--Advertisement--

जालसाज गर्लफ्रेंड के लिए 19 साल के बिजनेसमैन ने दी जान, 3 पेज के सुसाइड नोट में लिखी पश्चाताप की बातें

3 पेज के सुसाइड नोट में लिखा-मैंने तेरी खुशी के लिए क्या नहीं किया लेकिन तू धोखेबाज निकली।

Dainik Bhaskar

Jun 14, 2018, 12:29 PM IST
डेमो फोटो डेमो फोटो

नई दिल्ली. राजधानी में 13 जून को एक 19 साल के बिजनेसमैन ने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। वह एक लड़की से डेढ़ साल से प्रेम करता था। जिसने उसे धोखा दे दिया था। मामला गांधी नगर का है। उसकी जेब में तीन पेज का एक सुसाइड नोट भी मिला है। 13 साल की लड़की से प्रेम, वही बनी मौत की जिम्मेदार...

- सुसाइड नोट में लड़के ने अपनी आत्महत्या के लिए प्रेमिका को जिम्मेदार बताया है।

- परिवार में पिता सतपाल, मां, दो छोटे भाई और एक छोटी बहन हैं। वह बेड की चादर का फंदा बनाकर पंखे से लटक गया था। राजबीर का परिवार मूलरूप से अलीगंज (यूपी) का रहने वाला है।

- कुछ साल पहले सतपाल परिवार के साथ गांधी नगर में रहने लगे थे। उन्होंने दर्जी की दुकान शुरू की थी। राजबीर 15 साल का हुआ तो काम बढ़ाने के लिए सिलाई का कारखाना शुरू कर दिया। इसके लिए कुछ वर्कर भी रखे थे। धीरे-धीरे कारखाना चलने लगा और परिवार की आर्थिक स्थिति बेहतर होने लगी। इस बीच उसे मोहल्ले में ही रहने वाली 13 वर्षीय किशोरी से प्रेम हो गया।

सुसाइड नोट... तेरे कारण ही मेरा कारोबार चौपट हुआ

बिजनेसमैन युवक ने तीन पेज के सुसाइड नोट में लिखा, “मैंने तेरे (गर्लफ्रेंड) प्यार के लिए दुनिया की हर खुशी न्योछावर कर दी। हर कदम, हर सांस पर मैंने तेरा साथ दिया। लेकिन तू धोखेबाज निकली। मैंने तेरी खुशी के लिए क्या नहीं किया। मां-बाप को छोड़ा, शराब पीने लगा। बिजनेस में घाटा उठाया लेकिन तू धोखेबाज निकली। तेरे कारण मेरे मां-बाप ने मुझ पर विश्वास करना छोड़ दिया। मेरा कारोबार चौपट हो गया। तेरे कारण मेरे ऊपर काफी कर्ज हो गया है। अब ज्यादा कर्ज होने के बाद तू मुझे छोड़कर चली गई। मेरे मरने के बाद ये नोट मेरी धोखेबाज गर्लफ्रेंड को दे देना। जिसे पढ़कर उसे पता चल सके कि मैंने उसे किस हद तक प्यार किया और बदले में उसने मेरे साथ क्या किया।’

हनीट्रैप... किशोरी पहले भी एक लड़के को प्यार में फंसा कर पॉक्सो एक्ट में जेल भिजवा चुकी है

- पुलिस ने बताया कि किशोरी पहले भी एक लड़के को पॉस्को एक्ट के तहत फंसाकर जेल भिजवा चुकी है। परिजनों ने पुलिस को बताया कि वह चार साल से रेडीमेड कपड़े बना रहा था और अच्छा खासा काम चल रहा था लेकिन किशोरी ने उसे प्रेम के जाल में फंसाकर सब बर्बाद कर दिया। हमने उसे समझाया था कि लड़की अच्छी नहीं है।

- काम पर ध्यान दे, लेकिन वह नहीं माना। उसने काम भी छोड़ दिया था। परिजनों ने बताया, राजबीर उस लड़की से शादी करना चाहता था, हमने उसे समझाया कि लड़की अच्छी नहीं है, चाल-चलन ठीक नहीं है। मगर उसने हमारी बातों को अनसुना कर दिया।

पिता बोले... एक महीने पहले ही खरीदी थीं छह नई मशीनें

बिजनेसमैन युवक के पिता सतपाल ने बताया कि उसने कारोबार और बढ़ाने के लिए महीने भर पहले ही कई सिलाई मशीनें खरीदी थीं। लेकिन कुछ दिन से वह परेशान रहने लगा था। न तो ठीक से बात करता था और न ही अपने काम पर ध्यान लगाता था। कई बार उससे इसका कारण जानने की कोशिश की लेकिन वह कुछ नहीं बताता था। देर रात तक मोबाइल से बातें करता रहता था। मंगलवार को नाश्ता करने के बाद बाहर चला गया। बाहर से करीब ढाई घंटे बाद घर आया और अपने कमरे में चला गया। पूरे दिन किसी से भी बात नहीं की। इसके बाद उसने अपने कमरे में खुदकुशी कर ली।

X
डेमो फोटोडेमो फोटो
Bhaskar Whatsapp
Click to listen..