--Advertisement--

केरल: एक माह की बच्ची की हार्ट सर्जरी होनी थी, एंबुलेंस ड्राइवर ने 7 घंटे में तय की 500 किलोमीटर की दूरी

ग्रीन कॉरीडोर: एंबुलेंस के लिए रास्ता खाली करवाने में पुलिस से लेकर सामाजिक कार्यकर्ताओं ने की मदद।

Dainik Bhaskar

Nov 18, 2017, 07:07 AM IST
फाइल फोटो। फाइल फोटो।

तिरुअनंतपुरम. केरल के कुन्नूर में 31 दिन पहले जन्मी बच्ची फातिमा दिल की बीमारी से ग्रस्त थी। हार्ट सर्जरी के लिए उसे कुन्नूर के परियाराम मेडिकल कॉलेज से 500 किलोमीटर दूर तिरुअनंतपुरम के श्री चित्रा तिरुनल इंस्टीट्यूट फॉर मेडिकल साइंसेस एंड टेक्नोलॉजी रेफर किया गया था। इतनी दूरी तय करने में टैक्सी कम से कम 13 घंटे लेती थी। पर डॉक्टर्स ने कहा कि हर हाल में आठ-नौ घंटे में पहुंचना ही होगा। एक एंबुलेंस ड्राइवर ने चुनौती स्वीकार की और महज सात घंटे में ही बच्ची को तिरुअनंतपुरम पहुंचा दिया। एंबुलेंस का रास्ता खाली करवाने में पुलिस से लेकर सामाजिक कार्यकर्ताओं ने भी मदद की।

‘मैंने जिंदगी की सबसे चुनौतीपूर्ण ड्राइविंग की’

- एंबुलेंस ड्राइवर तमीम ने कहा कि यह जिंदगी की सबसे चुनौतीपूर्ण ड्राइविंग थी। मुझे बुधवार शाम बताया गया कि एक बच्ची की जान बचाने के लिए हार्ट सर्जरी होनी है। डॉक्टर्स ने बताया कि उसके पास महज 8-9 घंटे ही हैं। ट्रैफिक साफ करवाने में कुन्नूर से लेकर तिरुअनंतपुरम तक पुलिस और सामाजिक कार्यकर्ता मदद करेंगे। यह सुन हिम्मत बढ़ी और मैंने हां कर दी। शाम 8:30 बजे एंबुलेंस बच्ची को लेकर रवाना हुई। हर जिले में सामाजिक कार्यकर्ता और पुलिस पहले ही हमारा रास्ता साफ करवाए मिलते। सिर्फ कोझिकोड में हम ईंधन भरवाने को रुके। तड़के 3:23 बजे एंबुलेंस तिरुअनंतपुरम अस्पताल में पहुंच चुकी थी।

फाइल फोटो। फाइल फोटो।
X
फाइल फोटो।फाइल फोटो।
फाइल फोटो।फाइल फोटो।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..