पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Utility
  • Credit Score ; Cibil Score ; Banking ; Loan ; There Are Many Benefits To A Good Credit Score, You Can Also Correct Your Score By Adopting These 7 Tips.

पर्सनल फाइनेंस:अच्छे क्रेडिट स्कोर के होते हैं कई फायदे, आप भी ये 7 टिप्स अपनाकर सही कर सकते हैं अपना स्कोर

नई दिल्ली7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आपके सिबिल स्कोर से पता चलता है कि वित्तीय मामलों में आपका रिकॉर्ड कैसा है - Dainik Bhaskar
आपके सिबिल स्कोर से पता चलता है कि वित्तीय मामलों में आपका रिकॉर्ड कैसा है
  • क्रेडिट स्कोर की रेंज 300 से 900 के बीच होती है। 750 या इससे अधिक का स्कोर अच्छा माना जाता है
  • यदि आपका क्रेडिट स्कोर अच्छा है तो आपको आसानी से और कम ब्याज दर पर लोन मिल जाएगा

अच्छे क्रेडिट स्कोर (सिबिल स्कोर) के कई फायदे होते हैं। आपके क्रेडिट स्कोर से पता चलता है कि वित्तीय मामलों में आपका रिकॉर्ड कैसा है। यदि आपका क्रेडिट स्कोर अच्छा है तो आपको आसानी से और कम ब्याज दर पर लोन मिल जाएगा। इसीलिए जरूरी है कि आप अपने क्रेडिट स्कोर को अच्छा बनाए रखें। आज हम आपको बता रहे हैं कि आप अपना क्रेडिट स्कोर कैसे अच्छा रख सकते हैं।

बिलों और किस्तों का भुगतान समय पर करें
लोन या कोई अन्य ईएमआई और क्रेडिट कार्ड बकाया को तय समय से पहले चुका दिया जाना चाहिए। अगर आप ये आदत बनाए रखेंगे तो आपका सिबिल सुधरता जाएगा। इसमें लापरवाही न करें।

क्रेडिट यूटिलाइजेशन रेशियो (CUR) सही रखें
क्रेडिट कार्ड की उपलब्ध क्रेडिट लिमिट में से जितना खर्च या इस्तेमाल किया गया है, उसे क्रेडिट यूटिलाइजेशन रेशियो (CUR) कहते हैं। इस रेशियो को जानने के लिए कार्ड की कुल बकाया राशि को कुल क्रेडिट लिमिट से विभाजित करते हैं। उदाहरण के लिए अगर आपके पास दो क्रेडिट कार्ड हैं जिनकी कुल क्रेडिट लिमिट 5 लाख रुपए है, और इसमें से एक कार्ड में बकाया राशि के तौर पर 2 लाख रुपए और दूसरे में 50 हजार रुपए की बकाया राशि है, तो इसके मुताबिक आपका क्रेडिट उपयोग अनुपात 50% है।

अच्छे क्रेडिट स्कोर लिए हमेशा सलाह दी जाती है कि क्रेडिट उपयोग रेशियो 30% से कम ही रखना चाहिए। इससे यह संकेत मिलता है कि आप क्रेडिट कार्ड पर ज्यादा निर्भर नहीं हैं। वहीं अगर आपका क्रेडिट उपयोग रेशियो 50% से ज्यादा है तो लोन देने वाली कंपनी आपको जोखिम वाले ग्राहक के रूप में देखेगी।

लगातार चेक करते रहे क्रेडिट स्कोर
नियमित रूप से क्रेडिट स्कोर को चेक करना भी जरूरी है। अपने क्रेडिट स्कोर की नियमित जानकारी होने से आप उसमें समय रहते सुधार कर सकेंगे। क्रेडिट स्कोर आपको बताता है कि आपके ऊपर कोई अन्य कर्ज तो नहीं या आपने कर्ज चुकाने में कोई गलती तो नहीं की।

कई बार ऐसा भी देखने में आया है कि आपकी क्रेडिट स्कोर अच्छा होना चाहिए लेकिन बैंक द्वारा की गई गलत जानकारी, गलत अकाउंट नंबर, पेमेंट हिस्ट्री का अधूरा अपडेट जैसी कई गलतियों के कारण आपका क्रेडिट स्कोर बिगड़ सकता है। ऐसे में आप बैंक को उनकी गलती के बारे में बता कर इस समस्या को आसानी से निपटा सकते हैं और अपने क्रेडिट स्कोर को सही करा सकते हैं।

अलग-अलग तरह के लोन का भुगतान
एक व्‍यक्ति जिसका कर्ज लौटाने का अच्‍छा रिकॉर्ड होता है उसका सिबिल स्कोर उतना ही अच्‍छा होता है। ऐसे में अगर आपने अभी तक कोई कर्ज नहीं लिया है तो अपने जरूरत के लिए कोई लोन ले सकते हैं इसे समय पर वापस करने पर भी आपका सिबिल स्कोर सुधरेगा। अच्‍छा सिबिल स्कोर बनाने के लिए अच्‍छी लोन हिस्‍ट्री का होना जरूरी है। इसमें सिक्‍योर्ड या अनसिक्‍योर्ड, शॉर्ट टर्म या लॉन्‍ग टर्म अलग-अलग प्रकार के कर्ज शामिल हो सकते हैं।

क्रेडिट कार्ड बंद न करें
आपको अपना क्रेडिट कार्ड अकाउंट बंद करने से बचना चाहिए। इससे शॉपिंग करते रहें और बिल का भुगतान करते रहें। इसके अलावा लगातार अपने ज्वाइंट अकाउंट खातों की, सिबिल स्कोर की समीक्षा करते रहना चाहिए। ज्वाइंट लोन के मामले में किसी ग्राहक पर ईएमआई के पेमेंट की बराबर जिम्मेदारी होती है। इसका क्रेडिट स्कोर पर सीधा असर पड़ता है।

एक साथ कई लोन लेना सही नहीं
कई तरह का लोन और कई बैंकों के क्रेडिट कार्ड से आप कर्ज के जाल में फंस सकते हैं। इसलिए अच्छा क्रेडिट स्कोर रखने के लिए जरूरी है कि आप एक समय पर एक से ज्यादा लोन ना लें क्योंकि इसका असर आपके क्रेडिट पर देखने को मिलता है।

गारंटर बने हैं तो लोन के बारे में जानकारी रखें
अगर आपने किसी के लोन की गारंटी ली है तो ऐसे में अगर कर्जदार लोन की किस्तें नहीं चुका पा रहा है तो लोन का डिफॉल्ट होने पर न केवल लोन लेने वाले व्यक्ति बल्कि गारंटर यानी आपको भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इसका असर आपके क्रेडिट स्कोर पर भी पड़ता है इससे क्रेडिट स्कोर बिगड़ सकता है। इसीलिए अगर आप गारंटर है तो इस बात का ध्यान रखें की कर्जदार सही समय पर किस्तों का भुगतान कर रहा है या नहीं।