राहत / बंद नहीं होगी गरीब रथ ट्रेन, रेलवे मंत्रालय की सफाई



indian railway said no proposal stop operating garib rath
X
indian railway said no proposal stop operating garib rath

Dainik Bhaskar

Jul 19, 2019, 07:26 PM IST

यूटिलिटी डेस्क. गरीब रथ ट्रेन को बंद करने की खबरों पर रेलवे मंत्रालय ने गलत बताया है। रेलवे मंत्रालय ने शुक्रवार को एक नोट जारी कर कहा है कि रेलवे का गरीब रथ को बंद करने का कोई इरादा नहीं है।  2005 में इस ट्रेन की शुरुआत की थी। इसे खास तौर पर गरीबों और लोअर मिडिल क्लास को सस्ते में AC का सफर कराने के लिए चलाया गया था। पहले खबर आई थी कि रेल मंत्रालय इस ट्रेन को बंद कर सकता है। काठगोदाम-जम्मू और काठगोदाम-कानपुर सेंट्रल गरीब रथ ट्रेन को मेल एक्सप्रेस में तब्दील करने के बाद गरीब रथ ट्रेन को बंद करने की खबरें सामने आई थीं। रेलवे के अनुसार जिन दो जोड़ी गरीब रथ ट्रेनों को मेल एक्सप्रेस में बदला गया था, उन्हें दोबारा पुरानी श्रेणी में 4 अगस्त से चलाया जाएगा।

 

140 किमी प्रति घंटा है टॉप स्पीड

  1. रेल मंत्रालय ने क्या कहा?

    शुक्रवार को रेल मंत्रालय ने स्‍पष्‍टीकरण जारी कहा कि ट्रेन को चलाने से रोकने का कोई प्रस्‍ताव नहीं है। अगर मंत्रालय कोई फैसला लेता है तो इसके बारे में यात्रियों को पहले से सूचित किया जाएगा। फिलहाल, इंडियन रेलवे 26 जोड़ी गरीब रथ ट्रेन चला रहा है।

  2. मेल या एक्‍सप्रेस ट्रेन से कम होता है किराया

    इसका किराया मेल या एक्‍सप्रेस ट्रेन के AC बर्थ के किराए से कम होता है। इसमें सिर्फ चेयर कार वाले डिब्‍बे होते हैं। गरीब रथ में सफर करने वाले मुसाफिरों को कम्‍बल, तकिया और चादर नहीं दी जाती। इसकी अधिकतम गति 140 किमी प्रति घंटा है जो राजधानी और दूरंतो  के बराबर है।

  3. बिहार से चली थी पहली ट्रेन

    पूर्व रेल मंत्री लालू यादव ने सबसे पहली गरीब रथ सहरसा (बिहार) से अमृतसर (पंजाब) तक चलाई थी। इसका नाम सहरसा अमृतसर गरीब रथ एक्‍सप्रेस है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना