पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

दूसरी बार हो रहा कोरोना:आईसीएमआर ने पहली बार माना- भारत में 3 लोगों को दूसरी बार कोरोना हुआ, 100 दिन बाद संक्रमित हुए तो लिस्ट से बाहर होंगे

12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अमेरिकी वैज्ञानिकों का कहना है कि कोरोना से उबरा मरीज अगर सावधानी नहीं बरतता है तो वह दोबारा चपेट में आ सकता है। दूसरी बार संक्रमित होने वाले मरीजों को खतरा ज्यादा है।
  • रिसर्च में पता चला कि कोरोना से ठीक हुए मरीजों के शरीर में एंटीबॉडीज कुछ ही हफ्तों में खत्म हो गई
  • दूसरी बार संक्रमण को पचानने में कितने दिनों का फासला हो इसे अभी तक WHO ने तय नहीं किया है

डॉयचे वेले से. आईसीएमआर ने भारत में कोविड-19 के दूसरी बार होने की पहली बार पुष्टि की है। उसने कहा है कि दोबारा संक्रमण होने के भारत में तीन और दूसरे देशों में कुल 24 मामले सामने आए हैं। आईसीएमआर भारत में कोरोनावायरस के रोकथाम की गाइडलाइन और रणनीति तय करने वाली सबसे बड़ी संस्था है।

हालांकि देश में कई अस्पताल और शोध संस्थान इस बात को पहले ही बता चुके हैं, जिनमें लोगों को कोरोना से ठीक हो जाने के कुछ ही दिन बाद दोबारा संक्रमण हो गया। कई रिसर्च में यह भी पाया जा चुका है कि कोरोना से ठीक हुए मरीजों के शरीर में एंटीबॉडीज कुछ ही हफ्तों में नष्ट हो गई।

आईसीएमआर ने पहली बार इन संभावनाओं को गंभीरता से लिया है। भारत में दो मामले मुंबई और एक अहमदाबाद में सामने आए हैं। आईसीएमआर के प्रमुख बलराम भार्गव का कहना है कि इसे और समझने के लिए अध्ययन अभी चल रहा है।

भार्गव के मुताबिक दोबारा संक्रमण होने के मामले को पहचानने के लिए कितने दिनों का फासला होना चाहिए, यह अभी तक WHO ने भी तय नहीं किया है। आईसीएमआर अभी लगभग 100 दिनों को कट-ऑफ मान के चल रहा है। इसका मतलब है कि यदि कोविड-19 से ठीक हुए किसी व्यक्ति को 100 दिनों के बाद फिर से कोरोना हो जाता है तो उसे दोबारा संक्रमण का मामला नहीं माना जाएगा।

दोबारा कोरोना होने का मतलब है एंटीबॉडीज खत्म हो गई

दोबारा कोरोना होने का मतलब है कि पहली बार संक्रमण से ठीक होने के बाद मरीज के शरीर में जो एंटीबॉडीज बनी थी वो नष्ट हो गई। लैंसेट मैगजीन ने मंगलवार को कहा कि अमेरिका में एक व्यक्ति के दोबारा संक्रमित हो जाने का ऐसा मामला सामने आया है, जिसमें दूसरी बार संक्रमित होने पर पहली बार से ज्यादा गंभीर लक्षण पाए गए।

पहली बार दोबारा संक्रमित होने का मामला हांगकांग में आया था

पहले एक्सपर्ट यह उम्मीद कर रहे थे कि दोबारा कोरोना यदि हो भी रहा है तो बीमारी के लक्षण पहली बार के मुकाबले हल्के होंगे, लेकिन लैंसेट की रिपोर्ट इस धारणा को भी चुनौती दे रही है। अगस्त में पहली बार हांगकांग में एक व्यक्ति के कोविड-19 से ठीक हो जाने के बाद दोबारा संक्रमित हो जाने के मामले की पुष्टि हुई थी।

रिसर्च में मालूम चला कि 7 सप्ताह बाद कोई एंटीबॉडी नहीं मिली

अगस्त में ही मुंबई में हुए एक शोध में पता चला था कि शरीर में एंटीबॉडी बनने के बाद, वो संभवतः 50 दिनों तक ही रहती है। यह रिसर्च जेजे अस्पताल ने अपने 801 स्वास्थ्यकर्मियों पर सीरो सर्वे के जरिए किया था। इन कर्मचारियों से 28 को अप्रैल-मई में कोरोना हुआ था। 7 सप्ताह बाद जून में किए गए सीरो सर्वे में इनके शरीर में कोई एंटीबॉडी नहीं मिली।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज किसी समाज सेवी संस्था अथवा किसी प्रिय मित्र की सहायता में समय व्यतीत होगा। धार्मिक तथा आध्यात्मिक कामों में भी आपकी रुचि रहेगी। युवा वर्ग अपनी मेहनत के अनुरूप शुभ परिणाम हासिल करेंगे। तथा ...

और पढ़ें