जरूरत की खबर:PCOS के इन संकेतों को नजरअंदाज न करें, प्रेग्नेंसी और फर्टिलिटी हो सकती है प्रभावित; जानिए इससे बचने के उपाय

2 महीने पहलेलेखक: सुनीता सिंह

आज कल महिलाओं, खासकर यंग लड़कियों, में खराब डाइट और इम्प्रॉपर लाइफ स्टाइल के कारण पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (PCOS) की समस्या काफी ज्यादा देखने को मिल रही है। ये समस्या महिलाओं में 15 से 44 साल के बीच देखी जाती है। एक रिपोर्ट के अनुसार, इस उम्र की 2 से 26% महिलाओं को PCOS की समस्या होती है। महिलाओं में हार्मोनल चेंज के कारण भी ये परेशानी होने का खतरा होता है।

हार्मोनल इम्बैलेंस के कारण ओवरी में छोटी-बड़ी सिस्ट यानी गांठें बन जाती हैं। धीरे-धीरे सिस्ट का आकार बड़ा होते जाता है। इससे महिलाओं में फर्टिलिटी और इर्रेगुलर पीरियड की परेशानी सामने आती है।

हेल्थ लाइन की एक रिपोर्ट के अनुसार, अगर PCOS का देखभाल सही समय पर नहीं की गई तो इसके कई साइड इफेक्ट हो सकते हैं।

आइए जानते हैं, PCOS के कारण, लक्षण और इसको ठीक करने के लिए घरेलू उपाय...