फंड ट्रांफसर / सातों दिन कर सकेंगे पैसे का ऑनलाइन ट्रांसफर, आरबीआई ला रहा है नया ट्रांजेक्शन नियम



online transfers of money will be able to do 24*7 rbi is bringing new regulation
X
online transfers of money will be able to do 24*7 rbi is bringing new regulation

Dainik Bhaskar

May 16, 2019, 04:46 PM IST

यूटिलिटी डेस्क. भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने सप्ताह के सभी दिनों और 24 घंटे ऑनलाइन फंड ट्रांसफर का प्रस्ताव दिया है। इसके तहत राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (NEFT) के जरिए यह सुविधा मिलेगी। इससे बैंकिंग के लिए लोगों को और ज्यादा वक्त मिल सकेगा।

एनईएफटी में जोड़ी जाएंगी और अधिक सुविधाएं

  1. अभी सुबह आठ से शाम सात बजे तक का वक्त है तय 

    आरबीआई ने अपने दस्तावेज़ पेमेंट एंड सेटलमेंट सिस्टम इन इंडिया: विजन 2019 - 2021 में कहा है कि एनईएफटी में और अधिक सुविधाओं को जोड़ने की आवश्यकता है। 

    • यही नहीं, केंद्रीय बैंक रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (आरटीजीएस) में ग्राहक लेनदेन के लिए उद्योग की तैयारियों और ग्राहक की मांग के आधार पर विस्तार करने की संभावना की भी जांच करेगा। 
    • फिलहाल  NEFT में रविवार, महीने के दूसरे और चौथे शनिवार और कैलेंडर वर्ष के लिए घोषित बैंक छुट्टियों में फंड ट्रांसफर नहीं कर सकते। 
    • एसबीआई सोमवार से शुक्रवार को सुबह 8 से शाम 7 बजे तक और शनिवार को सुबह 8 से दोपहर 1 बजे तक एनईएफटी की सुविधा प्रदान करता है।

  2. आईएमपीएस से दो लाख रुपए तक कर सकते हैं ट्रांसफर

    तत्काल भुगतान सेवा (IMPS) के माध्यम से फंड को चौबीसों घंटे ट्रांसफर किया जा सकता है, लेकिन इसकी अधिकतम राशि 2 लाख रुपये है। 

    • आरटीजीएस में भी बड़ी मात्रा में फंड हस्तांतरण किया जाता है लेकिन कार्यदिवस में ग्राहक लेनदेन के लिए सुबह 8 बजे से शाम 4.30 बजे तक ही यह सुविधा है।
    • इसलिए अब आरबीआई  फंड ट्रांसफर की सभी प्रणालियों की जांच, रिस्क फैक्टर, दिन व रात में भुगतान करने वालों का डाटा, अवकाश की सीमा आदि का विश्लेषण करने के बाद एनईएफटी में 24 घंटे ट्रांसफर की सुविधा जोड़ेगा। 
       

  3. 2021 तक चार गुना बढ़ेगा डिजिटल लेनदेन 

    भारतीय रिजर्व बैंक को उम्मीद है कि दिसंबर 2021 तक देश में डिजिटल माध्यमों से होने वाला लेनदेन चार गुना से भी अधिक बढ़ जाएगा। इन लेनदेन का मूल्य बढ़कर 8,707 करोड़ रुपये तक पहुंच जाएगा। 

    • रिजर्व बैंक ने कहा है कि नए सेवाप्रदाताओं और नए तौर-तरीकों के आने से भुगतान प्रणाली में लगातार बदलाव जारी रहेगा। इससे उपभोक्ताओं को बेहतर लागत पर विभिन्न प्रकार के भुगतान प्रणाली के विकल्प उपलब्ध होंगे। 
    • रिजर्व बैंक इस विजन दस्तावेज को 2019- 2021 के दौरान अमल में लाएगा। इससे पहले पिछला विजन दस्तावेज 2016 से 2018 के लिए जारी किया गया था।
       

    23 मई को देखिए सबसे तेज चुनाव नतीजे भास्कर APP पर

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना