पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नई सुविधा:अब एसएमएस के जरिए दाखिल कर सकते हैं जीएसटी रिटर्न, देशभर के 22 लाख कारोबारियों को होगा फायदा

नई दिल्लीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
एसएमएस के जरिए रिटर्न दाखिल करने के बाद कारोबारी जीएसटी पोर्टल पर लॉग-इन करके कंफर्म कर सकते हैं। - Dainik Bhaskar
एसएमएस के जरिए रिटर्न दाखिल करने के बाद कारोबारी जीएसटी पोर्टल पर लॉग-इन करके कंफर्म कर सकते हैं।
  • निल जीएसटी रिटर्न फॉर्म जीएसटीआर-3बी को दाखिल करने के लिए सरकार ने शुरू की नई सेवा
  • कारोबारियों को हर महीने जीएसटी रिटर्न दाखिल करने के लिए पोर्टल पर लॉगइन नहीं करना होगा

सरकार ने हर महीने निल वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) रिटर्न दाखिल करने वाले कारोबारियों को बड़ी राहत दी है। अब यह कारोबारी एक एसएमएस के माध्यम से निल जीएसटी मासिक रिटर्न जीएसटीआर-3बी को दाखिल कर सकते हैं। केंद्र सरकार ने यह नई सेवा सोमवार से शुरू की है।  

22 लाख कारोबारियों को होगा फायदा

एक बयान के मुताबिक, इस नई सेवा से 22 लाख रजिस्टर्ड करदाताओं को निल जीएसटी दाखिल करने में फायदा होगा। अभी तक इन कारोबारियों को मासिक रिटर्न दाखिल करने के लिए हर बार कॉमन पोर्टल पर अपने अकाउंट में लॉग-इन करना होता है। इस सुविधा को एक्टिवेट करने के बाद करदाताओं को निल जीएसटी रिटर्न दाखिल करने के लिए जीएसटी पोर्टल पर लॉग-इन की जरूरत नहीं होगी और केवल एसएमएस के माध्यम से रिटर्न दाखिल किया जा सकेगा।  

14409 नंबर पर भेजना होगा एसएमएस

जीएसटी की वेबसाइट पर उपलब्ध जानकारी के मुताबिक कारोबारी निल जीएसटी रिटर्न दाखिल करने के लिए 14409 नंबर पर एसएमएस भेज सकते हैं। जानकारी के अनुसार जीएसटीआर-3बी फॉर्म सभी कारोबारियों को दाखिल करना होता है चाहे वो कोई व्यायवासिक गतिविधियां कर रहे हों या नहीं। बयान के मुताबिक एसएमएस के जरिए रिटर्न दाखिल करने के बाद कारोबारी जीएसटी पोर्टल पर लॉग-इन करके कंफर्म कर सकते हैं। जीएसटी वेबसाइट पर एसएमएस भेजने की पूरी प्रक्रिया की जानकारी दी गई है।

इनको मिलेगा नई सेवा का लाभ

  • करदाता को सामान्य टैक्सपेयर, कैजुअल टैक्सपेयर, एसईजेड यूनिट या एसईजेड डवलपर के तौर पर रजिस्टर्ड होने चाहिए।
  • करदाता के पास एक वैध जीएसटीआईएन नंबर होना चाहिए।
  • जीएसटी पोर्टल पर एक वैध फोन नंबर रजिस्टर्ड होना चाहिए।
  • करदाता पर पिछली अवधि के लिए कोई भी टैक्स, ब्याज या लेट फी बकाया नहीं होनी चाहिए।
  • पिछले सभी महीनों के लिए जीएसटीआर-3बी रिटर्न फॉर्म दाखिल होने चाहिए।
खबरें और भी हैं...