इसमें युवाओं को हुनर सिखाकर बनाया जाता रोजगार के लायक

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

यूटिलिटी डेस्क. प्रधानमंत्री युवा योजना युवाओं को हुनर सिखाकर रोजगार उपलब्ध कराने के लिए शुरू की गई है। कई युवा पढ़े लिखे तो हैं पर उनके पास रोजगार लायक कौशल नहीं होता। इस योजना में प्रशिक्षण पाकर वे रोजगार पा सकेंगे। इसके लिए उन्हें किसी प्रकार शुल्क देना नहीं पड़ेगा। जो युवा किसी वजह से पढ़ाई नहीं कर सके, उन्हें हुनरमंद बनाया जाएगा। वहीं जो युवा अपना उद्यम स्थापित करना चाहते हैं, उन्हें उनकी पसंद के व्यवसाय के लिए मार्गदर्शन और प्रशिक्षण दिया जाता है। 

1) इसमें दिया जाता है मार्गदर्शन और प्रशिक्षण

प्रशिक्षण ले रहे युवाओं को प्रोत्साहित करने के लिए पुरस्कार भी दिए जाते हैं। इस योजना के तहत लाभ लेने वालों में स्नातक/ स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम/ पीएचडी कार्यक्रम/डिप्लोमा में डिग्री, स्कूल के छात्र, औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों के छात्र, ग्रामीण और शहरी क्षेत्र, महिलाएं और सभी नागरिक उद्यमिता प्रशिक्षण ले सकते हैं।

  • इस योजना में केंद्र व राज्य सरकारें मिलकर संस्थानों का चयन करेंगे, ताकि छात्रों को बेहतर पाठ्य सामग्री मिल सके। इस योजना का उद्देश्य रोजगार शुरू करने के लिए प्रशिक्षण देना, व्यवसाय खोलने में मदद करना है। इसमें किसी भी वर्ग या समुदाय का आवेदक शामिल हो सकता है।

पीएमवायवाय- 2019 में शामिल होने वाले सभी आवेदकों को सरकार ऑनलाइन प्लेटफॉर्मके माध्यम से रोजगार व प्रशिक्षण दे रही है।

  • प्रधानमंत्री युवा योजना के अधीन उच्च शिक्षा के 2200 संस्थान (कॉलेज, विवि व प्रमुख संस्थान), 300 स्कूल, 500 आईटीआई और 50 उद्यमिता विकास केंद्र ऑनलाइन कोर्सेस के माध्यम से शामिल हैं। ये उद्यमिता शिक्षा और प्रशिक्षण प्रदान कर रहे हैं। यह कार्यक्रम पांच साल का है।
  • संबंधित स्कूल, कॉलेज द्वारा प्रशिक्षुओं को घर पर भी अध्ययन सामग्री प्राप्त हो सकेगी। प्रशिक्षण कार्यक्रम ऑनलाइन पाठ्यक्रम द्वारा भी दिया जाएगा।
  • आने वाले पांच वर्षों में ऑनलाइन मोड द्वारा कौशल विकास मंत्रालय और उद्यमिता द्वारा इच्छुक छात्रों को उद्यमिता शिक्षा दी जाएगी।
  • करियर के लिए जो बेस्ट होगा बताएंगे: ऑनलाइन मोड के जरिये छात्रों को उद्यमिता के बारे में बताकर ट्रेंड किया जाएगा। उन्हें कम्युनिकेशन, इलेक्ट्रॉनिक्स के बारे में पूरी जानकारी दी जाएगी। छात्रों को बताया जाएगा कि उनके कॅरियर के लिए क्या बेस्ट है। यह एक तरह से छात्रों को प्लेटफार्म उपलब्ध कराने जैसा है। यहां से मिले सर्टिफिकेट के आधार पर उन्हें बैंकों से लोन भी मिल सकेगा।
  • ऑनलाइन स्टडी की व्यवस्था: इसके लिए एक पोर्टल लांच किया गया है, जहां विजिट कर छात्र ऑनलाइन जानकारी हासिल कर सकते हैं। उद्यमिता से जुड़ी हर जानकारी पोर्टल पर मौजूद है। वे घर बैठे भी इस योजना से जुड़े हर पहलू को समझ सकते हैं। 
  • स्टार्टअप इंडिया को फॉलो करती है: प्रधानमंत्री युवा योजना स्टार्टअप इंडिया को फॉलो करती है। स्टार्टअप अपना व्यवसाय शुरू करने में मदद करता है, वहीं युवा योजना उस व्यवसाय को आगे बढ़ाने के लिए कौशल विकास में मदद करता है। यह भारत में लघु उद्योग को बढ़ावा देगा।  

आवेदक की आयु 18 से 35 वर्ष के बीच होना चाहिए। महिलाओं, एससी, एसटी, पूर्व सैनिकों और शारीरिक रूप से विकलांगों के लिए 10 वर्षकी छूट है। 

  • वहीं, उत्तर-पूर्वी राज्यों के नागरिकों के लिए आयु सीमा 18 से 40 वर्ष रखी गई है। 
  • आवेदक कम से कम 8वीं पास हो। जिस क्षेत्र में रहने का उसने लिखा है, वहां वह कम से कम 3 वर्ष से निवासरत हो। 
  • पति-पत्नी और माता-पिता के साथ आवेदक की वार्षिक आय 1 लाख से अधिक नहीं होना चाहिए। 

इस योजना से जुड़ने के लिए www.pmyuva.org पर विजिट कर सकते हैं। फिर पंजीकरण वाले भाग पर क्लिक कर रजिस्टेशन फॉर्म भर दें। मांगे गए दस्तावेज भी अपलोड कर दें। रजिस्ट्रेशन फॉर्म में यह भी बताएं कि किस तरह के काम में आपकी दिलचस्पी है। इसके बाद फॉर्मकी स्क्रूटनी की जाएगी। जिन छात्रों का चयन हुआ है, उनकी सूची भी जारी होगी।

इस योजना से जुड़ी अन्य कोई जानकारी चाहते हैं तो इन नंबरों पर डायल करें +91 1204017095, +91 1204017097, +91 1204017096

खबरें और भी हैं...