Hindi News »Union Territory News »Delhi News »News» NTPC Will Buy Parali For Electricity Generation Due To Delhi Air Pollution

पराली से बनेगी बिजली, किसानों से 5500 रुपए प्रति टन के रेट से खरीदेगा NTPC

Bhaskar News | Last Modified - Nov 17, 2017, 03:44 PM IST

दिल्ली-एनसीआर में पॉल्यूशन की वजह हरियाणा और पंजाब के किसानों के खेतों में जलने वाली पराली को माना जाता है।
  • पराली से बनेगी बिजली, किसानों से 5500 रुपए प्रति टन के रेट से खरीदेगा NTPC
    +1और स्लाइड देखें
    एक एकड़ में दो टन तक पराली निकलती है, इससे किसानों को प्रति एकड़ 11 हजार की आमदनी होगी। (फाइल)

    नई दिल्ली. दिल्ली-एनसीआर में इन दिनों बढ़ते पॉल्यूशन की वजह हरियाणा, उत्तर प्रदेश और पंजाब के किसानों के खेतों में जलने वाली पराली को माना जाता है। इसी से धुंध और स्मॉग बनता है। अब इसी पराली से बिजली बनाने की प्लानिंग है। इस पहल से पॉल्यूशन कम होगा और किसानों को इनकम भी बढ़ेगी। दरअसल, इसका इस्तेमाल कोयले के साथ किया जाएगा। कोयले में 10 फीसदी पराली मिलाई जाएगी और उसका बिजली प्लान्ट में ईंधन के रूप में इस्तेमाल होगा।

    - केंद्रीय बिजली मंत्री आरके सिंह ने गुरुवार को प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना' वेब पोर्टल की लॉन्चिंग के दौरान किया।

    - उन्होंने बताया कि एनटीपीसी किसानों से पराली खरीदेगा। इसके लिए जल्द ही टेंडर जारी किया जा सकता है। किसानों से 5500 रुपए प्रति टन के रेट से पराली खरीदी जाएगी। एक एकड़ में दो टन तक पराली निकलती है। इससे किसानों को प्रति एकड़ 11 हजार रुपए तक की आय होगी। इससे पावर प्लान्ट पर भी कोई बोझ नहीं पड़ेगा। बिजली सचिव एके भल्ला ने कहा कि फसलों के अवशेष का इस सीजन में पावर प्लान्ट में ईंधन के तौर पर उपयोग नहीं हो पाएगा।

    एनजीटी ने एनटीपीसी से पूछा- बिजली प्लान्ट्स में कितनी पराली का उपयोग हो सकता है
    - एनजीटी ने एनटीपीसी को यह बताने का आदेश दिया है कि उत्तर प्रदेश और हरियाणा में उसके पावर प्लान्ट में कितनी मात्रा में फसलों को काटने के बाद बचे कचरे का इस्तेमाल किया जा सकता है। साथ ही, एनजीटी ने उप्र के छह और हरियाणा के एक पावर प्लान्ट में जलाए जा रहे कोयले की मात्रा की जानकारी भी मांगी है।

    पश्चिम एशिया में धूल भरी आंधी ने दिल्ली में बढ़ाया स्माॅग संकट : सफर रिपोर्ट
    - दिल्ली और अासपास के इलाकों में स्मॉग के लिए पराली जलाने को जिम्मेदार बताया जा रहा है, जबकि केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय की एजेंसी सफर की रिपोर्ट के अनुसार स्मॉग की वजह पश्चिम एशिया में धूलभरी आंधी है।

    - पुणे स्थित सफर की रिपोर्ट से पता चलता है कि 8 नवंबर को स्मॉग बढ़ाने में धूलभरी आंधी की भागीदारी 40% थी। 8 नवंबर को पीएम 2.5 बढ़कर 640 माइक्रोग्राम पर क्यूबिक मीटर (यूजी/एम3) पहुंच गया था।

    बर्फ पिघलने से डूबने वाले शहरों की भविष्यवाणी करने के लिए नासा का नया टूल
    - नासा के वैज्ञानिकों ने ग्लोबल वार्मिंग की वजह से बर्फ पिघलने के कारण डूब के दायरे में आने वाले शहरों की जानकारी देने के लिए नया टूल डेवलप किया है।

    - बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, रिसर्चर्स ने कहा कि नए टूल से यह पता लगाया जा सकता है कि किस ग्लेशियर, आइस शीट और आइस कैप के पिघलने से किस रीजन के वॉटर लेवल में इजाफा होगा। काैन से शहर उसकी चपेट में आएंगे।

    अमेरिकी एजेंसी एनओएए का दावा- उत्तर भारत और पाकिस्तान के कई शहरों में स्मॉग और खतरनाक होगा
    - एटमॉस्फीयर पर नजर रखने वाले अमेरिकी संगठन नेशनल ओशनिक एंड एटमॉस्फीयरिक एडमिनिस्ट्रेशन (एनओएए) ने कहा है कि उत्तर भारत और पाकिस्तान के शहरों में लोगों को आगामी कई माह तक धुंध (स्मॉग) का सामना करना पड़ेगा।

    - एनओएए के अनुसार, इस क्षेत्र में यह स्मॉग के मौसम की शुरुआत है। ठंड और स्थायी हवाओं की वजह से पॉल्यूशन बढ़ने की अधिक आशंका है, जिससे शहर खतरनाक तरीके से स्मॉग की चादर में लिपट जाएंगे।

  • पराली से बनेगी बिजली, किसानों से 5500 रुपए प्रति टन के रेट से खरीदेगा NTPC
    +1और स्लाइड देखें
    पिछले दिनों पराली से बढ़ते पॉल्यूशन को कम करने के लिए दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने हरियाणा सीएम मनोहर लाल खट्टर से मुलाकात की थी। इस मीटिंग में पंजाब सीएम नहीं पहुंचे थे। (फाइल)
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Delhi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: NTPC Will Buy Parali For Electricity Generation Due To Delhi Air Pollution
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      रिजल्ट शेयर करें:

      More From News

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×