NGT के निर्देश / आरओ प्यूरीफायर पर प्रतिबंध के लिए 2 महीने में अधिसूचना जारी करे पर्यावरण मंत्रालय

NGT issue notification for goverment to ban ro purifires in 2 months
X
NGT issue notification for goverment to ban ro purifires in 2 months

  • आरओ प्यूरीफायर के इस्तेमाल को नियंत्रित करने के लिए निर्देश दिए हैं
  • इससे पानी की होने वाली बर्बादी को रोका जा सकता है

Dainik Bhaskar

Jan 16, 2020, 06:06 PM IST
यूटिलिटी डेस्क. एनजीटी ने पर्यावरण मंत्रालय को निर्देश दिया है कि वह 2 महीने के अंदर उन जगहों पर आरओ प्यूरीफायर को प्रतिबंधित करने की अधिसूचना जारी करे जहां पानी में टोटल डिजॉल्व्ड सॉलिड (TDS) प्रतिलीटर 500 मिलीग्राम से नीचे है। आरओ प्यूरीफायर के इस्तेमाल को नियंत्रित करने के लिए नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) ने यह निर्देश दिए हैं। NGT ने सरकार से यह भी कहा था कि देशभर में जहां भी RO की अनुमति दी गई है वहां 60 प्रतिशत से ज्यादा पानी फिर से इस्तेमाल किया जाए, ताकि आरओ प्यूरीफायर से होने वाली पानी की बर्बादी को रोका जा सके।

TDS की सही मात्रा जरूरी

  1. ति लीटर 500एमजी TDS पर आरओ नहीं करता काम

    NGT की बनाई कमेटी का कहना है कि पानी में प्रति लीटर 500एमजी TDS तक होने पर आरओ काम नहीं करता उलटे वह उसमें मौजूद कई महत्वपूर्ण खनिजों को हटा देता है जिससे पानी से मिलने वाले मिनरल्स नहीं मिल पाते।

  2. क्या है TDS?

    TDS यानि पानी में घुले सूक्ष्म पदार्थ। इनमें सोडियम, फ्लोराइड, आयरन, क्लोराइड, कैल्शियम, मैग्निशियम, नाइट्रेट जैसे पदार्थ होते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अध्ययन के मुताबिक प्रति लीटर पानी में 300 एमजी से नीचे TDS बेहतरीन माना जाता है, जबकि 800 से 900 एमजी खराब और इससे ज्यादा होने पर पानी को पीने योग्य नहीं माना जाता।

  3. क्यों बढ़ता है TDS?

    TDS बढ़ने का मुख्य कारण तेजी से घटता जल स्तर है। इसके अलावा जमीन के अंदर पानी के बीच जो पत्थर या मिट्टी है, अगर वह क्षारीय हैं तब भी पानी में टीडीएस तेजी से बढ़ता हैं।

  4. अधिक TDS से होने वाले नुकसान

    पानी में TDS अधिक होने से पित्ताशय (गालब्लेडर), गुर्दे (किडनी) व यूरेटर (मूत्र वाहिका) में पथरी की शिकायत हो सकती है।

  5. कम TDS से होने वाले नुकसान

    फीके या बेस्वाद और उपयोगी खनिज की कमी के कारण बहुत कम TDS स्तर वाला पानी भी कई तरह की समस्याएँ खड़ी करता है। 80एमजी/लीटर से कम स्तर वाले पानी को आमतौर पर उपयोग के लिए ठीक नहीं समझा जाता। इसमें मिनरल्स की कमी रहती है।

  6. आप भी कर सकते है TDS की जांच

    पानी में TDS की मात्रा मापने के लिए कई तरह के उपकरण बाजार में उपलब्ध हैं जिनकी शुरुआती कीमत 200 रुपए के करीब होती है। इसमें लिखे निर्देशों का फॉलो करके आप TDS जांच सकते हैं।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना