पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

स्टडी में दावा:बच्चों के खिलौने बनाने में उपयोग होने वाले फ्लेम रिटार्डेड केमिकल से हो सकता है कैंसर

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

लीसा ग्रॉस. अमेरिका के वैज्ञानिक ने बच्चों की सुरक्षा को देखते हुए फ्लेम रिटार्डेंट के खतरों को ट्रैक किया है। वैज्ञानिकों का दावा है कि इससे कैंसर हो सकता है। लेकिन, सवाल यह है कि दुनिया में मैन्युफैक्चरर्स इनका उपयोग करना बंद क्यों नहीं कर रहे हैं? डॉ. हिथर स्टेपलटन कहती हैं कि जब वह अपने लैब से एक केमिकल के खतरों की स्टडी करके घर लौटीं। उन्हें अहसास हुआ की यह उनके घर में भी पहुंच चुका है।

स्टडी में पता चला कि यह खतरा पॉलिस्टर टनल के साथ भी है। पॉलिस्टर टनल बच्चों के खेलने और आराम करने का एक पाइप नुमा पॉलिस्टर का टेंट होता है। आज-कल यह काफी चलन में है। इसमें उपयोग किया गया मटेरियल में फ्लेम रिटार्डेंट केमिकल होता है।

कितना खतरनाक होता है खिलौनों में इस्तेमाल होने वाला फ्लेम रिटार्डेंट?

  • फ्लेम रिटार्डेंट केमिकल का कमर्शियल और कंज्यूमर प्रोडक्ट में इस्तेमाल 1970 में फ्लेम एबिलिटी स्टैंडर्ड के साथ शुरू हुआ। हालांकि, बाजार में उपलब्ध सभी फ्लेम रिटार्डेंट केमिकल से बने प्रोडक्ट में हेल्थ का रिस्क नहीं होता। वैज्ञानिकों की चिंता उस फॉर्मुलेशन से है जिसमें क्लोरीनेट, ब्रोमाइड या फॉस्फोरस होता है।
  • फ्लेम रिटार्डेंट को आग से जुड़ने की क्षमता रखने वाले उत्पादों में जोड़ा जाता है। इसमें फर्नीचर, बच्चों के प्रोडक्ट, इलेक्ट्रॉनिक्स सामान, बिल्डिंग और कंस्ट्रक्शन मटेरियल, कपड़े, कार की सीट और वाहनों के इंटीरियर होते हैं। इसमें मौजूद केमिकल से बने उत्पादों से बच नहीं सकते हैं। यह स्किन में जा सकते हैं। धूल में जमा हो सकते हैं।
  • जानवरों की लैब में हुई एक रिसर्च में सामने आया कि तरह तरह के फ्लेम रिटार्डेंट से कई तरह की हेल्थ इश्यू हो सकते हैं। ब्रोमिनेटेड केमिकल से जानवरों और मनुष्य में कैंसर, हार्मोन डिसरप्टिव, रिप्रोडक्टिव सिस्टम और न्यूरो डेवलपमेंट प्रॉब्लम भी हो सकती है।
  • कुछ चुनिंदा लोगों के बीच की गई रिसर्च में पाया कि यह केमिकल रिस्क बढ़ाता है, आईक्यू लेवल कम करता है और बच्चों के व्यवहार में भी बदलाव लाता है। साल के शुरुआत में हुई रिसर्च में भी सामने आया था कि ब्रोमिनेटेड फ्लेम आईक्यू लॉस का सबसे बड़ा कारण है। जो बच्चों में इंटलेक्चुअल डिसएबिलिटी को बढ़ावा देता है।

सबसे पहले बच्चों की फीलिंग्स को समझना होगा, जानिए बच्चों में चिड़चिड़ापन क्यों आता है...

साइंटिस्ट दूसरा केमिकल नहीं ढूंढ लेते, तब तक उपयोग करना बंद नहीं हो सकता

  • फ्लेम रिटार्डेंट में कई तरह के टॉक्सिक केमिकल होते हैं। मैन्युफैक्चरर को इसे सुरक्षित साबित करने की जरूरत नहीं होती। रिसर्च के बाद भी कई देश में इस तरह के केमिकल पर रोक नहीं लगा सकते। जब तक साइंटिस्ट इस तरह का दूसरा केमिकल नहीं ढूंढ लेते, तब तक इसका उपयोग करना बंद नहीं कर सकते।
  • यूएस कंज्यूमर प्रोडक्ट सेफ्टी कमीशन की महिला प्रवक्ता पेटी डेविस जो कंज्यूमर प्रोडक्ट को रेगुलेट करती हैं। वह कहती हैं कि यह कारण समझ नहीं आता कि इस तरह केमिकल इन प्रोडक्ट में होना चाहिए। बच्चों के खिलौने में फ्लेम रिटार्डेंट का उपयोग हो ऐसा कोई नियम नहीं है।
  • वहीं, डॉ स्पेटलटन किसी रेगुलेटरी एक्शन का इंतजार करने की बजाय अपना पूरा करियर बच्चों के प्रोडक्ट में पाए जाने वाले केमिकल का पता लगाने में लगा दिया। कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी के केमिस्ट अरलेन ब्लम ने 1997 में साबित किया कि ब्रोमिनेटेड ट्रिस केमिकल बच्चों की बॉडी में जाता है। जो कैंसर का कारण बनता है।
  • इसके बाद रेगुलेटर ने तुरंत इस केमिकल को बैन कर दिया। लेकिन, मैन्युफैक्चरर इसी तरह के अलग केमिकल क्लोरीनेट ट्रिस का उपयोग पजामा बनाने में करने लगे। लेकिन, अरलेन ब्लम ने इस केमिकल के खतरों का पता लगाकर इससे भी कैंसर का खतरा होना बताया। आज फ्लेम रिटार्डेंट का मार्केट 7 बिलियन है।
  • साल 2009 मे डॉ. स्टेपलटन ने एक एनालिसिस किया। जिसमें उन्होंने अपने बेटे के तकिये और अन्य बेबी प्रोडक्ट की जांच की। इसमें दो तरह के फ्लेम रिटार्डेंट केमिकल पाए। जो पहले कभी नहीं पाए गए थे। इसके बाद उन्होंने अपने सहकर्मियों से कार सीट, तकिये, और बेबी प्रोडक्ट के फोम डोनेट करने को कहा। 2011 में पब्लिश हुई स्टडी में सामने आया कि 100 तरह के प्रोडक्ट की जांच की गई। इसमें 80% से ज्यादा में फ्लेम रिटार्डेंट केमिकल मिला। इसके अगले साल उन्होंने 100 काउच में 85% फ्लेम रिटार्डेंट केमिकल पाया।
  • सामान्य तौर पर बेबी प्रोडक्ट और काउच में क्लोरिनेटे ट्रीस केमिकल पाया गया। हालांकि 40 साल पहले मैन्युफैक्चरर ने बेबी पजामा में इसका उपयोग करना बंद कर दिया था। लेकिन वापस से उपयोग होने लगा।

रेगुलेटर ने लिया एक्शन, लेकिन अलग तरह के केमिकल उपयोग होने लगे

  • स्टेपलटन की यह रिसर्च पूरे कैलिफोर्निया में चर्चा का विषय बन गई। कैलिफोर्निया रेगुलेटर ने कई बेबी प्रोडक्ट में इसके उपयोग को बैन किया। स्टेपलटन का कहना है कि ऐसा पहली बार महसूस किया कि हमारी रिसर्च ने पहली बार पॉलिसी में बदलाव किया। लेकिन, हमेशा फ्लेम रिटार्डेंट के अलग तरह के केमिकल का उपयोग किया जाने लगता है। वहीं, ब्लम का कहना है कि फ्लेम रिटार्डेंट पैसेंजर के कंपार्टमेंट में आग पहुंचने से नहीं रोक सकता। वह बच्चों में होने वाले बुरे असर को लेकर चिंतित हैं।
  • अमेरिका की केमिस्ट्री काउंसिल की जेनिफर गारफिंकल ने गाड़ियों में फायर सेफ्टी के लिए फ्लैम रिटार्डेंट का उपयोग करने का बचाव किया है। वहीं, स्टेपलटन का कहना है कि कार मैन्युफैक्चरर के पास नेचुरल फायर रेजिस्टेंट मटेरियल है। जैसे ऊन वगैरह का उपयोग किया जा सकता है।

पैरेंट्स बातचीत करें तो किशोरों में कम हो सकता है आत्महत्या का जोखिम, स्मार्टफोन भी है बड़ा कारण; 7 तरीके व्यक्ति को बाहर निकाल सकते हैं

कम से कम खिलौने का इस्तेमाल करें

  • 2017 में स्टेपलटन ने बताया कि बच्चों के यूरीन में उनकी मां के मुकाबले फ्लेम रिटार्डेंट ​​​​​​ज्यादा पाया गया। इसकी वजह बच्चों के खिलौने थे। उन्होंने अपनी रिपोर्ट में बताया कि अगर खिलौने ज्यादा खरीदेंगे तो इसका खतरा ज्यादा होगा।
  • स्टडी में केवल जोखिम को मापा गया। उनसे जुड़े हेल्थ इश्यू को नहीं। 6 सप्ताह से कम उम्र के बच्चों में इसे ज्यादा पाया जा रहा है। इस दौरान बच्चों में इम्यून और न्यूरोलॉजिकल सिस्टम विकसित होता है। जो एक चिंता का विषय है। इसलिए बच्चों के हाथ की सफाई करने को कहा गया है।
  • स्टेपलटन का कहना है कि रेगुलेटर को जल्द इसके उपयोग को बैन कर देना चाहिए। यह हर साल बढ़ रहा है। रेगुलेटर अभी तक इसके खतरों की जांच कर रहे हैं। जबकि कई स्टडी में इसके खतरे की बात सामने आ चुकी है।
  • वहीं, कैलिफोर्निया के रेगुलेटर ने अपने नियमों में जरूर बदलाव किया है। हालांकि यह सिर्फ फर्नीचर में उपयोग होने वाले बाहरी कपड़ों को लेकर किया गया है, उसके अंदर पाए जाने वाले फॉर्म को लेकर नहीं।
  • वहीं, डॉ स्टेपलटन ने साल 2012 में सीनेट में कहा था कि यह पब्लिक हेल्थ पॉलिसी के लिए अच्छा है। इस तरह के प्रोडक्ट लोगों तक पहुंचे उसे पहले अच्छे से जांच लेना चाहिए।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आप में काम करने की इच्छा शक्ति कम होगी, परंतु फिर भी जरूरी कामकाज आप समय पर पूरे कर लेंगे। किसी मांगलिक कार्य संबंधी व्यवस्था में आप व्यस्त रह सकते हैं। आपकी छवि में निखार आएगा। आप अपने अच...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser