पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अब वैक्सीन पासपोर्ट की बारी:दुनिया के कई देश इसे जल्द लागू कर सकते हैं, WHO बना रहा यूनिवर्सल पोर्टल; जानिए ये कैसे काम करेगा

नई दिल्लीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पोर्टल पर यात्री को ट्रैवलिंग से 72 घंटे पहले अपलोड करना होगा ई-सर्टिफिकेट
  • वैक्सीन पासपोर्ट होल्डर को 14 दिन क्वारैंटाइन में नहीं रहना होगा

कोरोना ने हमारी जिंदगी में बहुत कुछ बदला है, बहुत कुछ सिखाया है। इन एक सालों में वर्क फ्रॉम होम, रिमोट हाइब्रिड वर्किंग, वर्चुअल वेडिंग, ऑनलाइन समिट, वैक्सीन टूरिज्म जैसी तमाम चीजें आई हैं, अब बारी वैक्सीन पासपोर्ट की है।

दरअसल, कोरोना आने के बाद से कई देशों में इंटरनेशनल ट्रैवलर के आने पर पाबंदी है। इसी के चलते WHO (वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन) और WEF (वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम) जैसे संगठन वैक्सीन पासपोर्ट बनाने पर काम कर रहे हैं। यह एक यूनिवर्सल पासपोर्ट होगा। इसके आने से दुनिया के टूरिज्म सेक्टर में फिर से बहार आने की उम्मीद है। इसलिए अब यूनाइटेड नेशंस वर्ल्ड टूरिज्म ऑर्गनाइजेशन (UNWTO) ने दुनियाभर के देशों से वैक्सीन पासपोर्ट को लागू करने की मांग की है।

क्या है वैक्सीन पासपोर्ट?

  • इंटरनेशनल ट्रैवलिंग को कुछ देशों ने तमाम प्रतिबंधों के साथ अनुमति दी है। इसमें ट्रैवलर को 14 दिन तक क्वारैंटाइन रहना पड़ रहा है। इस वजह से लोग ट्रैवल करने से बच रहे हैं।
  • वैक्सीन पासपोर्ट बनने से यह पता चल सकेगा कि ट्रैवल करने वाले व्यक्ति ने वैक्सीन ली है या नहीं। यह पासपोर्ट सिर्फ वैक्सीन लगवाने वाले व्यक्ति को ही मिलेगा।

क्या है वैक्सीन पासपोर्ट का स्टेटस?

  • UNWTO और ग्लोबल टूरिज्म क्राइसिस कमेटी की स्पेन के मैड्रिड में हाल ही में बैठक हुई। इसमें फैसला हुआ कि वैक्सीन पासपोर्ट को जरूरी ट्रैवल डॉक्यूमेंट्स में शामिल कराया जाए।
  • UNWTO के मुताबिक टूरिज्म शुरू करना जरूरी है, इसके लिए और इंतजार नहीं किया जा सकता। वैक्सीन लगाने के साथ लोगों को सर्टिफिकेट दिया जाए ताकि लोग ट्रैवलिंग कर सकें।

वैक्सीन पासपोर्ट का आइडिया कैसे आया?

  • वैक्सीन पासपोर्ट का आइडिया बिल्कुल नया है। लेकिन, यह अचानक नहीं आया। WHO समेत कई अंतर्राष्ट्रीय संस्थाएं “कॉमन ट्रस्ट नेटवर्क” पर करीब 6 महीने से काम कर रही हैं।
  • कॉमन ट्रस्ट नेटवर्क का उद्देश्य एक ऐसा यूनिवर्सल टूल डेवलप करना है, ताकि यह पता चल सके कि एक से दूसरे देश में ट्रैवल करने वाले व्यक्ति ने वैक्सीन ली है या नहीं। इसी के तहत वैक्सीन पासपोर्ट को अंतिम रूप दिया जा रहा है।

वैक्सीन पासपोर्ट में WHO का रोल क्या होगा ?

  • WHO को इस मामले में सबसे बड़ी भूमिका निभानी है। उसे डेटा प्रोसेसिंग करनी है। WHO दुनिया के हर देश से ट्रस्टेड बॉडी की लिस्ट लेगा या उन संस्थाओं की लिस्ट लेगी, जो कोरोना टेस्टिंग और वैक्सीनेशन की ई-सर्टिफिकेट जारी करेंगी।
  • इसके बाद इन संस्थाओं को इंटरनेशनल ट्रैवल करने वाले लोगों की पूरी जानकारी WHO को देनी होगी। WHO के पोर्टल पर वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट, कोरोना टेस्ट और वैक्सीन पासपोर्ट भी अपलोड करना होगा।
  • WHO इन डॉक्यूमेंट्स का मिलान कर तय करेगा कि सर्टिफिकेट और पासपोर्ट ऑथेंटिक हैं या नहीं। फिर ट्रैवलर का QR कोड जारी करेगा, जिसे लेकर वह यात्रा कर सकेगा।

ग्लोबल टूरिज्म को 11 हजार करोड़ रुपए का नुकसान

UNWTO के अनुमान के मुताबिक कोरोना के बाद से 70% से 75% इंटरनेशनल टूरिज्म कम हो गया है। इसके चलते ग्लोबल टूरिज्म 30 साल पहले की स्थिति में पहुंच गया है। 2020 में 100 करोड़ से भी कम टूरिस्ट एक जगह से दूसरी जगह गए, जिसके चलते ग्लोबल टूरिज्म को करीब 11 हजार करोड़ रुपए का नुकसान हुआ।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- किसी विशिष्ट कार्य को पूरा करने में आपकी मेहनत आज कामयाब होगी। समय में सकारात्मक परिवर्तन आ रहा है। घर और समाज में भी आपके योगदान व काम की सराहना होगी। नेगेटिव- किसी नजदीकी संबंधी की वजह स...

और पढ़ें