जरूरत की खबर:फैशन वीक में हरनाज को ‘मोटी मिस यूनिवर्स’ कहा गया, जानिए कैसे मोटी-काली जैसे बॉडी शेमिंग कमेंट्स से निपटें

8 महीने पहले

26 मार्च को हुए लैक्मे फैशन वीक में अन्नया पांडे, जाह्नवी कपूर और मीरा राजपूत रैंप पर नजर आईं। इसी दिन मिस यूनिवर्स हरनाज कौर संधू ने भी रैम्प वॉक किया। वे फैशन डिजाइनर शिवान और नरेश की शो स्टॉपर रहीं। जैसे ही इस शो का वीडियो सोशल मीडिया पर आया, हरनाज को बॉडी शेमिंग का सामना करना पड़ा।

लोगों ने क्या कहा–

  • हरनाज कौर संधू की ड्रेस बिल्कुल खराब है।
  • यह कितनी मोटी हो चुकी है।
  • मोटी मिस यूनिवर्स।
  • प्लस साइज मॉडल।

ऐसा हरनाज के साथ पहली बार नहीं हुआ है। दिसंबर 2021 में जब वे मिस यूनिवर्स बनीं, तब उन्होंने बॉडी शेमिंग पर खुलकर बात की। उन्होंने बताया कि पतले होने की वजह से लोग उनका मजाक उड़ाते थे, लेकिन उनकी मां ने बहुत सपोर्ट किया। यही वजह है कि हरनाज ने लैक्मे फैशन वीक में ट्रोल होने के बाद भी खुद को पॉजिटिव रखा। वे दूसरी महिलाओं को भी अपनी बॉडी से प्यार करने की सीख देती हैं।

बॉडी शेमिंग झेलने वाली हरनाज अकेली नहीं
हर दो-चार महीने में सेलिब्रेटी महिलाओं की बॉडी पर भद्दे कमेंट्स सोशल मीडिया पर किए जाते हैं। सोनाक्षी सिन्हा, हुमा कुरैशी, भूमि पेडनेकर को भी बॉडी शेमिंग का शिकार होना पड़ा है।

एक्टर इलियाना डिक्रूज ने एक इंटरव्यू में बताया था कि 12 साल की उम्र से लोग उनकी शरीर की बनावट का मजाक उड़ा रहे हैं। आज भी हर दिन सोशल मीडिया के माध्यम से दिन कम से कम 10 लोग उन्हें मैसेज कर उनके बॉडी पार्ट्स को लेकर मजाक बनाते हैं।

प्रेग्नेंसी के दौरान करीना कपूर, नेहा धूपिया और समीरा रेड्डी जैसी तमाम अभिनेत्रियों को ट्रोलर्स का सामना करना पड़ा। लोगों ने न जाने इन्हें क्या-क्या बोला। फिर भी इन अभिनेत्रियों ने अपने आप को पॉजिटिव रखा और मां बनने के सुख को अच्छे से फील किया।

वहीं, आम लड़कियां जो रोजाना यह सुनती हैं कि मोटी हो, हाइट कम है, बॉडी का शेप खराब है तो रोने की जगह उन्हें अपनी आवाज जोर से उठानी होगी कि मैं जैसी हूं खुद से प्यार करती हूं, आपके सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं।

अब जरा इस सर्वे पर नजर डालते हैं…

20 शहरों में सर्वे किया गया…

फोर्टिस हेल्थकेयर ने 1244 महिलाओं पर बॉडी शेमिंग को लेकर एक सर्वे किया। इन महिलाओं की उम्र 15 से 65 साल के बीच थी। देशभर के 20 शहरों दिल्ली एनसीआर, मुंबई, बेंगलुरु, हैदराबाद, चेन्नई, अमृतसर, लुधियाना, जालंधर, मोहाली जैसी जगहों पर ये सर्वे किया गया।

डॉ. समीर पारिख कहते हैं- दरअसल बॉडी शेमिंग एक ऐसी प्रैक्टिस है जिसके जरिए लोग सामने वाले को उनके बॉडी के शेप और साइज पर नेगेटिव कमेंट करते हैं, उनका मजाक उड़ा देते हैं। इसकी वजह से मानसिक स्वास्थ्य खराब होता है। इससे बचने के लिए खुद से प्यार करना सीखना होगा।

बॉडी शेमिंग से कौन-कौन सी परेशानी हो सकती है?

  • कोई भी व्यक्ति टेंशन में आ सकता है।
  • टेंशन की वजह से डिप्रेशन की संभावना बढ़ जाती है।
  • कई बार लोग खुद को समाज से अलग समझने लगते हैं।
  • नेगेटिव विचार मन में आ सकते हैं।
  • कई बार आत्महत्या का ख्याल भी आ जाता है।

पॉजिटिव रहने का सुझाव

  • दूसरों की बातें सुनने से अच्छा आप इस बात पर फोकस करें कि आपका शरीर आपको अच्छा लग रहा है।
  • अपनी भावनाओं को व्यक्त करें। आप कैसा महसूस कर रही हैं, इस बारे में पति, परिवार या दोस्तों से बात करें। इस दौरान आप डायरी भी लिख सकती हैं।
  • पॉजिटिव सोच वाली किताबें पढ़ें। दूसरों के एक्सपीरियंस को जानें और उससे सीखें।
  • खुद को किसी नए काम से जोड़कर व्यस्त रहें। कुछ क्रिएटिव काम करेंं।
  • मदद लेने में शर्म महसूस न करें। अगर आपको लगे कि आपकी मेंटल हेल्थ पर नेगेटिव असर हो रहा है तो तुरंत किसी की हेल्प लें।

सोर्स- डॉ. समीर पारिख, कंसलटेंट साइकेट्रिस्ट

अब प्रेग्नेंसी और बॉडी शेमिंग की बात करते हैं
कई सर्वे यह बताते हैं कि प्रेग्नेंट औरत की बॉडी शेमिंग से अगर होने वाली मां दु:खी होती है तो कोख में पल रहे बच्चे पर भी बुरा असर पड़ता है। इसलिए अगर आप प्रेग्नेंट है और बॉडी शेमिंग का सामना कर रही हैं तो पॉजिटिव और खुश रहें।