Hindi News »Union Territory »New Delhi »News» ट्रैफिक पुलिस का हिस्सा बने 319 ट्रैफिक प्रहरी, जो राजधानी के चौक-चौराहों पर कंट्रोल करेंगे ट्रैफिक

ट्रैफिक पुलिस का हिस्सा बने 319 ट्रैफिक प्रहरी, जो राजधानी के चौक-चौराहों पर कंट्रोल करेंगे ट्रैफिक

राजधानी की ट्रैफिक व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने के लिए दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने सोमवार को ‘ट्रैफिक प्रहरी...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 01, 2018, 03:05 AM IST

ट्रैफिक पुलिस का हिस्सा बने 319 ट्रैफिक प्रहरी, जो राजधानी के चौक-चौराहों पर कंट्रोल करेंगे ट्रैफिक
राजधानी की ट्रैफिक व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने के लिए दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने सोमवार को ‘ट्रैफिक प्रहरी स्कीम’ लॉन्च की। आईआईटी दिल्ली के दुर्गा हॉल में आयोजित कार्यक्रम में पुलिस कमिश्नर (सीपी) अमूल्य पटनायक ने इसे लॉन्च किया।

कार्यक्रम के दौरान 319 ट्रैफिक प्रहरी नियुक्त किए गए, जो राजधानी के 319 चौक-चौराहों पर ट्रैफिक व्यवस्था को कंट्रोल करने में ट्रैफिक पुलिस की मदद करेंगे। इसके अलावा उन 40 लोगों के सम्मानित भी किया गया, जिन्होंने ‘ट्रैफिक सेंटिनल’ एप की मदद से ट्रैफिक नियमों को तोड़ने वालों की फोटो-वीडियो एप पर भेजकर ट्रैफिक पुलिस की मदद की। कोई भी आम नागरिक किसी भी उम्र का हो वह ट्रफिक प्रहरी बन सकता है, इसके लिए किसी डिग्री की भी आवश्यकता नहीं है।

ट्रैफिक पुलिस ने लॉन्च की ‘ट्रैफिक प्रहरी स्कीम’

8000 फोटो भेजने वाले योगेश को इनाम में बाइक मिली

फर्स्ट विनर योगेश धवन| फ्रूट कारोबारी हैं। एक साल में नियम तोड़ने वाले 8000 लोगों की फोटो ट्रैफिक पुलिस को भेजी थी। इन्हें बाइक देकर सम्मानित किया गया। योगेश ने भास्कर से बातचीत में कहा कि जो भी थोड़ा समय निकलता है, उसी में नियम तोड़ने वालों की फोटो खींच लेता हूं।

अजय मेहरा| उत्तम नगर में रहते हैं। इन्होंने ट्रैफिक नियम तोड़ने वाले 2000 लोगों की फोटो भेजी थी। इसमें से 800 फोटो रिजेक्ट हो गए। 1500 रुपए देकर सम्मानित किया गया। अजय ने बताया कि वह पैसों के लिए यह नहीं करते हैं। ट्रैफिक नियम तोड़ने वाले खुद के साथ दूसरों की जान भी जोखिम में डालते हैं।

बलजीत कौर| होटल मैनेजमेंट क्षेत्र से जुड़ी हैं। ट्रैफिक नियम तोड़ने करीब 2000 लोगों की फोटो भेजी थी। इन्हें सम्मानित किया गया। इन्होंने बताया कि बस में सफर करते समय, पैदल चलते समय, बाजार में या जहां भी ट्रैफिक नियम का उल्लंघन देखती हूं, फोटो खींचकर एप पर अपलोड कर देती हूं।

बिना पैसे लिए ऐसे काम करेंगे ट्रैफिक प्रहरी...

विशेष आयुक्त ट्रैफिक दीपेंद्र पाठक ने बताया कि 319 ट्रैफिक प्रहरी स्वेच्छा से शामिल हुए हैं। सीलमपुर चौक पर सेवा देने वाले गंगाराम को भी इसमें शामिल किया गया है, जो सड़क दुर्घटना में बेटे की मौत के बाद से ट्रैफिक कंट्रोल करने में मदद कर रहे हैं। दीपेंद्र पाठक ने बताया कि ये प्रहरी सप्ताह में कम से कम दो दिन 3-3 घंटे तक ट्रैफिक कंट्रोल करने में मदद करेंगे।

कोई भी महिला और पुरुष बन सकता है ट्रैफिक प्रहरी

दिल्ली ट्रैफिक पुलिस के वेस्टर्न रेंज डीसीपी दिनेश गुप्ता ने बताया कि ट्रैफिक प्रहरी बनने के लिए कोई बाध्यता नहीं है। किसी भी उम्र की महिला या पुरुष ट्रैफिक प्रहरी बन सकता है। इसके लिए किसी डिग्री की भी कोई आवश्यकता नहीं है। कोई भी अपनी स्वेच्छा से इससे जुड़ सकता है। जुड़ने के बाद उसका तीन साल के लिए पंजीकरण हो जाएगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×