Hindi News »Union Territory »New Delhi »News» Delhi Shopkeepers Seek Exemption From NGT For Cars Parking

दुकानदारों ने कारों के लिए एनजीटी से छूट मांगी तो जवाब मिला- आप लोग पैसा कमा रहे हैं, कुछ खर्च भी कीजिए

एनजीटी का मल्टीलेवल में ही पार्किंग का आदेश लागू होना मुश्किल, क्योंकि लोकेशन गलत, तंग कॉरिडोर और निगम भी गंभीर नहीं

Bhaskar News | Last Modified - Nov 18, 2017, 07:18 AM IST

  • दुकानदारों ने कारों के लिए एनजीटी से छूट मांगी तो जवाब मिला- आप लोग पैसा कमा रहे हैं, कुछ खर्च भी कीजिए
    +1और स्लाइड देखें

    नई दिल्ली. राजधानी में पॉल्यूशन कम करने के मद्देनजर एनजीटी ने दिल्ली की पॉश मार्केट सरोजनी नगर को नो पार्किंग जोन घोषित कर दिया है। अब यहां स्थित सिर्फ मल्टी लेवल कार पार्किंग में ही वाहन खड़े हों सकेंगे। सड़कों पर अनाधिकृत रूप से किसी को वाहन खड़ा करने की अनुमति नहीं है। एनजीटी ने साफ कहा कि नियम तोड़कर सड़क पर कार खड़ी करने वाले चालकों का यातायात पुलिस चालान के अलावा पांच हजार रुपए पर्यावरण शुल्क भी लिया जाए। यहां सड़क किनारे नई दिल्ली नगर पालिका परिषद (एनडीएमसी) की अधिकृत पार्किंग बंद करने के आदेश दिए गए हैं। वहीं, मल्टी लेवल कार पार्किंग को 24 घंटे खोला जाएगा। सभी आदेश सोमवार से लागू होंगे।


    सरोजनी नगर मार्केट एसोसिएशन के दुकानदारों ने अपनी कारों को सड़क पर खड़ा करने की अनुमति मांगी थी। एनजीटी ने अनुमति देने से इनकार करते हुए कहा कि आप लोग पैसा कमा रहे हैं कुछ खर्च भी कीजिए। एनडीएमसी को इस बात की छूट है कि वह मार्केट के आसपास रहने वाले लोगों को पार्किंग शुल्क में रियायत कर सकती है।


    दिल्ली में बढ़ते पॉल्यूशन को लेकर एनजीटी लगातार कड़े आदेश जारी कर रहा है। इससे पहले उसने ऑड-ईवन लागू करने के सरकार के फैसले पर भी सवाल उठाए थे और पूछा था कि हमने प्रदूषण कम करने के लिए अब तक जो आदेश जारी किए, उनमें कितने का पालन किया गया और नहीं किया तो क्यों।

    पार्किंग में ही लग जाएंगे 25 मिनट
    सरोजनी नगर मार्केट में आए एक ग्राहक सुदामा ग्रोवर ने बताया कि मैं कार में बैठा हूं, बेटी मार्केट करके आ रही है। हमें मार्केट में 10 मिनट का भी काम नहीं है लेकिन मल्टीलेवल पार्किंग में गाड़ी पार्क करके निकालने में ही 20 से 25 मिनट लग जाएंगे।


    निगम कार्रवाई एन्फोर्समेंट तक सीमित
    पार्किंग में वाहन न खड़ा करने पर तीनों निगमों ने सिर्फ एन्फोर्समेंट का इस्तेमाल किया। इसके जरिए पार्किंग में वाहन न खड़ा करने पर चालान वसूला जाता है। इसके अलावा मल्टीलेवल पार्किंग को बढ़ावा देने के लिए निगमों ने कुछ नहीं किया।

    इन मामलों में दी राहतइंडस्ट्री को ना

    एनजीटी ने पॉल्यूशन फैलाने वाली इंडस्ट्री को फिलहाल चलाने की अनुमति से इनकार कर दिया है। उन इंडस्ट्री को एनजीटी ने अपने पूर्व के आदेश में चलने की मंजूरी दी थी, जो पॉल्यूशन नहीं करतीं। पराली पर रोक रहेगी।

    ट्रकों का प्रवेश
    ट्रकों को दिल्ली में प्रवेश की अनुमति देते हुए इस मुद्दे पर एलजी के आदेशों का पालन करने का निर्देश दिया है। जल्द ही इस पर अमल होगा। एनजीटी ने ईस्टर्न व वेस्टर्न हाईवे के कंस्ट्रक्शन की भी अनुमति दे दी है।

    पानी की बारिश जारी रहें
    पॉल्यूशन को देखते हुए एनजीटी ने दिल्ली में पानी की बारिश का आदेश दिया है। एनजीटी ने सरकार को यह भी आदेश दिया कि जब कभी पॉल्यूशन बढ़े, तो स्कूलों को बंद करने के लिए एक पॉलिसी बनाई जाए। एक याचिकाकर्ता ने ऑड-ईवन योजना में सीएनजी स्टीकर की धांधली को लेकर अर्जी दायर की है। इस पर एनजीटी ने दिल्ली सरकार को निर्देश दिया कि वह जब कभी योजना लागू करें याची की बात पर विचार करें।

    दो हफ्ते में रिपोर्ट
    एनजीटी ने दो सप्ताह के भीतर दिल्ली, यूपी, हरियाणा समेत सभी राज्यों पॉल्यूशन को लेकर अपनी योजना पेश करने को कहा है। कोर्ट ने कहा कि अगर संबंधित अधिकारी नाकाम साबित हुए तो 5 लाख रुपए तक जुर्माना लगाया जाएगा।


    नियमित सुनवाई
    एनजीटी दिल्ली सरकार की ऑड-ईवन को लेकर दायर याचिका व पॉल्यूशन संबंधी अन्य मुद्दों पर अगली हफ्ते से नियमित सुनवाई करेगी। एनजीटी ने दोपहिया व महिलाओं को छूट देने से इनकार किया था। इसी पर सुनवाई होनी है।

    डिम्ट्स को करेंगे हैंडओवर

    साउथ एमसीडी की सात पार्किंग में 4 की लोकेशन सही नहीं है। इनमें निर्माण संबंधी त्रुटियां दूर कर डिम्ट्स को हैंडअोवर करने जा रहे हैं।
    -पीके झा, सहायक उपायुक्त आरपी सेल, दनि


    आदेश पर कर रहे कार्रवाई
    विभाग ने एनजीटी के आदेश पर कार्रवाई की है। विभाग का मकसद वाहन चालकों को मल्टीलेवल भूमिगत पार्किंग तक लाना है।
    -एमएस सेहरावत, मीडिया प्रभारी, एनडीएमसी


    अच्छी चल रही हमारी पार्किंग
    यहां 7 मल्टीलेवल पार्किंग हैं। इसमें 2600 से अधिक वाहन पार्क करने की क्षमता है और यह कुशलता से चल रही है। एनजीटी के आदेश के हम जल्द से जल्द लागू करने पर विचार करेंगे।
    -वाइएस मान, निदेशक, सूचना प्रसार, उनि

  • दुकानदारों ने कारों के लिए एनजीटी से छूट मांगी तो जवाब मिला- आप लोग पैसा कमा रहे हैं, कुछ खर्च भी कीजिए
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×