जरूरत की खबर:पानी पीने के बाद भी बार-बार लगती है प्यास? इसकी वजह सिर्फ गर्मी नहीं, सीरियस बीमारी भी हो सकती है आपको

4 महीने पहलेलेखक: अलिशा सिन्हा

क्या आपके साथ भी ऐसा होता है-

  • गला सूखा हुआ महसूस होता है।
  • बार-बार पानी पीने का मन करता है।
  • पानी पीने के बाद भी प्यास नहीं बुझती है।
  • मन करता है कि बस पानी पीते ही जाएं।

अगर ऐसा होता है तो ये सिर्फ गर्मी के लक्षण नहीं है। गर्मी के अलावा कोई और समस्या भी हो सकती है। हालांकि, गर्मी की वजह से प्यास लगना आम बात है, लेकिन एक साथ 2-3 गिलास पानी पीने के बाद भी प्यास न बुझे तो इसकी वजह कुछ और भी हो सकती है। चलिए इंदौर के MGM MC में मेडिसिन HoD डॉक्टर वीपी पांडे से जानते हैं कि ऐसा क्यों होता है और इससे बचने के उपाय क्या हैं।

डॉक्टर वीपी पांडे कहते हैं कि ज्यादा प्यास लगने वाली सिचुएशन को मेडिकल टर्म में पॉलीडिप्सिया कहते हैं। ये कोई बीमारी नहीं, बल्कि एक लक्षण है। जब ये लक्षण हमें दिखता है तो हम डॉक्टर से इलाज लेने के बाद ये जान सकते हैं कि आखिर इसके पीछे किस बीमारी का हाथ है। यानी आपको कौन सी बीमारी है, जिसकी वजह से जरूरत से ज्यादा प्यास लग रही है।

अब समझिए ऊपर लिखे हुए कारणों की वजह कैसे बार-बार पानी पीने के बाद भी प्यास नहीं बुझती है-

डिहाइड्रेशन- जब किसी के शरीर में डिहाइड्रेशन की दिक्कत आती है तो उसके शरीर में पानी की कमी हो जाती है। इसकी वजह से बार-बार प्यास लगती है।

ड्राई माउथ- इसका सीधा मतलब है मुंह सूखना। जब आपके मुंह में पर्याप्त मात्रा में लार यानी सलाइवा नहीं बनता है। तब ड्राई माउथ की समस्या आती है। बहुत सी दवाइयां खाने पर भी मुंह सूख सकता है। ऐसी सिचुएशन में बार-बार प्यास लगती है।

डायबिटीज- जिन लोगों को डायबिटीज होती है। उनके खून में शुगर की मात्रा बढ़ जाती है। जिसको किडनी आसानी से नहीं छान पाती है। फिर ये शुगर यूरिन के जरिए बाहर निकलती है। इस वजह से शरीर में पानी की कमी होती है और बार-बार प्यास लगती है।

एनीमिया- जब किसी व्यक्ति के शरीर में रेड ब्लड सेल्स की कमी होती है, तब उसे एनीमिया की बीमारी होती है। इसमें ज्यादातर समय किसी भी इंसान को प्यास महसूस होती है।

एंग्जायटी- धड़कनों का तेज चलना, घबराहट महसूस होना और बैचेनी लगना…ये सब एंग्जायटी के लक्षण हैं। ऐसी स्थिति में कुछ ऐसे एंजाइम होते हैं, जो मुंह में बनने वाली लार की मात्रा को कम कर देते हैं, जिसकी वजह से ज्यादा प्यास लग सकती है।

इनडाइजेशन या अपच- शादी-पार्टी या होटल का मसालेदार खाना कई बार आसानी से पचता नहीं है। आपकी बॉडी को इसे पचाने के लिए ज्यादा पानी की जरूरत होती है। इस वजह से भी ज्यादा प्यास लगती है। साथ ही ज्यादा तेज नमक खाने से भी प्यास बढ़ती है।

अधिक पसीना आना- जब मौसम गर्म होता है तो पसीना भी ज्यादा आता है। इसकी वजह से शरीर में पानी की कमी होने लगती है और ज्यादा प्यास लगती है।

डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?
वैसे तो प्यास लगना एक नॉर्मल बात है। अगर आप पर्याप्त पानी पीते हैं तो आपकी प्यास बुझ जाती है, लेकिन अगर फिर भी प्यास न बुझे तो यह गंभीर बीमारी हो सकती है। ऐसी सिचुएशन में डॉक्टर के पास जरूर जाएं-

  • पर्याप्त मात्रा में पानी पी रहे हैं, फिर भी प्यास बार-बार लग रही हो।
  • धुंधला दिखने लगे। ज्यादा भूख लगे और स्किन में कोई घाव है तो वो ठीक होने में ज्यादा टाइम ले।
  • चक्कर आना या फिर जी मिचलाना।
  • दिन के वक्त बार-बार पेशाब आना।