• Hindi News
  • Utility
  • Insurance ; Health Insurance ; Covid 19 : Corona ; IRDA Issued Instructions To Insurance Companies Regarding Cashless Treatment, Asked To Sign An Agreement With Hospitals

कोरोना का इलाज:इरडा ने कैसलैस ट्रीटमेंट को लेकर इंश्योरेंस कंपनियों को जारी किए निर्देश, हॉस्पिटलों के साथ एग्रीमेंट करने को कहा

नई दिल्ली9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • इरडा इंश्योरेंस कंपनियों से कोविड-19 के इलाज के लिए अस्पतालों के साथ दरें तय करने को कहा है
  • बीमा कंपनियों को रिंबर्समेंट क्लेम का निपटान हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी के हिसाब से करने के निर्देश भी दिए हैं

इंश्योरेंस रेगुलेटरी (इरडा) ने जनरल और हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियों से कोविड-19 के इलाज के लिए अस्पतालों के साथ दरें तय करने के समझौते करने को कहा है। इरडा ने अपने सर्कुलर में कहा कि कोरोना होने पर बीमाधारक को सही इलाज मिल सके इसके लिए बीमा कंपनियों को अस्पतालों से एग्रीमेंट करने की कोशिश करनी चाहिए। यह समझौता उसी तरह होना चाहिए जैसे बीमा कंपनियों ने अन्य बीमारियों के इलाज की आपूर्ति तय करने के लिए किया है।

कैशलैस क्लेम में ग्राहक को क्या फायदा
इरडा के सर्कुलर के मुताबिक किसी भी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी के तहत कैशलेस क्लेम इंश्योरेंस कंपनी और हेल्थ सर्विस प्रोवाइडर जैसे अस्पतालों के बीच फिक्स्ड रेट्स होने चाहिए।

राज्य, केंद्र शासित सरकारों के निर्णय का रखें ध्यान
इरडा ने कंपनियों से कहा कि इस तरह के समझौते करने से पहले साधारण बीमा कंपनियों की काउंसिल द्वारा तय रेट्स को ध्यान में रखना चाहिए। इसके अलावा राज्य सरकारों या केंद्र शासित प्रदेश के प्रशासन द्वारा कोविड-19 के इलाज की दरों पर भी गौर करना चाहिए।​​​​​

रिंबर्समेंट क्लेम पॉलिसी के हिसाब से निपटें
इरडा ने बीमा कंपनियों को बाद में भुगतान वाले दावों (रिंबर्समेंट क्लेम) का निपटान हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी के हिसाब से करने के निर्देश भी दिए हैं। उसने कंपनियों से पॉलिसी के नियम-शर्तों का सम्मान करने के लिए कहा।

बीमा कंपनियों ने शुरू की थीं कोरोना कवच और कोरोना रक्षक पॉलिसी

कोरोना महामारी को देखते हुए इरडा ने सभी बीमा कंपनियों को बीमा कंपनियों ने छोटी अवधि की कोरोना कवच और कोरोना रक्षक पॉलिसियां जारी करने को कहा था। इयह पॉलिसियां साढ़े तीन महीने, साढ़े छह महीने या साढ़े नौ महीने की अवधि के लिए जारी की जाती हैं। इन पॉलिसियों को तैयार करने का उद्देश्य कोरोना वायरस के इलाज पर होने वाले व्यय पर बीमा सुरक्षा देना था। इन पॉलिसियों का रिन्यूअल या नई पॉलिसी 31 मार्च 2021 तक खरीदी जा सकेंगी।

खबरें और भी हैं...