--Advertisement--

दिल्ली: एक दिन में 350 दुकानें सील कीं, विरोध कर रहे लोगों पर लाठीचार्ज

सीलिंग की अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई, लाजपत नगर इलाके में

Danik Bhaskar | Mar 09, 2018, 03:36 AM IST
कोई चीख रहा था तो कोई गिड़गड़ा रहा था, लेकिन राहत किसी को नहीं कोई चीख रहा था तो कोई गिड़गड़ा रहा था, लेकिन राहत किसी को नहीं

नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट के मास्टर प्लान के संशोधन प्रस्तावों पर स्टे देने के बाद गुरुवार को दिल्ली में मॉनिटरिंग कमेटी के आदेश पर सीलिंग की सबसे बड़ी कार्रवाई की गई। साउथ दिल्ली के लाजपत नगर इलाके में एक ही दिन में 350 दुकानें सील कर दी गईं। लोगों ने विरोध किया तो पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया। इसमें कई लोगों को चोटें आईं। पुलिस ने महिलाओं को भी नहीं बख्शा। घटना का कवरेज कर रहे पत्रकारों से भी पुलिस ने हाथापाई और बदसलूकी की। उनके कैमरे छीन कर फोटो डिलीट कर दिए गए।

कोर्ट ने सीलिंग जारी रखने को कहा था, लोगों को बेइज्जत करने और मारपीट का अधिकार पुलिस को किसने दिया?

सुप्रीम कोर्ट ने मास्टर प्लान के संशोधन प्रस्तावों पर स्टे देते हुए सीलिंग से राहत देने से मना कर दिया था। इस पर गुरुवार को दिल्ली में मॉनिटरिंग कमेटी के आदेश पर सीलिंग की सबसे बड़ी कार्रवाई हुई। साउथ दिल्ली के लाजपत नगर में एक ही दिन में 350 दुकानें सील कर दी गईं। इसका लोगों ने जमकर विरोध किया। पुलिस ने जमकर बल प्रयोग कर लाठियां भांजी, जिसमें कई लोग घायल हो गए। एक व्यापारी का सिर फूट गया तो दूसरे के हाथ-पैरों में गंभीर चोट आई है।


सीलिंग की कार्रवाई के लिए साउथ एमसीडी का दल सुबह 10:30 बजे ओल्ड डबल स्टोरी लाजपत नगर-4 पहुंच गया था। सीलिंग की सूचना पर दुकानदार पहले से एकजुट थे। दस्ता के साथ बड़ी संख्या में पुलिस बल था, जिसका दुकानदारों ने विरोध किया। वे पुलिस हाय-हाय के नारे लगा रहे थे। धीरे-धीरे विरोध बढ़ता गया और पुलिस ने लाठी चार्ज कर दिया। इसमें कई दुकानदार और महिलाओं को चोट अाई । घायलों का इलाज एम्स ट्रॉमा सेंटर में चल रहा है।

हजारों बेरोजगार हो गए
गलत तरीके से सीलिंग की कार्रवाई हो रही है। एमसीडी के अधिकारी कुछ भी सुनने को तैयार नहीं हैं। कमर्शियल हो या मिक्स लैंडयूज सभी प्रॉपर्टी को सील किया जा रहा है। लोग कन्वर्जन चार्ज जमा करने के बिल दिखा रहे हैं, मगर कोई कुछ भी सुनने को तैयार नहीं है। हजारों लोगों को एक झटके में बेरोजगार कर दिया है।
-मंदीप सिंह कोहली, महासचिव, ओल्ड डबल स्टोरी लाजपत नगर-4

पुलिस को बल प्रयोग से बचना चाहिए : तिवारी

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा है कि सीलिंग का मुद्दा गंभीर हो गया है। सुप्रीम कोर्ट की मॉनिटरिंग कमेटी के निर्देश पर हुई और हम निगम और पुलिस अधिकारियों की अनुपालन बाध्यता को समझते हैं। पर यह मानवीय मुद्दा भी है, लाखों परिवारों के रोजगार से जुड़ा मुद्दा है। पुलिस को बल प्रयोग से बचना चाहिए। पुलिस के दुर्व्यवहार की शिकायतें निंदनीय है।

सिर पर लगी पुलिस की लाठी, कारोबारी बेहोश

पुलिस के लाठी चार्ज में अमर कॉलोनी ए/7 डबल स्टोरी दुकानदार गौतम बवेजा गंभीर रूप से घायल हुए हैं। बीच बचाव करने आए छोटे भाई अनिल बवेजा के हाथ में भी चोट आई। गौतम के भाई नवीन ने बताया कि पुलिस ने उनके सिर पर लाठी से हमला किया। पुलिस के लाठी से गौतम को पास के ही मेट्रो अस्पताल ले जाया गया, लेकिन खून ज्यादा बहने से एम्स रेफर कर दिया गया। अनिल के हाथ पैरों में गंभीर चोटें आई हैं।

महिला, पुरुष, पत्रकार किसी को नहीं छोड़ा

लाठी चार्ज के दौरान पुलिस ने महिलाओं को भी नहीं छोड़ा। सीलिंग का विरोध कर रही महिलाओं पर जमकर डंडे बसाए। गौतम की बहू रिचा का कहना है कि लाठी चार्ज कमर से नीचे किया जाता है। कवरेज करने पहुंचे पत्रकारों से भी पुलिस ने हाथापाई और बदसलूकी की। कई फोटोग्राफरों के कैमरे छीन लिए। फोटो तक डिलीट कर दिए। उन्हें घंटों थाने में बैठाए रखा। वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के हस्तक्षेप के बाद ही उन्हें थाने से छोड़ा गया।

सीलिंग की कार्रवाई के दौरान एक महिला दुकान का सामान लेकर बाहर आ गई। उनका कहना था कि न कोई सुन रहा है और न दुकान से सामान निकालने का समय दिया जा रहा है। पुलिस ने तो हद ही कर दी। आखिर कौन रोकेगा इन्हें... सीलिंग की कार्रवाई के दौरान एक महिला दुकान का सामान लेकर बाहर आ गई। उनका कहना था कि न कोई सुन रहा है और न दुकान से सामान निकालने का समय दिया जा रहा है। पुलिस ने तो हद ही कर दी। आखिर कौन रोकेगा इन्हें...
महिलाओं से भी की बदसलूकी... महिलाओं से भी की बदसलूकी...
दौड़ा-दौड़ाकर पीटा... दौड़ा-दौड़ाकर पीटा...
जो सामने आया, उसे ही पीट दिया... जो सामने आया, उसे ही पीट दिया...
गर्दन पकड़कर सड़क पर घसीटते रहे... गर्दन पकड़कर सड़क पर घसीटते रहे...