइम शमशेर सिंह ने पत्रकारवार्ता का आयोजन किया। उन्होंने बताया कि 18 अप्रैल को राधे स्वीट्स फर्रुखनगर के मालिक पर कुछ लोगों ने फायरिंग कर 50 लाख रुपए की रंगदारी मांगी थी। मामले की जांच बिलासपुर अपराध शाखा को सौंपी गई। जांच के दौरान अपराध शाखा ने कुछ दिन पहले मेरठ से तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा था और अन्य आरोपियों की तलाश कर रही थी। सूचना के आधार पर अपराध शाखा ने रविवार को दो अन्य आरोपियों को फर्रुखनगर के डाबोदा मोड़ से गिरफ्तार किया। आरोपियों की पहचान गांव डुम्मा फर्रुखनगर निवासी संदीप उर्फ डूमा (28) व गांव जुडौला फर्रुखनगर निवासी प्रवीण उर्फ काला उर्फ अड्डे (28) के रूप में हुई। रविवार को दोनों आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। सोमवार को कोर्ट में पेश कर उन्हें रिमांड पर लिया। डीसीपी ने बताया कि साल 2009 में आरोपियों ने आसानी से रुपए कमाने के लिए अपराध की राह पकड़ ली थी। इसके बाद उन्होंने हत्या, हत्या के प्रयास, लूट आदि वारदातों को अंजाम दिया। इन्होंने ज्यादातर वारदात पटौदी, फर्रुखनगर क्षेत्र में की हैं। हत्या के मामले में आरोपी पकड़ा गया था जिसे एक साल पहले जमानत मिली थी। प्रारंभिक पूछताछ में आरोपी संदीप पर 9 केस तथा प्रवीण पर 10 केसों का खुलासा हुआ है। बिलासपुर अपराध शाखा प्रभारी उप निरीक्षक सुरेंद्र सिंह ने बताया कि आरोपी वारदात को अंजाम देने से पहले रैकी करते थे। उस व्यक्ति को निशाना बनाया जाता था जिसे डराते ही रुपए मिल जाएं।

गुड़गांव. आरोपियों से पूछताछ के बाद जानकारी देते पुलिस अधिकारी।