जरूरत की खबर:सुनील ग्रोवर को हार्ट अटैक के बाद पता चला कि वे कोरोना संक्रमित भी हैं, बिना लक्षण वालों को कोविड होने का पता कैसे चलेगा

8 महीने पहले

एक्टर और कॉमेडियन सुनील ग्रोवर (गुत्थी) को कुछ समय पहले हार्ट अटैक आया था। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। हार्ट सर्जरी के दौरान पता चला कि वे कोविड पॉजिटिव भी हैं। इस तरह के कई मामले डॉक्टरों ने पहले भी दर्ज किए हैं।

देश में तीसरी लहर के दौरान कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है, लेकिन मरीजों की हालात ज्यादा गंभीर नहीं देखी गई है। सुनील ग्रोवर की तरह ऐसे कई लोग हैं, जिनमें किसी तरह का लक्षण नहीं है, फिर भी वो कोरोना संक्रमित हैं। ऐसे लोगों को एसिम्प्टोमैटिक मरीज कहा जाता है। इनमें भले ही कोई लक्षण नहीं दिखाई देते हैं, लेकिन ये दूसरों को संक्रमित कर सकते हैं।

आज जरूरत की खबर में जानते हैं कि बिना लक्षण वाले लोगों को कब और कैसे पता चल सकता है कि वे संक्रमित हैं भी या नहीं

कुछ लोग एसिम्प्टोमैटिक क्यों होते हैं?

  • कई बार Sars-cov-2 वायरस रहस्यमयी साबित हुआ है। यानी यह किसके शरीर में और कैसे संक्रमण फैलाएगा, इसका पता जल्दी नहीं चल पाता है।
  • कुछ लोगों में लक्षण दिखाई देते हैं और कुछ में नहीं। इसके पीछे कोई स्पष्ट कारण नहीं हैं।
  • विशेषज्ञों के अनुसार,कई बार इम्यून सिस्टम मजबूत होने की वजह से लक्षण दिखाई नहीं देते हैं या फिर एसिम्प्टोमैटिक मरीज छोटे वायरल लोड के संपर्क में आते हैं। इसलिए उनमें लक्षण विकसित नहीं हो पाते।

अगर आप में कोई लक्षण नहीं है तो कैसे पता चलेगा कि आप संक्रमित हैं या नहीं?

  • सिम्टोमैटिक और एसिम्प्टोमैटिक दोनों तरीके के मरीज संक्रमण फैलाने के लिए जिम्मेदार हैं। इसलिए कोविड टेस्टिंग बहुत जरूरी है। वायरस को पहचानने के लिए रैपिड एंटीजन और RT-PCR दोनों तरह की टेस्टिंग की जा रही है। एक्सपर्ट्स भी इसकी सलाह देते हैं।
  • कोरोना वायरस को पहचानने का सही तरीका कोविड टेस्ट ही है।
  • इसकी जांच करने के लिए RT-PCR टेस्ट सबसे बेस्ट किट है, क्योंकि यह कोरोना के सभी वैरिएंट्स का पता लगाने में सक्षम है।

बिना लक्षण वाले लोगों को कब टेस्ट करवाना चाहिए?

  • अगर आप में कोई लक्षण नहीं है,और आपके ऑफिस के किसी दोस्त या कर्मचारी में लक्षण हैं और आप उनके संपर्क में आए हैं तो अपना टेस्ट जरूर करवा लें। घर पर भी सबका टेस्ट करवा लें।आपके संपर्क में आए किसी की भी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है तो आप भी अपना टेस्ट करवाएं।
  • किसी पार्टी में जाने से पहले और आने के बाद घर पर भी रैपिड टेस्ट कर सकते हैं।
  • भीड़-भाड़ वाली जगह से होकर आए हैं, या आपका बाहर आना-जाना लगा रहता है तो रैपिड किट अपने पास जरूर रखें।
  • किसी ऐसी जगह गए हैं जहां कोरोना संक्रमण की दर बहुत ज्यादा है तो RT-PCR ही करवाएं, क्योंकि इससे दूसरे वैरिएंट्स का भी पता चल जाएगा।