दिल्ली न्यूज़

--Advertisement--

यूपीएससी परीक्षा पास किए बिना भी बन सकेंगे ज्वाइंट सेक्रेटरी

केंद्र सरकार ने प्रशासनिक सुधार की सिफारिशों को कुछ संशोधनों के साथ लागू कर दिया है। इसके जरिए अब निजी कंपनियों के...

Dainik Bhaskar

Jun 11, 2018, 03:05 AM IST
केंद्र सरकार ने प्रशासनिक सुधार की सिफारिशों को कुछ संशोधनों के साथ लागू कर दिया है। इसके जरिए अब निजी कंपनियों के सीनियर और कुशल अधिकारी सरकारी नौकरशाही में आ सकेंगे। इसे नौकरशाही में पैराशूट अधिकारियों की एंट्री के लिए बड़ा बदलाव माना जा रहा है। केंद्र सरकार ने 10 विभागों में ज्वाइंट सेक्रेटरी के पदों के लिए लैटरल एंट्री की अधिसूचना जारी कर दी है। केंद्रीय कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग की ओर से जारी विज्ञापन में नियुक्ति शर्तें एवं याेग्यताएं बताई गई हैं। इसमें कहा गया है कि लैटरल एंट्री के तहत 10 ज्वॉइंट सेक्रेटरी की पोस्ट के लिए “टैलेंटेड और मोटिवेटेड’ भारतीयों की तलाश है। प्रमुख अखबारों में प्रकाशित विज्ञापन में कहा गया है कि भारत निर्माण में भागीदारी के इच्छुक योग्य उम्मीदवार आवेदन कर सकते हैं। शेष | पेज 7 पर

3 साल के लिए नियुक्ति, इंटरव्यू से होगा चयन

डीओपीटी के अनुसार मंत्रालयों में ज्वाइंट सेक्रेटरी के पद पर नियुक्ति होगी। चयन सिर्फ इंटरव्यू से होगा। सामान्य ग्रेजुएट और किसी सरकारी, पब्लिक सेक्टर यूनिट, यूनिवर्सिटी के अलावा किसी प्राइवेट कंपनी में 15 साल काम का अनुभव रखने वाले आवेदन दे सकते हैं। कार्यकाल 3 साल का होगा। इसे 5 साल तक बढ़ाया जा सकेगा। अधिकतम उम्र की सीमा तय नहीं है, जबकि न्यूनतम उम्र 40 साल है। वेतन और अन्य सुविधाएं केंद्र सरकार के ज्वाइंट सेक्रेटरी के समान होगा। यानी इन्हें 1 लाख 44 हजार 200 रुपए से लेकर 2 लाख, 18 हजार, 200 रुपए तक सैलरी मिल सकती है।

X
Click to listen..