--Advertisement--

एसबीआई / मोबाइल नम्बर रजिस्टर न होने पर बंद होगी नेट बैंकिंग सर्विस, एटीएम से कर सकते हैं रजिस्टर



sbi internet banking blocked if mobile number not registrar register at ATM
X
sbi internet banking blocked if mobile number not registrar register at ATM

Dainik Bhaskar

Oct 13, 2018, 03:28 PM IST

यूटिलिटी डेस्क. स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) अपनी नेट बैंकिंग की पॉलिसी में बदलाव करने जा रहा है। अगर एसबीआई के नेट बैंकिंग यूजर बैंक के साथ अपना मोबाइल नम्बर रजिस्टर नहीं हैं तो 1 दिसम्बर के बाद उनकी नेट बैंकिंग की सर्विस ब्लॉक कर दी जाएगी। बैंक ने अपनी ऑनलाइन बैंकिंग वेबसाइट (onlinesbi.com) के जरिए ग्राहकों को यह मैसेज भेजना शुरू कर दिया है।

 

आरबीआई द्वारा 6 जुलाई 2017 को जारी किए गए एक सर्कुलर के मुताबिक, बैंक के लिए जरूरी है कि वे अपने ग्राहकों को एसएमएस और ईमेल अलर्ट के लिए मोबाइल नम्बर और ईमेल आईडी रजिस्ट्रेशन के लिए कहें। जिससे कि यूजर को किसी भी लेन-देन की तुरंत जानकारी मिल सके। आरबीआई के इसी निर्देश का पालन करने के लिए एसबीआई द्वारा यह कदम उठाया गया है। स्टेट बैंक के ग्राहकों को एसबीआई की ब्रांच में विजिट करके मोबाइल नम्बर रजिस्ट्रेशन कराना होगा। इसके अलावा नजदीकी एटीएम में विजिट करके भी मोबाइल नम्बर रजिस्टर किया जा सकता है।

एटीएम विजिट करके ऐसे करें मोबाइल नम्बर रजिस्टर

  1. सबसे पहले नजदीकी स्टेट बैंक के एटीएम पर जाएं और कार्ड स्वाइप करें।

  2. इसके बाद अपना एटीएम पिन दर्ज करें।

  3. मेनू ऑप्शन ऑने पर मोबाइल नम्बर रजिस्ट्रेशन का ऑप्शन सिलेक्ट करें।

  4. इसके बाद मांगे जाने पर जिस मोबाइल नम्बर को रजिस्टर करना चाह रहे हैं उसे दर्ज करें।

  5. मोबाइल नम्बर दर्ज करने के बाद करेक्ट ऑप्शन सिलेक्ट करें।

  6. अब एक बार फिर से वही मोबाइल नम्बर दर्ज करें और करेक्ट ऑप्शन सिलेक्ट करके वेरिफाई कर दें।

  7. इतना करने के बाद एटीएम स्क्रीन पर एक मैसेज दिखाई देगा, जिसमें मोबाइल नम्बर रजिस्टर करने के लिए शुक्रिया लिखा रहेगा। अब आपकी रिक्वेस्ट दर्ज हो गई है। इस मैसेज को देखने के बाद आप एक्जिट बटन का इस्तेमाल करके बाहर निकल सकते हैं।

  8. अब रजिस्टर किए जाने वाले मोबाइल नम्बर पर मैसेज के रूप में एक रिफरेंस नम्बर भेजा जाएगा। उसे सेव कर लें।

  9. रिक्वेस्ट दर्ज होने के तीन वर्किंग दिनों के भीतर एसबीआई कॉन्टैक्ट सेंटर से उसी नम्बर पर फोन किया जाएगा। इस दौरान कॉल करने वाला एजेंट ग्राहक से रिफरेंस नम्बर को पूछेगा। जिसे बताना होगा।

  10. रिफरेंस नम्बर बताने के बाद एजेंट ग्राहक से वेरिफिकेशन के लिए उसके बैंक अकाउंट से जुड़ी कुछ जानकारियां पूछेगा। जानकारी वेरिफाई कराने के बाद ग्राहक का मोबाइल नम्बर उसके अकाउंट के साथ रजिस्टर कर दिया जाएगा और बैंक की तरफ से एक मैसेज भेजकर इसकी सूचना ग्राहक को दे दी जाएगी।

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..