--Advertisement--

चलती बस में लगी आग और दरवाजे हुए लॉक, कांच तोड़कर लोगों को निकाला बाहर

आग बस के अगले गेट की तरफ ही भड़की थी और पिछला गेट लॉक हो गया था।

Danik Bhaskar | Nov 30, 2017, 05:13 AM IST

नई दिल्ली. पुल प्रहलादपुर इलाके में शादी समारोह से लौट रही बस में अचानक आग लग गई। हादसे का अहसास होते ही चालक और हेल्पर तो फौरन नीचे कूद गए, लेकिन बच्चे, महिला, पुरुष और बुजुर्ग सहित 45 लोग बस में ही फंसे रहे गए। आग बस के अगले गेट की तरफ ही भड़की थी और पिछला गेट लॉक हो गया था। बस में धुआं भर गया था। ऐसे में मौके पर मौजूद लोगों ने बस के सभी कांच तोड़कर लोगों को बाहर निकाला। इस दौरान बुजुर्ग महिलाओं समेत कुछ लोगों को चोट भी आई। आग पूरी तरह भड़कने से पहले ही सभी को बाहर निकाल लिया गया।

40 मिनट में पहुंची दमकल

दमकल विभाग को हादसे की खबर 1 बजकर 35 मिनट पर मिली। घटना के चालीस मिनट बाद दमकल कर्मी दो गाड़ियों के साथ मौके पर पहुंचे। हालांकि, तब तक बस में मौजूद सभी लोगों को बाहर निकाला जा चुका था। कुछ देर की मशक्कत के बाद दमकल कर्मियों ने आग पर काबू पाया। पुलिस का कहना है कि इस मामले में लापरवाही से हुई दुर्घटना की धारा के तहत मुकदमा दर्ज किया जाएगा। अभी जांच चल रही है।

बस में अधिकतर महिलाएं और बच्चे थे

एम ब्लॉक सौरभ विहार, जैतपुर में रहने वाले चौथमल जांगिड़ की बेटी की मंगलवार को शादी थी। शादी में शामिल होकर सभी निजी बस से देर रात लौट रहे थे। फरीदाबाद की ओर से आ रही यह बस जब एमसीडी टोल पर रुकी। तभी बस में चिंगारी उठी। इसके बाद बोनट से धुआं उठने लगा। ड्राइवर और हेल्पर अनहोनी का अंदेशा देख बाहर कूद गए। बस में आग देख महिलाएं और बच्चे चीखने लगे। लोगों ने बाहर से बस के दोनों तरफ कुछ खिड़कियों के ईंट से शीशे तोड़ दिए। कुछ लोग खिड़की से बाहर निकाले जाने के दौरान बुरी तरह फंस भी गए थे। जिस वजह से उन्हें भी मामूली रुप से चोटें आई। बस में तकरीबन तीस महिलाएं, दस बच्चे और पांच छह पुरुष शामिल थे।