Hindi News »Union Territory »New Delhi »News» Various Types Of Quran Will Appear Here

यहां दिखेंगी कई प्रकार की कुरान: किसी ने सोने के पाउडर से कपड़े पर लिखी कुरान तो किसी ने बकरी की खाल पर

जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी की डॉ. जाकिर हुसैन लाइब्रेरी में चल रही प्रदर्शनी।

Bhaskar News | Last Modified - Jun 12, 2018, 02:33 PM IST

  • यहां दिखेंगी कई प्रकार की कुरान: किसी ने सोने के पाउडर से कपड़े पर लिखी कुरान तो किसी ने बकरी की खाल पर
    +6और स्लाइड देखें
    8 सेंमी. के पन्नों पर गढ़ी कुरान

    नई दिल्ली.रमजान का पाक महीना चल रहा है और ईद इसी हफ्ते है। एेसे में लोगों के लिए 25 जून से शानदार एग्जीबिशन उनका इंतजार कर रहा है। जामिया मिलिया इस्लामिया में डॉ. जाकिर हुसैन लाइब्रेरी में पहली बार कैलिग्राफी पर फोकस करते हुए कई नायाब किस्मों की कुरान तैयार की गई हैं। 11 जून से 25 जून तक सुबह 9.30 बजे से शाम 5 बजे तक प्रदर्शनी आयोजित की जा रही है।

    इसमें नौ स्क्रिप्ट में लिखी गई 40 हैंडमेड आर्टवर्क पर कुरान को प्रदर्शित किया गया है। 36 किस्म की सैकड़ों साल पहले लिखी गईं वे कुरान भी प्रदर्शनी में देखने को मिलेंगी, जिन्हें लाइब्रेरी में संरक्षित किया गया है।

    400 साल पुरानी, 8 सेंमी. के पन्नों पर गढ़ी कुरान

    नूर माइक्रो फिल्म इंटरनेशनल सेंटर की असिस्टेंट डायरेक्टर महदिया ख्वाजापीरी ने बताया कि 400 साल पुरानी कुरान को कैलिग्राफर ने हैंडमेड शीट पर लिखा था। इसमें 30 पारों को 304 पन्नों में समेटा गया है।

  • यहां दिखेंगी कई प्रकार की कुरान: किसी ने सोने के पाउडर से कपड़े पर लिखी कुरान तो किसी ने बकरी की खाल पर
    +6और स्लाइड देखें
    बकरे की खाल पर लिखी कुरान

    बकरे की खाल पर लिखी कुरान, माइक्रो लेंस से पढ़ पाएंगे

    दिल्ली के कैरिग्राफर शमीम अहमद ने बकरे की खाल पर कुरान गढ़ दी है। एक साल में शमीम ने यह नायाब काम किया है। इसके शब्द इतने बारीक हैं कि आप बिना माइक्रो लेंस की मदद से इन्हें पढ़ नहीं सकते। उन्होंने बिना किसी लेंस या चश्मे के इसे तैयार किया है। इसे जर्मनी में निर्मित एक निब पेन से बनाया है।

  • यहां दिखेंगी कई प्रकार की कुरान: किसी ने सोने के पाउडर से कपड़े पर लिखी कुरान तो किसी ने बकरी की खाल पर
    +6और स्लाइड देखें
    8 साल में 300 साल पुरानी कुरान संरक्षित की

    सैय्यद अबू हैदर जैदी ने साथियों के साथ मिल 8 साल मेंे 300 साल पुरानी बरोड़ा की जामा मस्जिद की कुरान को नया रूप देते हुए 5 हजार से ज्यादा बार कुरान शरीफ को पढ़कर फिर से इसे संरक्षित किया है।

  • यहां दिखेंगी कई प्रकार की कुरान: किसी ने सोने के पाउडर से कपड़े पर लिखी कुरान तो किसी ने बकरी की खाल पर
    +6और स्लाइड देखें
    3 साल में सोने के पाउडर से पांच मी. लंबे कपड़े पर लिखी कुरान

    थुलूक स्क्रिप्ट में कैलिग्राफर सरफराज आलम ने 3 में 5 मी. लंबे और 3 मी. चौड़े कपड़े की हैंडमेड शीट पर सोने के पाउडर से कुरान के पारे लिखे हैं। हर शीट पर एक पारा लिखा है।

  • यहां दिखेंगी कई प्रकार की कुरान: किसी ने सोने के पाउडर से कपड़े पर लिखी कुरान तो किसी ने बकरी की खाल पर
    +6और स्लाइड देखें
    एक साल में हाथी के दांतों से तैयार किए गए कुरान के पारे

    प्रदर्शनी में एक एेसा भी खूबसूरत आर्टवर्क तैयार किया गया है, जिसमें हाथी के दांतों का इस्तेमाल करते हुए कुरान के पारे लिखे गए हैं। इसे तैयार करने में एक साल से ज्यादा की मेहनत लगी है।

  • यहां दिखेंगी कई प्रकार की कुरान: किसी ने सोने के पाउडर से कपड़े पर लिखी कुरान तो किसी ने बकरी की खाल पर
    +6और स्लाइड देखें
    5 मिमी. से छोटे अक्षरों में लिखी कुरान

    दिल्ली के रहने वाले अल्ताफ हुसैन ने 5 मिमी. से भी छोटे अक्षरों में ढाई मी. लंबी हैंडमेड शीट पर कुरान के पारे लिखे हैं। इसमें कला दर्शाते हुए कुरान के 30 पारे लिखे गए हैं। कई हैंडमेड शीट को एक साथ नस्तालिक स्क्रिप्ट में कुरान लिखी है।

  • यहां दिखेंगी कई प्रकार की कुरान: किसी ने सोने के पाउडर से कपड़े पर लिखी कुरान तो किसी ने बकरी की खाल पर
    +6और स्लाइड देखें
    एक लाख खर्च कर तैयार की हैंडमेड कैलिग्राफी में कुरान

    दिल्ली के निजामुद्दीन में रहने वाले मोहम्मद यूसुफ ने कैलिग्राफी आर्ट के जिंदा रखते हुए खुद एक लाख रुपये खर्च करते हुए सोने के पानी का इस्तेमाल करते हुए हैंडमेड शीट पर कुरान गढ़ी है।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×