Hindi News »Union Territory »New Delhi »News» शऽऽऽ... सरकार धरने पर है | 7 बार एलजी से मिलने का समय मांगा, जब मिला तो राजनिवास में ही धरने पर बैठे मुख्यमंत्री

शऽऽऽ... सरकार धरने पर है | 7 बार एलजी से मिलने का समय मांगा, जब मिला तो राजनिवास में ही धरने पर बैठे मुख्यमंत्री

शाम 5.30 बजे से शुरू हुआ धरना देर रात तक जारी रहा। मंत्रियों के साथ केजरीवाल वहीं सोफे पर लेट गए। हमारी मांगें...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 12, 2018, 03:05 AM IST

शऽऽऽ... सरकार धरने पर है | 7 बार एलजी से मिलने का समय मांगा, जब मिला तो राजनिवास में ही धरने पर बैठे मुख्यमंत्री
शाम 5.30 बजे से शुरू हुआ धरना देर रात तक जारी रहा। मंत्रियों के साथ केजरीवाल वहीं सोफे पर लेट गए।

हमारी मांगें मानना एलजी का दायित्व: केजरीवाल

मांगें मनवाने के लिए धमका रहे हैं सीएम: एलजी

भास्कर न्यूज|नई दिल्ली

दिल्ली में सोमवार को फिर सियासी पारा उफान पर आ गया। एलजी अनिल बैजल से मिलने पहुंचे सीएम अरविंद केजरीवाल मुलाकात के बाद राजनिवास में ही धरने पर बैठ गए। केजरीवाल के साथ डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया, मंत्री सत्येंद्र जैन और गोपाल राय के साथ वहीं धरने पर बैठे। केजरीवाल और उनके मंत्रियों की मांग है कि एलजी दिल्ली में आईएएस अफसरों की हड़ताल खत्म कराएं, हड़ताल के लिए अफसरों पर कार्रवाई करें और राशन की डोर स्टेप डिलीवरी की योजना को मंजूरी दंे। केजरीवाल और सिसोदिया ने राजनिवास से ही ट्वीट कर कहा-एलजी मिले पर उन्होंने हमारी मांगें मानने से इंकार कर दिया। जब तक ये तीनों मांगें नहीं मानी धरना खत्म नहीं होगा। हमारी मांगे मानना एलजी का दायित्व है। वहीं, एलजी अनिल बैजल ने कहा-आईएएस ऑफिसर्स को तुरंत बुलाकर एक्शन करने की मांग के साथ मुख्यमंत्री ने धमकी दी। ये बिना वजह धरना है।

अंदर ‘सरकार’ तो बाहर साथी धरने पर बैठे

धरने की खबर मिलते ही राजनिवास के बाहर आधा दर्जन से ज्यादा आईपीएस अधिकार समेत 150 पुलिस कर्मी तैनात कर दिए गए। सांसद संजय सिंह को बेरिकेट्स पर रोक दिया। मंत्री राजेंद्र पाल गौतम समेत कई विधायकों को पुलिस ने रोका तो वहीं धरने पर बैठ गए।

सुबह से तैयार थी स्क्रिप्ट, एलजी हाउस जाने से छह घंटे पहले से एलजी पर 21 बार हमला पढ़ें | पेज 02

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×