• Hindi News
  • National
  • UP Panchayat Chunav Election Result 2021 Latest News Toyda Update; BJP Party Zila Panchayat Members Defeated

UP में पंचायत चुनाव के फाइनल नतीजे:सपा-भाजपा पर निर्दलीय भारी, 3050 में से सबसे ज्यादा 944 सीटें इन्होंने ही जीतीं; तीन दिन तक चली मतगणना

लखनऊएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
उत्तर प्रदेश में जिला पंचायत सदस्य की 3050 सीटें हैं। लेकिन वाराणसी में एक प्रत्याशी की मौत के चलते चुनाव स्थगित हो गया था। जबकि एक सीट का परिणाम जारी नहीं हुआ है। - Dainik Bhaskar
उत्तर प्रदेश में जिला पंचायत सदस्य की 3050 सीटें हैं। लेकिन वाराणसी में एक प्रत्याशी की मौत के चलते चुनाव स्थगित हो गया था। जबकि एक सीट का परिणाम जारी नहीं हुआ है।

उत्तर प्रदेश के 75 जिलों की 3,050 सीटों पर हुए जिला पंचायत सदस्यों के चुनाव का फाइनल रिजल्ट तीन दिन तक चली मतगणना के बाद आ गया। एक तरफ जहां सत्तारूढ़ पार्टी भाजपा समर्थित सदस्यों को ज्यादातर जनता ने नकारा तो वहीं सपा कोविड-19 के बिगड़े माहौल और भाजपा के विरोध का फायदा उठाते हुए अपने सदस्यों को जिताने में कामयाब रही। खास बात यह रही कि जीते हुए सदस्यों में सबसे ज्यादा निर्दलीय हैं। अब जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में निर्दलीय पर निर्भर होकर भाजपा और सपा चुनाव मैदान में जंग लड़ेगी।

BJP-SP से ज्यादा निर्दलीय जीते
यूपी के 75 जिलों में कुल 3050 सीटों पर हुए चुनाव में बीजेपी और सपा से ज्यादा निर्दलीयों ने जीत दर्ज की। जिला पंचायत सदस्यों के 3047 सीटों में सपा 759, भाजपा 768, बसपा 319, कांग्रेस 125, रालोद 69, आप 64 और निर्दलीयों को 944 सीटें मिली हैं। खास बात यह है कि निर्दलीय जीते हुए प्रत्याशी सत्तारूढ़ पार्टी भाजपा से टिकट न मिलने से नाराज होकर चुनाव लड़े थे। ऐसा ही समाजवादी पार्टी के भी कई सदस्यों को पार्टी का समर्थन नहीं मिला था। वह भी नाराज होकर मैदान में उतरे और चुनाव जीतकर पहुंचे हैं।

खास बात यह है कि अब उत्तर प्रदेश के जिला पंचायत अध्यक्षों के चुनाव में निर्दलीयों की भूमिका सबसे अहम रहेगी जो कि तय करेंगे कि अगला जिला पंचायत अध्यक्ष कौन चुना जाएगा?

नफरत की राजनीति जनता को पसंद नहीं

सपा के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम ने कहा, 'जनता ने पंचायत चुनाव में यह स्पष्ट कर दिया है कि उत्तर प्रदेश सरकार की नीतियां और व्यवस्था और उसके द्वारा किए गए कार्यों को जनता पसंद नहीं कर रही है। इनके द्वारा लोगों को प्रताड़ित किया जा रहा है, वह जनता ने नकार दिया है। नफरत की राजनीति किसी भी कीमत पर जनता पसंद नहीं करती। भारतीय जनता पार्टी की पॉलिटिक्स फेल हो गई है। जिला पंचायत, ग्राम पंचायत, क्षेत्र पंचायत के परिणाम से यह साबित हो गया है कि भारतीय जनता पार्टी की जुमलेबाजी वादाखिलाफी सब दिखावा है।'

जनता हमें कर रही पसंद, इसका परिणाम विधानसभा में दिखेगा

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा, पंचायत चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने संतोषजनक प्रदर्शन किया है। उनकी पार्टी के 270 जिला पंचायत सदस्य और समर्थित जीते हैं। 571 जिला पंचायत सदस्य दूसरे नंबर पर रहे। 711 कांग्रेस के प्रत्याशी समर्थक तीसरे पायदान पर रहे हैं। हमारी नेता प्रियंका गांधी के नेतृत्व में प्रदेश में क्षेत्र पंचायत, ग्राम पंचायत के पदाधिकारी चुनाव जीते हैं। जिस तरीके से लगातार जनता के हित में कांग्रेस प्रदेश की कानून व्यवस्था के खिलाफ बेरोजगारी के खिलाफ संघर्ष कर रही है। वह जनता पसंद कर रही है। आने वाले समय में इसका परिणाम उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में भी देखने को मिलेगा।