दिल्ली न्यूज़

--Advertisement--

यहां दिखेंगी कई प्रकार की कुरान: किसी ने सोने के पाउडर से कपड़े पर लिखी कुरान तो किसी ने बकरी की खाल पर

जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी की डॉ. जाकिर हुसैन लाइब्रेरी में चल रही प्रदर्शनी।

Dainik Bhaskar

Jun 12, 2018, 02:33 PM IST
8 सेंमी. के पन्नों पर गढ़ी कुरान 8 सेंमी. के पन्नों पर गढ़ी कुरान

नई दिल्ली. रमजान का पाक महीना चल रहा है और ईद इसी हफ्ते है। एेसे में लोगों के लिए 25 जून से शानदार एग्जीबिशन उनका इंतजार कर रहा है। जामिया मिलिया इस्लामिया में डॉ. जाकिर हुसैन लाइब्रेरी में पहली बार कैलिग्राफी पर फोकस करते हुए कई नायाब किस्मों की कुरान तैयार की गई हैं। 11 जून से 25 जून तक सुबह 9.30 बजे से शाम 5 बजे तक प्रदर्शनी आयोजित की जा रही है।

इसमें नौ स्क्रिप्ट में लिखी गई 40 हैंडमेड आर्टवर्क पर कुरान को प्रदर्शित किया गया है। 36 किस्म की सैकड़ों साल पहले लिखी गईं वे कुरान भी प्रदर्शनी में देखने को मिलेंगी, जिन्हें लाइब्रेरी में संरक्षित किया गया है।

400 साल पुरानी, 8 सेंमी. के पन्नों पर गढ़ी कुरान

नूर माइक्रो फिल्म इंटरनेशनल सेंटर की असिस्टेंट डायरेक्टर महदिया ख्वाजापीरी ने बताया कि 400 साल पुरानी कुरान को कैलिग्राफर ने हैंडमेड शीट पर लिखा था। इसमें 30 पारों को 304 पन्नों में समेटा गया है।

बकरे की खाल पर लिखी कुरान बकरे की खाल पर लिखी कुरान

बकरे की खाल पर लिखी कुरान, माइक्रो लेंस से पढ़ पाएंगे

 

दिल्ली के कैरिग्राफर  शमीम अहमद ने बकरे की खाल पर कुरान गढ़ दी है। एक साल में शमीम ने यह नायाब काम किया है। इसके शब्द इतने बारीक हैं कि आप बिना माइक्रो लेंस की मदद से इन्हें पढ़ नहीं सकते। उन्होंने बिना किसी लेंस  या चश्मे के इसे तैयार किया है। इसे जर्मनी में निर्मित एक निब पेन से बनाया है।

8 साल में 300 साल पुरानी कुरान संरक्षित की 8 साल में 300 साल पुरानी कुरान संरक्षित की

सैय्यद अबू हैदर जैदी ने साथियों के साथ मिल 8 साल मेंे 300 साल पुरानी बरोड़ा की जामा मस्जिद की कुरान को नया रूप देते हुए 5 हजार से ज्यादा बार कुरान शरीफ को पढ़कर फिर से इसे संरक्षित किया है। 

3 साल में सोने के पाउडर से पांच मी. लंबे कपड़े पर लिखी कुरान 3 साल में सोने के पाउडर से पांच मी. लंबे कपड़े पर लिखी कुरान

थुलूक स्क्रिप्ट में कैलिग्राफर सरफराज आलम ने 3 में 5 मी. लंबे और 3 मी. चौड़े कपड़े की हैंडमेड शीट पर सोने के पाउडर से कुरान के पारे लिखे हैं। हर शीट पर एक पारा लिखा है।  

एक साल में हाथी के दांतों से तैयार किए गए कुरान के पारे एक साल में हाथी के दांतों से तैयार किए गए कुरान के पारे

प्रदर्शनी में एक एेसा भी खूबसूरत आर्टवर्क तैयार किया गया है, जिसमें हाथी के दांतों का इस्तेमाल करते हुए कुरान के पारे लिखे गए हैं। इसे तैयार करने में एक साल से ज्यादा की मेहनत लगी है।  

 

5 मिमी. से छोटे अक्षरों में लिखी कुरान 5 मिमी. से छोटे अक्षरों में लिखी कुरान

दिल्ली के रहने वाले अल्ताफ हुसैन ने 5 मिमी. से भी छोटे अक्षरों में ढाई मी. लंबी हैंडमेड शीट पर कुरान के पारे लिखे हैं। इसमें कला दर्शाते हुए कुरान के 30 पारे लिखे गए हैं। कई हैंडमेड शीट को एक साथ नस्तालिक स्क्रिप्ट में कुरान लिखी है।

एक लाख खर्च कर तैयार की हैंडमेड कैलिग्राफी में कुरान एक लाख खर्च कर तैयार की हैंडमेड कैलिग्राफी में कुरान

दिल्ली के निजामुद्दीन में रहने वाले मोहम्मद यूसुफ ने कैलिग्राफी आर्ट के जिंदा रखते हुए खुद एक लाख रुपये खर्च करते हुए सोने के पानी का इस्तेमाल करते हुए हैंडमेड शीट पर कुरान गढ़ी है।  

X
8 सेंमी. के पन्नों पर गढ़ी कुरान8 सेंमी. के पन्नों पर गढ़ी कुरान
बकरे की खाल पर लिखी कुरानबकरे की खाल पर लिखी कुरान
8 साल में 300 साल पुरानी कुरान संरक्षित की8 साल में 300 साल पुरानी कुरान संरक्षित की
3 साल में सोने के पाउडर से पांच मी. लंबे कपड़े पर लिखी कुरान3 साल में सोने के पाउडर से पांच मी. लंबे कपड़े पर लिखी कुरान
एक साल में हाथी के दांतों से तैयार किए गए कुरान के पारेएक साल में हाथी के दांतों से तैयार किए गए कुरान के पारे
5 मिमी. से छोटे अक्षरों में लिखी कुरान5 मिमी. से छोटे अक्षरों में लिखी कुरान
एक लाख खर्च कर तैयार की हैंडमेड कैलिग्राफी में कुरानएक लाख खर्च कर तैयार की हैंडमेड कैलिग्राफी में कुरान

Related Stories

Click to listen..