सांसद संतोख सिंह के बेटे ने कहा:गोल्डन ऑवर में CPR दे देते तो बच जाती पापा की जान; क्या है CPR

20 दिन पहले

राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा में जालंधर से कांग्रेस सांसद चौधरी संतोख सिंह के निधन पर उनके विधायक बेटे विक्रमजीत चौधरी ने कहा कि एंबुलेंस में ले जाते वक्त पापा पंप करने पर सांस ले रहे थे। मगर डॉक्टरों के पास इमरजेंसी शॉक का कोई सामान नहीं था। वहां के डॉक्टर बड़ी हड़बड़ाहट में थे।

इसका सीधा मतलब यह है कि सांसद को गोल्डन ऑवर में अगर CPR भी दे दिया जाता तो उनकी जान बच सकती थी।

आज जरूरत की खबर में जानेंगे कि गोल्डन ऑवर क्या होता है, इस समय CPR देना कितना जरूरी है, CPR दिया कैसे जाता है और इसको देने में क्या गलतियां कर सकते हैं?

आज के हमारे एक्सपर्ट हैं डॉ. नरेश त्रेहन, मेदांता अस्पताल के चेयरमेन और मैनेजिंग डायरेक्टर।

सवाल: गोल्डन ऑवर क्या होता है?
जवाब:
कोई भी इंजरी या हार्ट अटैक आने के बाद का पहला घंटा गोल्डन ऑवर होता है। अगर शुरू के 60 मिनट में सही कदम उठा लिए जाते हैं तो पेशेंट की जान बचाई जा सकती है।

सवाल: गोल्डन ऑवर में CPR देना कितना जरूरी है?
जवाब:
गोल्डन ऑवर में CPR देना इसलिए जरूरी है क्योंकि क्योंकि इसी एक घंटे में जब सही कदम नहीं उठाए जाते तो सबसे ज्यादा मौत होती हैं। यह हॉस्पिटल पहुंचने से पहले का समय होता है, जिसमें पेशेंट को CPR दे दिया जाए तो डॉक्टर के लिए पेशेंट की जान बचाना आसान हो जाता है।

इंडियन रिससिटेशन काउंसिल के साइंटिफिक डायरेक्टर डॉ राकेश गर्ग के अनुसार, मौजूदा डेटा को देखा जाए तो अगर पेशेंट को समय पर CPR दिया जाए तो 40-60% लोगों की जान बचाई जा सकती है।

सवाल: CPR आखिर होता क्या है?
जवाब:
CPR का फुलफॉर्म कार्डियोपल्मोनरी रिससिटेशन है। यह एक लाइफ सेविंग टेक्निक है, जिसका इस्तेमाल हार्ट अटैक (दिल का दौरा) के दौरान किया जाता है। अगर किसी इंसान के दिल की धड़कने बंद हो जाए तो घर से अस्पताल जाने के दौरान CPR लाइफ सेविंग का काम करता है।

इंडियन रिससिटेशन काउंसिल (IRC) के चेयरपर्सन डॉ एसएससी चक्र राव के अनुसार भारत में

  • 2% से भी कम लोगों को CPR की जानकारी है।
  • देश में हर साल प्रति 1 लाख जनसंख्या पर लगभग 4280 लोगों को कार्डियक अरेस्ट होता है।
  • हर मिनट 112 लोग कार्डियक अरेस्ट से दम तोड़ रहे हैं।

इसलिए यह समझना जरूरी है कि आखिर CPR दिया कैसे जाता है…

सवाल: CPR कैसे दिया जाता है?
जवाब:
CPR देने के दो तरीके हैं।

  • पहला: जब यह पेशेंट को कोई दूसरे व्यक्ति से दिया जाता है।
  • दूसरा: मेडिकल इक्विपमेंट की मदद से पेशेंट को यह दिया जाता है।

बच्चों और बड़ों दोनों को CPR देने का तरीका अलग-अलग होता है।

सवाल: CPR देने की जरूरत कब पड़ती है?
जवाब:
CPR तब दिया जाता है जब…

  • कोई व्यक्ति अचानक बेहोश हो जाए और वह सांस न ले पा रहा हो।
  • किसी एक्सीडेंट के दौरान व्यक्ति को सांस लेने में तकलीफ हो।
  • अगर कोई व्यक्ति पानी में डूब गया हो तो उसे बाहर निकालने के बाद।

याद रखें: CPR देने के बाद पेशेंट को जल्द से जल्द अस्पताल लेकर जाएं।

सवाल: CPR की ट्रेनिंग कैसे दी जाती है?
जवाब:
इसे एक उदाहरण से समझते हैं-
अगर कोई व्यक्ति अचानक गिर जाए तो ऐसी स्थिति में सबसे पहले उसके सिर पर हाथ रखकर चेक करें कि कहीं खून तो नहीं बह रहा है। इसके बाद ABC का फॉर्मूला अपनाएं।
A यानी एयरवे: नाक के सामने हाथ रखकर सांस चेक करें। अगर सांस आ रही होगी तो आपको हाथ में गर्माहट महसूस होगी।
B यानी ब्रीदिंग: चेस्ट पर हाथ रखकर चेक करें, सांस आ रही है या नहीं। यहां एक और नियम है। पुरुष होने पर चेस्ट को चेक करना है। महिला होने पर एब्डोमिनल पर भी हाथ रखकर भी चेक कर सकते हैं।
C यानी सर्कुलेशन: लेटे हुए व्यक्ति के बाएं हाथ की नाड़ी को चेक करें। इस दौरान कलाई एकदम ढीली कर दें।
अब बेहोश व्यक्ति को थोड़ा जगाने की कोशिश करें। अगर वह किसी तरह का मूवमेंट नहीं कर रहा है और सांस नहीं आ रही है तो उसे CPR दें।

सवाल: CPR देने का क्या फायदा होता है?
जवाब:
इसकी मदद से पेशेंट को सांस लेने में सहायता मिलती है। CPR देने से हार्ट और ब्रेन में ब्लड सर्कुलेशन में मदद मिलती है। कई मामलों में CPR की सहायता से व्यक्ति की जान बच जाती है।

चलते-चलते

हार्ट अटैक आने पर आस-पास के लोग कौन सी गलतियां कर देते हैं। अगर ये गलतियां न हों तो किसी भी व्यक्ति की जान बचाई जा सकती है-

  • घबराकर अस्पताल में कॉल करते हैं और पेशेंट के आसपास भीड़ लगाकर खड़े हो जाते हैं। CPR देने का ख्याल ही मन में नहीं आता है।
  • अगर किसी को CPR देने का मन में ख्याल आ भी जाए तो वो डर की वजह से पेशेंट को CPR नहीं देता है।

CPR देते वक्त कौन सी गलतियां कर देते हैं?

  • चेस्ट (छाती) को ठीक से नहीं दबाते हैं।
  • पेशेंट के मुंह से अपना मुंह अच्छे से लॉक नहीं करते हैं।
  • कोहनी को सीधा नहीं रखते हैं।
  • पेशेंट की बॉडी को सीधा नहीं रखते हैं।

जरूरत की खबर के कुछ और आर्टिकल भी पढ़ेंः

1. एयर इंडिया यूरिन केस में इनकॉन्टिनेंस बीमारी का जिक्र:बुजुर्ग और प्रेग्नेंट महिला को क्यों होती है यूरिन लीकेज की प्रॉब्लम

एयर इंडिया यूरिन केस के आरोपी संजय मिश्रा के वकील ने कोर्ट में दलील दी है कि 70 साल की महिला ने खुद ही अपने कपड़ों में पेशाब कर लिया था। उन्हें इन्कॉन्टिनेंस की समस्या थी। वहीं, अफ्रीका के साउथ सूडान के प्रेसिडेंट सल्वा कीर मायारडिट का एक वीडियो वायरल हो रहा है।(पढ़िए पूरी खबर)

2. AC कोच में यात्रियों को मिले बदबूदार कंबल:तबीयत बिगड़ी, बुलानी पड़ी डॉक्टरों की टीम; गंदे बेडरोल मिलने पर कहां करें शिकायत

एसी कोच में दिए जाने वाले कंबल की वजह से यात्रियों की तबीयत खराब हो गई। मामला लखनऊ से वाराणसी सिटी जाने वाली 15008 कृषक एक्सप्रेस का था।
थर्ड एसी कोच में सफर करने वाले यात्रियों ने कंबल से बदबू आने की शिकायत एक-दूसरे से की। रेलवे तक शिकायत पहुंचाने के लिए यात्रियों ने कोच अटेंडेंट को तलाशा। वो नहीं मिला तब TTE को इस बारे में बताया गया। इसके बाद कंबल बदले गए।
जैसे ही ट्रेन बादशाहनगर स्टेशन पहुंची, यात्रियों को उल्टियां होने लगीं। 3 की तबीयत इतनी बिगड़ी की मेडिकल टीम बुलानी पड़ी।
गंदे और बदबूदार बेडरोल को लेकर अक्सर ऐसी शिकायत आती रहती हैं। आपके साथ भी ऐसा हो तो भूल से इग्नोर न करें। कहां और कैसे शिकायत करनी हैं, यह हम आपको बताते हैं।(पढ़िए पूरी खबर)

3. नींद में दम घुटने से मौत:बंद कमरे में अंगीठी जलाने से खून में मिल जाएगी जहरीली गैस

पंजाब के संगरूर जिले में पांच मजदूर कमरे में अंगीठी जलाकर सो रहे थे। नींद में ही दम घुटने से 4 की मौत हो गई। एक को हॉस्पिटल में भर्ती कराना पड़ा।
वाराणसी में एक परिवार रात में लोहे की कड़ाही में आग जलाकर ताप रहा था। सभी की नींद आ गई। सुबह 8 बजे जब पड़ोसी ने दरवाजा खटखटाया ताे अंदर से कोई आवाज नहीं आई। दरवाजा तोड़ने पर पता चला कि अंगीठी के धुएं की वजह से 3 बेहोश थे और सबसे छोटे बेटे की जान जा चुकी थी। (पढ़िए पूरी खबर)