• Home
  • Union Territory News
  • Delhi News
  • News
  • कठुआ दुष्कर्म मामला: सीबीआई जांच और आरोपी की तरफ से गवाहों को सुरक्षा नहीं
--Advertisement--

कठुआ दुष्कर्म मामला: सीबीआई जांच और आरोपी की तरफ से गवाहों को सुरक्षा नहीं

सुप्रीम कोर्ट ने कठुआ में 8 साल की बच्ची से सामूहिक दुष्कर्म और हत्या के मामले की सीबीआई जांच कराने से इनकार कर दिया...

Danik Bhaskar | May 17, 2018, 02:05 AM IST
सुप्रीम कोर्ट ने कठुआ में 8 साल की बच्ची से सामूहिक दुष्कर्म और हत्या के मामले की सीबीआई जांच कराने से इनकार कर दिया है। इसके अलावा कोर्ट ने मामले के एक आरोपी की तरफ से गवाही देने वालों को सुरक्षा मुहैया करवाने से भी इनकार कर दिया। सुप्रीम कोर्ट ने एक बार फिर साफ कर दिया कि कठुआ मामले की जांच जम्मू-कश्मीर पुलिस की क्राइम ब्रांच ही करेगी। मामले के मुख्य आरोपियों में से एक विशाल जंगोत्रा की तरफ से गवाही देने वाले उसके तीन दोस्तों- साहिल, सचिन और नीरज शर्मा ने कोर्ट से पुलिस प्रताड़ना से बचाने, सुरक्षा देने और मामले की सीबीआई जांच की अपील की थी। तीनों जम्मू के रहने वाले हैं और उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर के कृषि कॉलेज में विशाल जंगोत्रा के साथ पढ़ते हैं। उनका आरोप है कि पुलिस ने उन्हें 19 से 31 मार्च के बीच शारीरिक और मानसिक यातना दी। याचिकाकर्ताओं के वकील ने कहा, ‘विशाल जंगोत्रा सात जनवरी से 10 फरवरी तक मुजफ्फरनगर में तीनों गवाहों के साथ था, जबकि छात्रों को इससे अलग बयान देने के लिए मजबूर किया जा रहा है। उस दौरान विशाल तीनों गवाहों के साथ परीक्षा और प्रैक्टिकल में शामिल हुआ।’ वकील ने आरोप लगाया कि क्राइम ब्रांच से छात्रों की जान को खतरा है, इसलिए उन्हें सुरक्षा प्रदान की जानी चाहिए, लेकिन कोर्ट ने दोनों मांगें खारिज कर दी।

दुष्कर्म के बाद 8 साल की बच्ची की हुई थी हत्या

पूर्व मंत्री प्रजापति की जमानत याचिका खारिज

दुष्कर्म मामले में यूपी की सपा सरकार में मंत्री रहे गायत्री प्रजापति की जमानत याचिका बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दी। राज्य सरकार ने प्रजापति की जमानत याचिका के खिलाफ शीर्ष अदालत में दलील दी कि पूर्व मंत्री के खिलाफ पर्याप्त सबूत मिले हैं। दोनों पक्षों की दलीलों को सुनने के बाद अदालत ने जमानत याचिका खारिज कर दी। प्रजापति पिछले साल से जेल में हैं।