₹22 हजार मेकअप पर खर्च करती हैं महिलाएं:25% नहीं धोतीं मेकअप ब्रश, पार्टी वाले दिन दिखेंगे बड़े-बड़े पिंपल

3 महीने पहले

त्योहारों का सीजन हुआ खत्म। अब आई शादियों की बारी यानी व्हाट्सअप स्टेटस हो या इंस्टा की स्टोरी, आपको तो बस दिखेंगे दूल्हा-दुल्हन की फोटो और रील्स। इसका मतलब है मेकअप करने का मौका अभी खत्म नहीं हुआ। वैसे भी हम लड़कियां इस काम के लिए माैका न भी हो, तो ढूंढ ही लेती हैं।

यह सब तो ठीक है, लेकिन एक बात बताओ मेकअप ब्रश और टूल्स को लास्ट टाइम कब साफ किया था? बहुत से लोगों का जवाब होगा कि याद नहीं। ऐसी ही महिलाएं सबसे पहले ये रिसर्च पढ़ लें-

  • एक स्टडी कहती हैं, 30-45% महिलाएं महीने में एक बार मेकअप ब्रश को साफ करती हैं।
  • दूसरी स्टडी में कहा गया है कि लगभग 25% महिलाएं अपने ब्रश कभी भी नहीं धोती हैं।

क्या आप भी इन्हीं दो कैटेगरी में खुद को पाती हैं? तो जल्दी से इस काम के लिए भी मुहूर्त निकाल लें। क्योंकि मेकअप टूल्स और ब्रश की साफ-सफाई का सीधा कनेक्शन आपकी हेल्थ के साथ है। आज जरूरत की खबर में बात ड्रेसिंग एरिया, मेकअप का सामान - ब्रश, स्पंज जैसे टूल्स की सफाई पर करते हैं

हमारे एक्सपर्ट हैं - गुजरात की स्किन एंड हेयर केयर प्रोफेशनल रिंकल सोनी और सेलिब्रेटी मेकअप आर्टिस्ट अग्रिका कालरा

सवाल- मेकअप टूल्स का साफ होना क्यों जरूरी है?

जवाब- इन 4 कारणों की वजह से मेकअप टूल्स का साफ होना जरूरी है-

  • मेकअप करते वक्त ब्रश और स्पंज बार-बार स्किन के कॉन्टैक्ट में आते हैं। स्किन की डर्ट, ऑयल और गंदगी इन ब्रश पर भी चिपक जाती है। जिससे पिंपल और इन्फेक्शन हो सकते हैं।
  • लंबे समय तक एक ही ब्रश इस्तेमाल होने पर वो धूल और मेकअप प्रोडक्ट की वजह से कड़े हो जाते हैं। कड़े ब्रश से बार-बार मेकअप करने से स्किन इरिटेट होती है।
  • गंदे ब्रश से कॉम्पैक्ट लगाने पर प्रोडक्ट भी जल्दी खराब होता है और स्किन भी खराब होती है।
  • अगर आप मेकअप किट शेयर करती हैं, तो स्किन डिजीज और वायरल इन्फेक्शन आप तक फैल सकता है।

सवाल- मेकअप ब्रश को कितनी बार साफ करना चाहिए, थोड़ा डिटेल में बताइए?

जवाब- डेली मेकअप करते हैं, तो 2 सप्ताह में एक बार ब्रश जरूर धोएं। कंसीलर या फाउंडेशन जैसे लिक्विड मेकअप वाले ब्रश या स्पंज हर हफ्ते धोएं।

सवाल- मेकअप ब्रश एक बार ले लिया, तो इसे साफ करते रहें, ये सालों चलेगा, क्या ये सोचना सही है?

जवाब- जी नहीं। ध्यान रखें कि मेकअप ब्रश हमेशा के लिए नहीं रहता है। ब्रश के बाल टूट रहे हैं, उससे बदबू आ रही है, उसका रंग फेड हो गया है, तो समझ लें कि ब्रश को बदलने का समय आ गया है।

सवाल- अच्छा, तो मेकअप ब्रश को साफ कैसे करें?

जवाब- मेकअप ब्रश को साफ करने के हम 3 तरीके बता रहे हैं-

पहला

  • लिक्विड सोप, डिटर्जेंट, हैंड वाॅश या शैम्पू लें और एक बर्तन में गर्म पानी भी।
  • छोटी कटोरी में साबुन निकालकर सूखे ब्रश पर साबुन लगाएं और गर्म पानी में डुबोकर धोएं।
  • ब्रश धोने के बाद किसी सूखे कपड़े या टिश्यू पेपर पर उसे सुखा लें।

दूसरा तरीका डीप क्लीनिंग के लिए

  • हल्के गर्म पानी में शैम्पू और कंडीशनर मिलाकर इसमें 1 घंटे के लिए ब्रश भिगाे दें।
  • कंडीशनर से ब्रश के हेयर सॉफ्ट रहेंगे और आप लंबे समय तक यूज कर सकेंगे।
  • 1 घंटे बाद पानी बदल दें और उसमें ब्रश को आधे घंटे के लिए भिगोकर रखें।
  • फिर चलते पानी के नीचे एक साफ कंघी की मदद से ब्रश के हेयर को साफ करें।
  • ब्रश को हल्के हाथ से टॉवल से पोछकर सुखाएं, चाहें तो हाइड्रोजन पेरोक्साइड भी यूज कर सकते हैं।

तीसरा तरीका क्विक क्लीनिंग के लिए

  • ब्रश साफ करने का टाइम न हो, तो उस पर सेनिटाइजर स्प्रे करें, लेकिन ब्रश गीला होना चाहिए।
  • सूखे कपड़े या टिश्यू पेपर पर ब्रश को रगड़कर साफ करें, जब तक सारा प्रोडक्ट छूट न जाए।
  • अब इन्हें सूखे कपड़े में रखकर सूखने के लिए छोड़ दें।

कुछ आम लोगों ने मेकअप ब्रश को लेकर हमसे सवाल किए हैं, इनकी मदद से आप अपने डाउट भी क्लियर कर सकते हैं-

इंदौर से शीना पूछती हैं- मुझे मेकअप बहुत पसंद है, लेकिन कई बार एक लुक को क्रिएट करने में कई कलर अप्लाई करने पड़ते हैं, ऐसे में ब्रश कम पड़ जाए, तो एक ब्रश से मेकअप कैसे अप्लाई करें?

जवाब- मेकअप करने के बीच-बीच में एक ही ब्रश को साफ करें फिर दूसरा कलर अप्लाई करें-

  • साफ ब्रश यूज करने पर एक कलर दूसरे के साथ ट्रांसफर नहीं होगा और आपका लुक गंदा नहीं होगा।
  • किसी वेट वाइप पर मेकअप ब्रश को रगड़ें। इससे ब्रश का कलर निकल जाएगा।
  • वेट वाइप न हो, तो सूखे टिश्यू पेपर पर सेनिटाइजर स्प्रे करके भी साफ कर सकती हैं।
  • स्पंज को हल्के गर्म पानी में लिक्विड सोप के साथ 1 घंटे भिगोएं, फिर साफ पानी से धोएं।

भोपाल से रूबी पूछती हैं- मेकअप टूल्स कितने दिनों में साफ करने चाहिए?

जवाब- रोज इस्तेमाल होने वाले ब्रश जैसे फाउंडेशन और पाउडर के ब्रश को हर 7-10 दिनों में साफ करना चाहिए। कम इस्तेमाल होने वाले ब्रश जैसे कंसीलर या हाइलाइटर ब्रश महीने में 1 बार साफ कर लें। आई शेडो और आईलाइनर के ब्रश को हर 15 दिन में साफ करना चाहिए।

क्या आप जानते हैं कि इतना सब करने के बाद भी अगर आपने किसी के साथ मेकअप शेयर किया, तो इससे भी इन्फेक्शन हो सकता है

त्योहार के बाद दोस्तों-रिश्तेदारों से मिलने जाना हो और पहुंचने से पहले लिपस्टिक मिट गई है, काजल फैल गया या आईलाइनर खराब हो गया। ये आपके साथ भी होता होगा। ऐसे में हम अपने मन को समझा लेते हैं कि दोस्त की लिपस्टिक-काजल ले लुंगी, आखिर ये कब काम आएंगी।

जयपुर से रीना पूछती हैं- किसी के साथ भी अपना मेकअप शेयर करना कितना सही है?

जवाब-

  • किसी और का फाउंडेशन लगाने पर एक्ने की प्रॉब्लम बढ़ेगी। दूसरों की स्किन का आयल, डर्ट, पिंपल आपकी स्किन तक ट्रांसफर होंगे और इन्फेक्शन हो सकता है।
  • लिपस्टिक शेयर करने से आपको किसी के मुंह का इन्फेक्शन जैसे छाले, सर्दी-जुकाम या कोई और बीमारी भी हो सकती है।
  • काजल, मस्कारा, आई शेडो और आईलाइनर शेयर करते हैं, तो आंखों में कंजंक्टिवाइटिस, बैक्टीरियल या वायरल इन्फेक्शन, पलकों पर फोड़े होना जैसी प्रॉब्लम हो सकती है।
  • जब कभी लिपस्टिक खरीदने जाएं, तो इसे हमेशा अपनी हथेली के पीछे लगाकर चेक करें, सीधे होठों पर नहीं।

नागपुर से संजना पूछती हैं- अपना मेकअप प्रोडक्ट किसी के साथ शेयर न करना पड़े, इसके लिए कोई टिप्स दीजिए

जवाब-

  • कहीं बाहर जाएं, तो अपने साथ एक पर्सनल मेकअप किट रखें। ऐसे बनाएं किट - छोटे साइज का एक मेकअप ब्रश, बीबी क्रीम, कंघी, क्लिप्स, लिपस्टिक, मस्कारा, आईलाइनर, लिप बाम, काजल, ब्लश, कॉम्पैक्ट पाउडर जैसे सामान साथ रखें।
  • मेकअप किट में छोटे साइज के प्रोडक्ट रखें, ताकि ये हल्के हों और कैरी करने में आसान भी।
  • मना करना सीखें। कोई आपसे लिपस्टिक जा काजल मांगे, तो साफ मना करें कि पर्सनल प्रोडक्ट्स शेयर करना सही नहीं है।
  • अपने साथ एक छोटे पाउच में लिपस्टिक, लिप बाम, काजल, मॉइस्चराइजर, हैण्ड सेनिटाइजर, टिश्यू पेपर, मेकअप वाइप जैसा सामान हमेशा कैरी करें।

उम्मीद है कि आप यह बात समझ गईं होंगी कि जितना जरूरी मेकअप कर सुंदर दिखना है, उतना ही जरूरी मेकअप ब्रश और टूल्स को साफ-सुथरा रखना।

चलते-चलते

मेकअप पर भारतीय महिलाओं का खर्च जान लेते हैं

  • picodi.com के सर्वे के अनुसार कॉस्मेटिक्स खरीदने में भारतीय महिलाएं सालाना 22 हजार रुपए और पुरुष करीब 10 हजार रुपए खर्च करते हैं।
  • वहीं 33% महिलाएं ऐसी हैं, जो रोजाना मेकअप करना पसंद करती हैं। कभी-कभी मेकअप करने वाली महिलाओं की संख्या 56% है।
  • किसी पार्टी या फिर खास मौके पर मेकअप करने वाली 11% महिलाएं हैं। 14% महिलाएं मेकअप करना बिल्कुल पसंद नहीं करती हैं।
  • सर्वे में ये बात भी सामने आई कि एक महिला के पास 24 कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स होते हैं, इसमें से 10 ही रोजाना यूज किए जाते हैं।
  • 37% महिलाएं कॉस्मेटिक तब खरीदती हैं, जब उन पर डिस्काउंट होता है।

अब करते हैं नॉलेज की बात

  • 1920 के दशक में बोल्ड और हैवी मेकअप किया जाता था, ताकि ये ब्लैक एंड वाइट पर्दे पर आसानी से दिखे।
  • आज जो स्मोकी आई मेकअप आप करते हैं, इसकी शुरुआत एक अमेरिकन एक्ट्रेस क्लारा बो ने की थी।
  • 1930 के दशक में द ग्रेट डिप्रेशन (महामंदी) के दौर में मेकअप का चलन भी बदल गया। पैसे बचाने के लिए फिल्मों में एक्ट्रेस लाइट मेकअप करने लगीं। यहीं से पतली आई ब्रो की भी शुरुआत हुई। आई ब्रो प्लक करने का ट्रेंड भी आया।
  • 1940 के दशक में दूसरे विश्व युद्ध से भी मेकअप वर्ल्ड इफेक्टेड हुआ। यूरोप में फिल्मी पर्दे पर कलर आ गया। अब भी लाइट मेकअप और रेड लिप कलर का दौर बदला नहीं।
  • 1950 के दौर में अमेरिकन एक्ट्रेस मर्लिन मुनरो और ग्रेस केली ने कैट आई मेकअप के साथ पिंक लिप्स का ट्रेंड शुरू किया। इसे बहुत पसंद किया गया।
  • 1960 के दौर में लंदन लुक प्रचलित हुआ। इस लुक के नकली आई लेशेस और ग्लॉसी लिप कलर को भारत में भी खूब पसंद किया गया।
  • 1970 में एक फ्रेश, हल्का और एव्रीडे लुक डिमांड में था। आंखों पर सिर्फ ब्रोंजर और पिंक-पीच कलर का लिप शेड।
  • 1980 में एक बार फिर मेकअप के साथ कई एक्सपेरिमेंट हुए। द ब्लू लगून फिल्म आने के बाद भरे हुए आईब्रो चलन में आए। पिंक ब्लश भी यहीं से ट्रेंड में आया।
  • 1990 में कोई एक लुक न होकर अलग-अलग नए एलीमेंट्स ट्रेंड में आए। जैसे मैट स्किन, ब्राउन लिप्स।
  • 2000 में पॉप म्यूजिक कल्चर के चलन के साथ ब्लैक आईलाइनर और शिमर लिप ग्लॉस ट्रेंड में आया।
  • 2010 में हाई डेफनिशन कैमरे की वजह से एक बार फिर लाइट मेकअप किया जाने लगा।

जरूरत की खबर के कुछ और आर्टिकल भी पढ़ेंः

1. चेक सावधानी से लिखें:जरा सी गलती से हुआ अगर बाउंस और मामला पहुंचा कोर्ट; चुकानी होगी दोगुनी रकम

देश भर में चेक बाउंस के 33 लाख से ज्यादा मामले इस समय लंबित यानी पेंडिंग हैं। इसी साल सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को निपटाने के लिए एक्सपर्ट कमेटी स्पेशल कोर्ट में बनाने की सिफारिश को माना था। (पढ़िए पूरी खबर)

2. ब्रेन स्ट्रोक डे:सर्दी में रहें अलर्ट, पानी कम पीना; हर वक्त रजाई में दुबके रहने से खतरा ज्यादा

दुनियाभर में लाखों लोगों की मृत्यु का कारण बनता जा रहा है स्ट्रोक। हल्की सर्दी शुरू हो गई है। इस मौसम में ब्रेन स्ट्रोक का खतरा ज्यादा रहता है। इसके अलावा हमारी कई छोटी-छोटी गलतियां है जो इसका कारण बनती हैं। (पढ़िए पूरी खबर)