बैंकिंग / डेविड कार्ड से ज्यादा बार पैसे निकालने पर ही नहीं हर छोटी-बड़ी सेवा का देना होता है चार्ज

X

May 15, 2019, 10:00 AM IST

यूटिलिटी डेस्क. बैंक द्वारा ग्राहक को दी जाने वाली हर सेवा के लिए ग्राहकों से शुल्क वसूला जाता है। खाता खुलवाते समय ग्राहक को इन शुल्कों की जानकारी नहीं होती। हम आपको ऐसे ही कुछ चार्जेज के बारे में बता रहे हैं जिनके बारे में आमतौर पर ग्राहक को पता नहीं रहता है।
 

इन सर्विस का भी देना होता है चार्ज

अगर आपको अकाउंट खुलवाए छह माह भी नहीं हुए हैं, तो ज्यादातर बैंक इसे बंद करने की एवज में 50 से 200 रुपए तक का चार्ज वसूलते हैं। अगर आपके अकाउंट से पिछले छह माह से किसी भी तरह का ट्रांजैक्शन नहीं हुआ है, तो इसके लिए भी आपको जुर्माना भरना पड़ सकता है। इसमें सरकारी और निजी बैंकों के अलग-अलग नियम हैं।

एक तिमाही में अपनी ब्रांच से 12 से ज्यादा बार लेनदेन किया है, तो आपके अकाउंट से 12 के बाद हर लेनदेन के 50 रुपए प्रति ट्रांजेक्शन लिए जाएंगे।

आपका अकाउंट जिस ब्रांच में है, उससे अलग किसी और ब्रांच में जाकर आप ट्रांजेक्शन करते हैं, तो इसके लिए भी पैसे चुकाने होंगे। यह चार्ज प्रति हजार रुपए पर पांच रुपए लिया जाता है।

नॉन बेस ब्रांच में एक महीने में दूसरी बार कैश डिपॉजिट करने पर भी बैंक चार्ज करता है। इसके लिए भी अलग-अलग बैंक ने अलग फीस तय की हुई है। कई प्राइवेट बैंक इसके लिए 150 रुपए तक चार्ज करते हैं।

नॉन बेस ब्रांच से एक महीने में दूसरी बार कैश विदड्रॉल का भी चार्ज लिया जाता है। इसके हर बैंक के अलग-अलग चार्ज हैं। 

यदि आप डेबिट या क्रेडिट कार्ड से विदेश में भुगतान करते हैं तो एक्सचेंज रेट के तौर पर में 3-4 फीसद शुल्क लिया जाता है। इसलिए, विदेश में कार्ड को स्वाइप करने से पहले लेनदेन राशि पर 3-4 फीसद अतिरिक्त लागत जोड़ लें।

प्राइवेट बैंक किसी तरह का डॉक्युमेंट- बैलेंस सर्टिफिकेट, इंटरेस्ट सर्टिफिकेट, एड्रेस कन्फर्मेशन, अटेस्टेड सिग्नेचर, अटेस्टेड फोटो आदि के बदले 50 से 200 रुपए तक वसूलते हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना