Hindi News »Union Territory News »Chandigarh News »News» Big Brother Was A Drug Addict, So Little Brother Died

पिता पर था कर्ज, बड़ा भाई था नशेड़ी तो छोटे भाई ने जान दी

BhaskarNews | Last Modified - Nov 26, 2017, 05:34 AM IST

पहले उसने भाई को पिता की हालत देख नशा छोड़ने के लिए प्रेरित किया लेकिन वह नहीं हटा।
पिता पर था कर्ज, बड़ा भाई था नशेड़ी तो छोटे भाई ने जान दी

बठिंडा (चंडीगढ़).पिता ने दो माह पहले बेटी की शादी की तो डेढ़ लाख रुपए का कर्ज लिया। हालत सुधर जाते लेकिन बड़ा भाई नशे की लत में डूब गया। घर की जमा पूंजी लुटाने लगा। यह बात 18 साल के छात्र को लगातार परेशान कर रही थी। पहले उसने भाई को पिता की हालत देख नशा छोड़ने के लिए प्रेरित किया लेकिन वह नहीं हटा।

फिर उसने पिता को कहा कि वह पढ़ाई छोड़कर उसके साथ मजदूरी कर लेगा लेकिन पिता-उसके सपनों को पूरा करना चाहते थे। इसी बीच गांव से शहर में कमरा लेकर 11वीं की पढ़ाई करने वाले छोटे भाई ने बड़ा कदम उठा लिया और कमरे के पंखे से लटक कर आत्महत्या कर ली। घटना बठिंडा के आर्दश नगर गली नंबर 1 में एक घर की है। शनिवार की सुबह किराये के मकान में उसकी लाश छत से लटकी मिली।

मरने से पहले उसने एक सुसाइड नोट लिखा जिसमें उसने अपनी मौत के लिए किसी को जिम्मेदार नहीं ठहराया। 18 साल के गुरलाभ सिंह के पिता ने गुरदेव सिंह ने बताया कि वह खेत मजदूर है। उस पर चढ़े कर्ज और बड़े भाई के नशे के आदि होने से गुरलाभ सिंह परेशान था। थाना थर्मल पुलिस के एएसआई सुरजीत सिंह ने बताया कि मृतक के पिता गुरदेव के बयानों के आधार पर धारा 174 की कार्रवाई के बाद शव को परिजनों के हवाले कर दिया है।

प्यारे बापू मेरे सपने वड्‌डे से पर दिल विच ही रक्खे सी
मरने से पहले गुरलाभ सिंह ने एक सुसाइड नोट लिखा था। पंजाबी में लिखे इस सुसाइड नोट में उसने लिखा... प्यारे बापू जी, मैंनू माफ कर दियो। जेहड़ियां गलतियां मैं कितियां ने तुहानूं तंग किता, झूठ बोल्या पर तुहाडे सपने पूरे नहीं कर सकिया। मेरे पूरे होश विच में एहे कम्म रब्ब नू मिलन लेई कर रिहा हां। नाले अपनी बचदी उम्र तुहानूं हौरां दी जिंदगियां बनाउंण लेई रब्ब नू देन लेई कहांगा। बापू जी मेरे सुपने बहुत वड्‌डे सी। अज्ज तक किसे नू दस्से नहीं सी। हर गल दिल रखी सी पर दिल ही रह जाणगे। मेरे मां-पियों नू ऐहे अपील मैं आप खुद ऐह काम करण जा रिहा ताकि रब्ब नू मिल सकां ते पैरां विच बैठ सकां। पिता जी बेगाने -2 हुन्दे सही गल्ल है तुहाडी। -गुरलाभसिंह (मृतक छात्र की तरफ से लिखा सुसाइड नोट)

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Chandigarh News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: pitaa par thaa karj, bड़aa bhaaee thaa nasheड़i to chhote bhaaee ne jaan di
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      More From News

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×