--Advertisement--

IGI एयरपोर्ट: टी-2 पर शिफ्ट होंगी इंडिगो-स्पाइस जेट, टी-1 की भीड़ होगी आधी

मार्च के अंत तक एक दर्जन शहरों के लिए दोनों एयरलाइंस की कुछ उड़ानें टर्मिनल-टू से मिलेंगी

Danik Bhaskar | Mar 09, 2018, 05:35 AM IST

नई दिल्ली. इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के टर्मिनल वन-डी की भीड़ जल्द ही आधी हो जाएगी। 22 दिनों के बाद इस टर्मिनल से जाने वाले मुसाफिरों को लंबी कतारों से नहीं जूझना होगा।
दरअसल, एयरपोर्ट की संचालक संस्था दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (डायल) के पक्ष में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद इंडिगो और स्पाइस जेट ने अपनी कई उड़ानों को टर्मिनल वन-डी से टर्मिनल-टू में स्थानांतरित करने की बात मान ली है। दोनों एयरलाइंस ने कुछ गंतव्य एयरपोर्ट के नाम के साथ एक प्रस्ताव डायल को भेज दिया है। अब डायल और दोनों एयरलाइंस के बीच गंतव्य एयरपोर्ट के नाम को लेकर चर्चा जारी है।

संभावना जताई जा रही है कि इस सप्ताह के अंत तक टर्मिनल टू से शुरू होने वाली उड़ानों के बाबत अंतिम फैसला ले लिया जाएगा। टर्मिनल वन-डी से कुछ उड़ानों को टर्मिनल-टू मे स्थानांतरित करने के प्रस्ताव को ठुकराते हुए इंडिगो एयरलाइंस ने हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था।

एक दर्जन शहरों के लिए टर्मिनल टू से उड़ानें!

एयरपोर्ट के वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार डायल व दोनों एयरलाइंस के बीच एक दर्जन रूट्स के लिए विचार-विमर्श चल रहा है। इंडिगो ने अमृतसर, विशाखापट्‌टनम, बागडोगरा और वडोदरा सहित अन्य शहरों के लिए उड़ानें शुरू करने का प्रस्ताव दिया है। स्पाइस जेट ने पटना, गोवा, अहमदाबाद और कोची सहित सात शहरों की उड़ान टर्मिनल-टू से शुरू करने का प्रस्ताव दिया है। अभी इन गंतव्यों को लेकर अंतिम फैसला लिया जाना बाकी है।

जिद के कारण लगे तीन माह अतिरिक्त
एयरपोर्ट के वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार टर्मिनल-टू जनवरी 2017 में विमानों के परिचालन के लिए तैयार हो गया था। दोनों एयरलाइंस की जिद के चलते उड़ानों के स्थानांतरण में करीब एक साल का अतिरिक्त समय लग गया। इस देरी के चलते टर्मिनल वन-डी के विस्तार का जो कार्य जून 2018 में शुरू होना था, अब वह कार्य सितंबर 2018 में शुरू होगा।