--Advertisement--

संतोष सिंह की पैरोल अर्जी पर कोर्ट ने पढ़ाई का ब्योरा मांगा

प्रियदर्शिनी मट्टू दुष्कर्म व हत्या के मामले में उम्रकैद की सजा काट रहे दोषी संतोष सिंह की पैरोल याचिका पर...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 03:05 AM IST
प्रियदर्शिनी मट्टू दुष्कर्म व हत्या के मामले में उम्रकैद की सजा काट रहे दोषी संतोष सिंह की पैरोल याचिका पर हाईकोर्ट ने उससे अपनी पढ़ाई का पूरा ब्योरा देने की मांग की है। संतोष ने एलएलएम के पेपर देने के लिए 19 मई से एक सप्ताह की पैरोल मांगी है। 22 मई से उसकी परीक्षा है। कोर्ट ने संतोष से जवाब में यह बताने के लिए कहा कि उसने कौन सा कोर्स किस वर्ष में किया, ये बताएं। कोर्ट ने उसे यह बताने को भी कहा कि उसकी पढ़ाई कब तक पूरी होगी।

पुलिस का पक्ष : 2012 से कर रहा कोर्स, कब पूरा होगा

जस्टिस मुक्ता गुप्ता की बेंच के समक्ष दिल्ली पुलिस के स्टैंडिंग काउंसिल राहुल मेहरा ने कहा कि संतोष 2012 से दो साल के एलएलएम पाठ्यक्रम की पढ़ाई कर रहा है, पूरा करने में कितना वक्त लगेगा। संतोष एलएलएम की परीक्षा देने के साथ बिहार में शादी में शामिल होने के लिए भी पैरोल मांग रहा है। उसने पहले भी पैरोल मांगी थी, उसके रिश्तेदार की कितनी बार शादी होगी।

कोर्ट : पढ़ने से नहीं रोक सकते, पर कोर्स कब तक चलेगा

कोर्ट ने कहा कि किसी को पढ़ाई करने से नहीं रोका जा सकता। लेकिन याची को बताना होगा कि एलएलएम कब तक चलेगा। जब घटना हुई थी तब एलएलबी पूरी हो चुकी थी और वह उस समय किसी और पाठ्यक्रम की पढ़ाई कर रहा था।

याची की दलील : संतोष दो हिस्सों में एलएलएम कर रहा

याची के वकील ने कहा कि संतोष दो हिस्सों में एलएलएम कोर्स की पढ़ाई कर रहा है। पूर्व में पैरोल मिलने के बाद उसकी अवधि खत्म होने पर उसने सरेंडर कर दिया था। आजकल कैदियों का पैरोल के लिए किसी कोर्स में शामिल होने का चलन बन गया है।

प्रियदर्शिनी से दुष्कर्म और हत्या का दोषी है संतोष

पूर्व आईपीएस के बेटे संतोष पर जनवरी 1996 में प्रियदर्शिनी मट्टू से दुष्कर्म के बाद उसकी हत्या करने का दोष साबित हुआ था। निचली अदालत ने उसे वर्ष 1999 में बरी किया था, हाईकोर्ट ने उसे फांसी की सजा सुनाई थी जिसे सुप्रीम कोर्ट ने उम्रकैद में तब्दील कर दिया था।