सर्वे / भांग पीने के मामले में दिल्ली दुनियाभर में तीसरे नंबर पर, पहले पर न्यूयार्क

survey says delhi third highest consumer of cannabis in world
X
survey says delhi third highest consumer of cannabis in world

  • 2018 में दिल्ली में 38260 और मुंबई में 32380 किलोग्राम गांजा बिका।
  • इस मामले में कराची दुनिया में दूसरे नंबर पर है वहां 42000 किलोग्राम गांजे की खपत हुई।

दैनिक भास्कर

Sep 10, 2019, 04:25 PM IST

यूटिलिटी डेस्क. भांग की खपत मामले में वैश्विक स्तर पर देश की राजधानी दिल्ली को तीसरा स्थान हासिल हुआ है। इस लिस्ट में अमेरिका का न्यूयार्क शहर (77.4 मीट्रिक टन) के साथ पहले स्थान पर और पाकिस्तान का कराची (42 मीट्रिक टन) दूसरे नंबर पर है। वहीं, देश की आर्थिक राजधानी मुंबई छठे स्थान पर है। मुंबई शहर में 38.2 मीट्रिक टन भांग की खपत होती है। यह आकड़ा 2018 के अध्ययन के आधार पर निकाला गया है और यह सर्वे जर्मनी की संस्था एबीसीडी ने किया है। इसमें दुनियाभर के 120 शहरों को शामिल किया गया था।

लिस्ट में काहिरा, लंदन, मॉस्को और टोरंटो भी शामिल

सर्वे के मुताबिक, दो भारतीय शहरों (दिल्ली और मुंबई) कराची (पाकिस्तान) के अलावा, अन्य चार शहर काहिरा, लंदन, मॉस्को और टोरंटो हैं। बता दें कि ये दुनिया के ऐसे शहर हैं, जहां भांग का सेवन वैध नहीं है। हालांकि टोरंटो ने इस साल की शुरुआत में इसे वैध कर दिया है।

  • बता दें कि जंगली भांग अब वाहनों के लिए ईंधन बनाने में काम आने वाली है। इस दिशा में हरकोर्ट बटलर प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (एचबीटीयू), कानपुर के बायो केमिकल इंजीनियरिंग विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. ललित कुमार सिंह ने बड़ी सफलता हासिल की है। एचबीटीयू के डॉ. ललित कुमार सिंह ने जंगली घास (कांस) से सस्ता एथेनॉल बनाने में सफलता प्राप्त की है।
...

 

दुनिया में भांग इसका इस्तेमाल तेज़ी से बढ़ रहा है क्योंकि यह सस्ता मिलता है और ज़्यादा नशीला होता है। कोकिन और दूसरे ड्रग्स इससे कहीं अधिक महंगे और ज़्यादा हानिकारक होते हैं। दिल्ली में गांजे की प्रति ग्राम कीमत करीब 300 है।

भांग आपके सीखने और याद करने की क्षमता बढ़ाती है. अगर भांग का उपयोग सीखने और याद करने के दौरान किया जाता है तो भूली हुई बातें आसानी से याद की जा सकती है।

  • भांग का इस्तेमाल कई मानसिक बीमारियों में भी की जाती है। जिन्हें एकाग्रता की कमी होती है, उन्हें डॉक्टर इसके सही मात्रा के इस्तेमाल की सलाह देते हैं।
  • जिन्हें बार-बार पेशाब करने की बीमारी होती है, उन्हें भांग के इस्तेमाल की सलाह दी जाती है।
  • कान का दर्द होने पर भांग की पत्तियों के रस को कान में डालने से दर्द से राहत मिलती है।
  • जिन्हें ज़्यादा खांसी होती है, उन्हें भांग की पत्तियों को सुखा कर, पीपल की पत्ती, काली मिर्च और सोंठ मिलाकर सेवन करने की सलाह दी जाती है।

अगर इसे बहुत ज़्यादा मात्रा में लिया जाता है तो दिमाग़ ठीक से काम करना बंद कर सकता है। लोग कुछ भी बोलने लगते हैं। अजीब-अजीब सी चीज़ें दिखने लगती हैं।

  • हार्ट अटैक की संभावनाएं और ब्लडप्रेशर बढ़ जाती है, आंखें लाल होने लगती है। सांस लेने की परेशानियां बढ़ सकती है। महिलाओं को गर्भ धारण करने में भी पेरशानी हो सकती है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना