2nd क्लास की छात्रा से बस ड्राइवर ने की गंदी हरकत, बस में अकेली थी वो इसलिए चुप रही, लेकिन घर आकर मां को बताई पूरी बात

नई दिल्ली न्यूज: आरोपी ने अपनी गलती भी स्वीकार की और वह परिवार से माफी मांगने लगा

Bhaskar News

Apr 14, 2019, 12:47 PM IST
New delhi news in hindi Second class child molestation by bus driver

नई दिल्ली पूर्वी दिल्ली के कल्याणपुरी इलाके में केंद्रीय विद्यालय में दूसरी कक्षा की छात्रा से छेड़छाड़ का मामला सामने आया है। छेड़छाड़ उसे लाने-ले जाने वाली स्कूल बस के ड्राइवर ने की। बच्ची ने घर आकर परिजनों को मामले की जानकारी दी। परिजनों ने जिसके बाद आरोपी ने माफी मांग बचने की कोशिश की। लेकिन पीड़ित परिजन इसके लिए तैयार नहीं हुए और उन्होंने पुलिस को खबर कर दी। आरोपी को इस केस में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। उसकी पहचान महेंद्र कुमार (45) के तौर पर हुई। आरोपी मूलरूप से राजस्थान का रहने वाला है।

घटना के समय बस में अकेली थी बच्ची, घर आकर बताई पूरी बात


पुलिस के मुताबिक मयूर विहार एरिया में रहने वाली 6 साल की बच्ची एक केंद्रीय विद्यालय में दूसरी कक्षा में पढ़ती है। बच्ची को स्कूल छोड़ने के लिए परिजनों ने एक प्राइवेट बस लगा रखी है। बुधवार दोपहर स्कूल से घर लाते समय बच्ची बस में अकेली थी। उसे अकेला देख ड्राइवर ने उसके होठों को किस कर लिया। बच्ची ने घर जाकर यह बात अपनी मां को बता दी। अगले दिन सुबह बच्ची की मां ने बस ड्राइवर को बुरी तरह धमकाया। आरोपी ने गलती भी स्वीकार की और वह परिवार से माफी मांगने लगा। इस सबके बीच पीड़ित परिवार ने मामले की खबर पुलिस को दे दी। पुलिस ने आरोपी बस चालक के खिलाफ केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया। शुक्रवार को कोर्ट में पेश करने के बाद उसे जेल भेज दिया गया है।

अगर प्राइवेट वैन से जाते हैं बच्चे, तो भी स्कूल प्रिंसिपल की ही जिम्मेदारी


दिल्ली पैरंट्स असोसिएशन की अध्यक्ष अपराजिता गौतम का कहना है कि दिल्ली शिक्षा निदेशालय के नियमानुसार और सुप्रीम कोर्ट के आदेश के तहत अगर पैरंट्स प्राइवेट वैन का इस्तेमाल करते हैं और उसमें कोई घटना होती है तो स्कूल के प्रिंसिपल जिम्मेवार होंगे। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक स्कूलों को अपने यहां आने वाले प्राइवेट वैन की जानकारी रखनी होगी, साथ ही प्राइवेट वैन के ड्राइवर का लाइसेंस और अन्य डॉक्यूमेंट्स अपने पास रखने होंगे। यही नहीं उसका पुलिस वेरिफिकेशन भी करवाना होगा। एक्शन कमेटी ऑफ अनएडेड रिक्गनाइज्ड प्राइवेट स्कूल के सेक्रेटरी भरत अरोड़ा का कहना है कि पैरंट्स कई बार यह नहीं बताते हैं कि वह किस प्राइवेट वैन से बच्चे को भेज रहे हैं। ऐसे में स्कूल को इन पर नजर रख पाना संभव नहीं होता है। अगर पैरंट्स प्राइवेट वैन की सेवाएं ले रहे हैं तो इसकी जानकारी स्कूल को दें।

X
New delhi news in hindi Second class child molestation by bus driver
COMMENT