--Advertisement--

फौगाट परिवार से दिल्ली में मिलीं दक्षिण कोरिया राष्ट्रपति की पत्नी, कहा- वहां भी महाबीर जैसे पिता की जरूरत

किम ने कहा कि साउथ कोरिया में भी लड़कियों को कमतर समझा जाता है और उनके साथ भेदभाव किया जाता है।

Danik Bhaskar | Jul 11, 2018, 07:01 AM IST
दक्षिण कोरिया की फर्स्ट लेडी क दक्षिण कोरिया की फर्स्ट लेडी क

नई दिल्ली. दक्षिण कोरिया की फर्स्ट लेडी किमजोंग-सुक ने महाबीर फौगाट व उनके परिवार से दिल्ली में मुलाकात की। इस दौरान किम ने कहा कि साउथ कोरिया में भी लड़कियों को कमतर समझा जाता है और उनके साथ भेदभाव किया जाता है। अगर वहां भी महावीर फौगाट जैसे पिता और गीता अौर बबीता जैसी बेटिया तो निश्चित तौर पर भारत की तरह यहां भी हालात में सुखद बदलाव हो सकता है। किम ने कहा कि बदलते सुखद हालात के बीच दंगल फिल्म के आने से लोगों की सोच बदली है। महावीर ने कहा कि देश की ओर से अवसर मिला तो वे कोरिया में जाकर भी पहलवानी सिखाने को तैयार हैं।

सभी ने एक बार फिर दंगल फिल्म देखी

किमजोंग-सुक ने फौगाट परिवार को कोरिया आने का निमंत्रण भी दिया। हालांकि, कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन फोगाट परिवार से मुलाकात में शामिल नहीं हो पाए। महावीर ने कोरिया की फर्स्ट लेडीज किम जोंग सुक को गदा, हनुमान, लक्ष्मी और गणेश की मूर्ति, भारतीय साड़ी, अखाड़ा बुक और हस्ताक्षर कर उनको मैसेज भी दिया। उन्होंने उनपर लिखी बायोग्राफी ‘अखाड़ा’ की एक प्रति भी सौंपी है। इस मौके पर मां दयाकौर, गीता फौगाट, बबीता फौगाट व राहुल मौजूद रहे। इस दौरान सभी ने एक बार फिर दंगल फिल्म देखी।