दिल्ली न्यूज़

--Advertisement--

रेलमंत्री बोले- ट्रेनों की लेटलतीफी से अभी नहीं मिलेगी निजात; पूरा फोकस अभी सुरक्षा पर

मोदी सरकार के चार साल पर आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में गोयल ने कहा, “अभी रेलवे का फोकस सुरक्षा पर है।

Dainik Bhaskar

Jun 12, 2018, 06:08 AM IST
railway minister piyush goyal says No Plans To Privatise Railways

नई दिल्ली. रेल मंत्री पीयूष गोयल ने सोमवार को संकेत दिए कि ट्रेनों की लेट-लतीफी से अभी निजात मिलने की उम्मीद नहीं है। मोदी सरकार के चार साल पर आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में गोयल ने कहा, “अभी रेलवे का फोकस सुरक्षा पर है। हर स्टेशन पर सीसीटीवी कैमरे लगा रहे हैं। अधिक से अधिक कोचों में कैमरे लगाने की कोशिश है।’ ट्रेन देरी से पहुंचने के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि सुरक्षा से जुड़े काम का बैकलॉग विरासत में मिला है। उसे पूरा करने के चलते ट्रेन परिचालन में देरी हो रही है।

- रेलवे सुरक्षा कोष से ट्रैक की मरम्मत तेजी से जारी है। ट्रेनों का समय और सिग्नल व्यवस्था सुधारने के लिए टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाएगा।

- वहीं, रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्विनी लोहानी ने कहा कि 18 साल में ट्रेनों की संख्या लगभग दोगुना हुई है, लेकिन इस दौरान मूलभूत ढांचों की मरम्मत एवं रखरखाव नहीं हुई। सुरक्षा और मरम्मत के लिए यात्रियों को कुछ तो कीमत चुकानी होगी। भविष्य में इसका फायदा दिखेगा।

- गोयल ने बताया कि 2013-14 में 118 ट्रेन हादसे हुए थे, जो 2017-18 में घटकर 73 रह गए।

रेलवे के निजीकरण की कोई योजना नहीं

- रेलवे के निजीकरण और जीआरपी तथा आरपीएफ को मिलाकर एक बल बनाने के बारे में पूछने पर गोयल ने कहा कि अभी ऐसी कोई योजना नहीं है। उल्लेखनीय है कि तकनीकी अपग्रेडेशन और आधुनिकीकरण के लिए रेलवे विदेशी निवेश तलाश रहा है। इसे लेकर कर्मचारियों यूनियनों ने निजीकरण की आशंका जताई थी।

X
railway minister piyush goyal says No Plans To Privatise Railways
Click to listen..