यात्रा / हज की पूरी प्रक्रिया हुई डिजिटल, ऐसा करने वाला भारत दुनिया का पहला देश

प्रतीकात्मक फोटो प्रतीकात्मक फोटो
X
प्रतीकात्मक फोटोप्रतीकात्मक फोटो

  • पहली बार एयरलाइंस ने की है डिजिटल प्री टैगिंग की व्यवस्था
  • यात्रियों का सिम कार्ड हज मोबाइल एप से लिंक किया जाएगा

Dainik Bhaskar

Dec 02, 2019, 10:59 AM IST
यूटिलिटी डेस्क. भारत ऐसा पहला देश बन गया है जहां हज की पूरी प्रक्रिया डिजिटल हो गई है। केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने रविवार को जेद्दाह में सऊदी के हज मंत्री के द्विपक्षीय समझौते पर दस्तखत के बाद यह बात कही। अब ऑनलाइन आवेदन, ई-वीसा, हज मोबाइल एप, ई-मसीहा, ई-लगेज प्री टैगिंग जैसी डिजिटल सुविधाएं हैं। 30 नवंबर तक भारतीय हज कमेटी को कुल 1,76,714 आवेदन मिले हैं। आवेदन की अंतिम तारीख 5 दिसंबर है।

इससे जुड़ी खास बातें

  1. डिजिटल प्री टैगिंग से मिलेंगी सभी तरह की जानकारियां

    नकवी ने कहा कि पहली बार एयरलाइंस द्वारा डिजिटल प्री टैगिंग की व्यवस्था की गई है, जिससे हज यात्रियों को भारत में ही सभी प्रकार की जानकारियां जैसे मक्का मदीना में किस इमारत के किस कमरे में ठहरने और हवाई अड्डे पर उतरने के बाद किस नंबर की बस लेनी होगी, मिल जाएंगी।

  2. हज यात्रियों के सिम कार्ड हज मोबाइल एप से रहेंगे लिंक

    यात्रियों के सिम कार्ड को हज मोबाइल एप से लिंक किया जाएगा, जिससे उन्हें हज से जुड़ी नवीनतम जानकारियां मिलती रहेंगी। इस साल 100 टेलीफोन लाइन का सूचना केंद्र मुंबई के हज हाउस में शुरू किया गया है। 

  3. मिलेगी मेडिकल सेवा 

    नकवी ने कहा कि एक तरफ भारत में सभी यात्रियों को हेल्थ कार्ड दिए जाने की व्यवस्था की गई है, वहीं सऊदी अरब में उन्हें ‘ई मसीहा स्वास्थ्य सुविधा’ दी जाएगी। इसमें प्रत्येक हज यात्री की सेहत से जुड़ी जानकारी ऑनलाइन उपलब्ध होगी। आपात स्थिति में फौरन उन्हें मेडिकल सहायता दी जा सकेगी। 

  4. हज ग्रुप ऑर्गेनाइजर्स को पोर्टल से जोड़ा 

    हज समूह आयोजकों को भी सौ फीसदी डिजिटल कर पोर्टल http://haj.nic.in/pto/ से जोड़ा गया है। इसमें सभी अधिकृत आयोजकों के पैकेज की जानकारी दी गई है। अगले साल दो लाख भारतीय मुसलमान बिना किसी हज सब्सिडी के हज यात्रा पर जाएंगे।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना