नियम / अगर कोई आपसे वसूले ज्यादा जीएसटी, तो आप दर्ज करा सकते हैं शिकायत



the precces of register complaint at national anti profiteering authority
X
the precces of register complaint at national anti profiteering authority

Dainik Bhaskar

May 18, 2019, 10:08 AM IST

यूटिलिटी डेस्क. अगर कोई बिजनेसमैन या कोई संस्था आपसे ज्यादा जीएसटी वसूले या गलत तरीकों से फायदा कमाए, तो उसकी शिकायत आप नेशनल एंटी-प्रॉफिटीयरिंग अथॉरिटी (NAA) के पास दर्ज करा सकते हैं। व्यापारी वर्ग जीएसटी के नियमों का गलत फायदा न उठा सके, यह सुनिश्चित करने के लिए सरकार ने जीएसटी कानून के अंतर्गत इस संस्था का गठन किया है।

जानें संस्था कैसे करती है काम

  1. ग्राहकों के हितों की रक्षा करना है संस्था की जिम्मेदारी

    इस संस्था का सबसे अहम काम है यह देखना कि GST काउंसिल वस्तुओं और सेवाओं की जीएसटी दरों में जो कटौती कर रही है, उसका फायदा ग्राहकों तक पहुंचे। यानी व्यापारी वर्ग जीएसटी दर में कटौती के बाद उत्पादों और सेवाओं के दाम कम कर रहे हैं या नहीं, संस्था इस पर निगरानी रखती है। अगर कोई व्यापारी जीएसटी दरों में कटौती के बाद भी वस्तुओं के दाम में कटौती नहीं करती है, तो संस्था की जिम्मेदारी बनती है कि व्यापारी पर उचित कार्रवाई की जाए।

ऐसे दर्ज करा सकते हैं शिकायत

  1. एनएए के पास कोई भी व्यक्ति आसान चरणों में अपनी शिकायत दर्ज करा सकता है। शिकायत दर्ज कराने के लिए ऑनलाइन और ऑफलाइल दोनों विकल्प मौजूद हैं। अगर आप ऑनलाइन शिकायत दर्ज कराना चाहते हैं, तो तीन कदमों में करा सकते हैं-

  2. रजिस्ट्रेशन

    एनएए की आधिकारिक साइट पर जाकर आपको अपना रजिस्ट्रेशन कराना होगा। इसके लिए आपको रिजस्ट्रेशन फॉर्म में दिए गए सवालों के जवाब देने होंगे। रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया के पूरा होने के बाद आपने जो ई-मेल आईडी दर्ज कराई है, उसपर एक ई-मेल आएगा। इस मेल में दिए गए वेरिफिकेशन लिंक पर क्लिक करके आप वेबसाइट के लॉग-इन पेज पर पहुंच जाएंगे।

  3. लॉग-इन

    आप अपनी रजिस्टर्ड मेल-आईडी और पासवर्ड के इस्तेमाल से कभी भी लॉग-इन कर सकते हैं। इसमें आपको 4 ऑप्शन मिलेंगे-

    • कम्प्लेंट दर्ज कराएं
    • कम्प्लेंट ट्रैक करें
    • कम्प्लेंट्स की हिस्ट्री चेक करें
    • अपना प्रोफाइल एडिट करें।

  4. शिकायत दर्ज कराएं

    यहां पर यूजर को एक कम्प्लेंट फॉर्म दिया जाएगा, जिसमें डिटेल भरने के साथ सबूत भी जमा करना होगा। सबूत को .jpg, .pig, .doc या .pdf फॉर्मेट में अपलोड किया जा सकता है। कम्प्लेंट प्रोसेस पूरा होने के बाद यूजर के पास कम्प्लेंट-आईडी आएगी जिससे कम्प्लेंट को ट्रैक किया जाएगा।
     

शिकायत दर्ज कराने के बाद उसे ट्रैक कर सकेंगे

  1. एक बार शिकायत दर्ज कराने के बाद आप देख सकते हैं कि उसपर कोई कार्रवाई हुई या नहीं। इसके लिए आपको मेल-आईडी और पासवर्ड के साथ लॉग-इन करना होगा और दिए गए चार ऑप्शन में से दूसरे ऑप्शन ‘ट्रैक कम्प्लेंट’ पर क्लिक करना होगा। इसके बाद जो पेज खुलेगा उसमें आपको अपना कम्प्लेंट आईडी (Complaint ID) और कैप्चा लिखना होगा। सब्मिट करते ही आपके पास कम्प्लेंट का स्टेटस आ जाएगा।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना