पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Utility
  • They Yearned For A Child For Years But Today They Are Struggling To Save This Life!

फीचर आर्टिकल:सालों बाद गोद तो भर गई लेकिन आज उसे बचाने के लिए कर रहे हैं संघर्ष

एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

वर्षों के संघर्ष और कोशिश के बाद आसमा और मोएनावाज को आखिरकार एक बच्चे का आशीर्वाद मिला, लेकिन उनके जीवन में अब एक ठहराव आ गया है क्योंकि उन्हें पता चला कि जिस बच्चे के लिए वे तरस रहे थे, वह अब उनसे दूर होने की कगार पर है

आसमा और उनके पति मोएनावाज नवी मुंबई के नेरुल में रहते हैं और 7 साल से शादीशुदा हैं। पिछले साल, कुछ सालों तक कोशिश करने के बाद, आसमा गर्भवती हुईं। उनकी डिलीवरी मार्च के आसपास होने का अनुमान था, लेकिन अप्रत्याशित रूप से इस साल फरवरी में, आसमा को प्रसव के लिए अस्पताल ले जाया गया।

उसने एक बच्चे को जन्म दिया। जन्म के समय बच्चे का वजन लगभग 900 ग्राम था, जो औसत 3.5 किलोग्राम से बहुत कम था। बच्चे का शरीर कमजोर था और त्वचा फटी हुई दिख रही थी। आसमा और उनके पति को जल्द ही स्थिति की गंभीरता का एहसास हुआ। बच्चे को तुरंत एक इनक्युबेटर में रखा गया और आसमा से अलग कर दिया गया। डॉक्टरों ने स्थिति का आकलन किया और रोग का पता लगाया।

डॉक्टरों ने आसमा को बताया कि बच्चे की स्थिति गंभीर है। यदि हम तुरंत उपचार शुरू नहीं करेंगे तो बच्चा जीवित नहीं रह पाएगा। माता-पिता को बताया गया कि बच्चे को मेच्यौर करने के दिन तक एनआईसीयू (नवजात गहन चिकित्सा इकाई) के तहत रखा जाना चाहिए। इस प्रक्रिया में 24x7 महंगी मशीनरी चलाना शामिल है। अस्पताल ने कहा है कि एनआईसीयू प्रक्रियाओं के लिए इस अनुमानित लागत 13.25 लाख रुपये होगी।

आसमा और उसके पति के पास इतने कम समय में इस बड़ी राशि की व्यवस्था करने का कोई रास्ता नजर नहीं आ रहा है। इस बेबी के पिता मोएनवाज रोते हुए कहते हैं कि "यह जानते हुए कि आप अपने नवजात शिशु के असहाय शरीर का समर्थन करने के लिए कुछ भी नहीं कर सकते हैं, एक माता-पिता के लिए यह अकल्पनीय दर्द है"।

मोएनवाज जो नौकरी कर रहे हैं उसमें बामुश्किल उनका गुजर बसर होता है ऐसे में इतना बड़ा खर्चा वो कहां से कर पाएंगे।

एक परिवार के लिए जो जीवित रहने के लिए मुश्किल से 7500 रुपये की तनख्वाह पर निर्भर है, यह राशि बहुत अधिक है। आसमा दिन-रात अपने बच्चे को बचाने के लिए किसी चमत्कार की प्रतीक्षा कर रही है। इन्हें आपकी मदद की जरूरत है, दया दिखाइए और सामने आइए।

आप उनके लिए चमत्कार हो सकते हैं, अब दान करके अपने बच्चे को बचाने में मदद करें।

दान करने के लिए यहां क्लिक करें

खबरें और भी हैं...