पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एक सप्ताह में बन जाता है आपका नया पासपोर्ट

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

यूटिलिटी डेस्क. भारत के बाहर जन्म लेने वाले आवेदकों को भारतीय पासपोर्ट जारी नहीं किया जाता है। आपके माता-पिता में से कोई एक आपके जन्म के समय भारत का नागरिक रहा हो और उसे भारत सरकार द्वारा नागरिकता प्रदान की गई हो तो यहां का पासपोर्ट बन सकता है। 
पासपोर्ट बनवाने की प्रक्रिया बहुत कठिन नहीं है। यदि मांगे गए सभी दस्तावेज आपने ठीक से नत्थी किए हैं और सभी चेकिंग पॉइंट से आप गुजर चुके हैं तो पासपोर्ट आपके घर आने में कम से कम एक सप्ताह तो लगता ही है। पासपोर्ट दो तरीकों से बनवाया जा सकता है। एक पासपोर्ट ऑफिस जाकर तथा दूसरा ऑनलाइन आवेदन कर। 

1) इस तरह करें पासपोर्ट बनाने के लिए आवेदन

यदि आप पासपोर्ट केंद्र (पीएसके) नहीं जाना चाहते और अपना कीमती समय बचाना चाहते हैं तो 'ऑनलाइन अपॉइंटमेंट सिस्टम' की मदद ले सकते हैं। फॉर्म डाउनलोड करके भरें, साथ ही अपने दस्तावेजों की ई-कॉपी अटैच कर पोर्टल पर अपलोड कर दें। पुलिस वेरीफिकेशन के लिए भी आपको ई-फॉर्म सबमिट करना होता है। ऑनलाइन आवेदन के वक्त आधार कार्ड, वोटर आईडी, पैन कार्ड और आपराधिक रिकॉर्ड न होने का एफिडेविट सबमिट करना होता है। आवेदन व दस्तावेज अपलोड करते ही आपको तीन दिन में अपॉइंटमेंट मिल जाएगा। आपके मोबाइल पर आने वाली सूचना में एप्लिकेशन रेफरेंस नंबर और अपॉइंटमेंट नंबर होता है। अपॉइंटमेंट पर सभी दस्तावेजों के ऑरिजनल साथ ले जाएं। ऑनलाइन के लिए-  लिंक- https://portal2.passportindia.gov.in/AppOnlineProject/welcomeLink# 

वर्तमान में शिशुओं सहित सभी आवेदकों (ऑनलाइन वाले भी) के लिए यह अनिवार्य है कि वे पासपोर्ट ऑफिस जाकर अपने बायोमेट्रिक्स (उंगलियों के निशान) और फोटो सेशन के लिए वहां उपस्थित रहें। यह प्रक्रिया एक तरह से आपका अनुरोध है कि आप पासपोर्ट चाहते हैं। आपका आवेदन विभिन्न कारणों से खारिज भी हो सकता है।

पासपोर्ट के लिए लगने वाली फीस का भुगतान आपको आवेदन के साथ ही करना होता है। यह 1500 से लेकर 2000 रुपए तक होती है। आप नकद भुगतान कर सकते हैं या पासपोर्ट सेवा केंद्र के नाम डिमांड ड्राफ्ट भरें या डेबिट-क्रेडिट कार्ड से ई-भुगतान करें। यदि किसी प्रकार की पेनल्टी लगती है तो वह नकद जमा करानी होती है। अगर तत्काल पासपोर्ट चाहते हैं तो अतिरिक्त शुल्क देना पड़ता है।

दूसरे तरीके में आप पासपोर्ट सेवा केंद्र जाएं और वहां फॉर्म भरकर, दस्तावेज नत्थी कर जमा कर दें। फिर कई डेस्क से गुजरते हुए लंबा समय आपको यहां देना होगा। इसके बाद आपको अपॉइंटमेंट की सूचना दी जाती है। तब आपके फिंगर प्रिंट, आई प्रिंट, फोटो खींचने के साथ ही दस्तावेजों की ई-कॉपी बनाकर कम्प्यूटर में स्टोर की जाती है। हो सकता है काम न बनने पर या दस्तावेज में कोई कमी रहने पर आपको बार बार-बार जाना पड़े। 

6) शिशुओं का भी बायोमेट्रिक्स टेस्ट 

7) पासपोर्ट के लिए लगने वाली फीस 

खबरें और भी हैं...