पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नजरअंदाज न करें इमेज ब्लॉक:दिखना बंद हो गया है या धुंधला दिख रहा है तो हो सकती है ब्रेन ट्यूमर जैसी समस्या, टेस्ट कराना जरूरी

13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

डॉ. लीसा सैंडर्स. मुझे कुछ दिख नहीं रहा है। 57 साल का एक व्यक्ति यह चिल्ला कर कहता है। उसकी वाइफ और दो बच्चे दौड़ कर आते हैं और देखते हैं कि वह आदमी शीशे के सामने खड़ा है। व्यक्ति कहता है कि दाईं आंख बंद करने से मुझे मेरा सिर नहीं दिख रहा। उसकी वाइफ उसकी आंखों में देखती है, जो बिलकुल दुरुस्त दिख रही हैं। न तो आंखें लाल हैं और न ही उनमें पानी है। वह अपनी आंखों को धुलता है, लेकिन उसके बाद भी दाईं आंख बंद करने से उसे उसका सिर नहीं दिख रहा।

वह डॉक्टर के पास जाता है। डॉक्टर के पूछने पर वह आदमी बताता है कि उसे चेस्ट पेन भी हो रहा है। सीटी स्कैन कराया और ब्लड वेसेल्स की जांच कराई तो स्ट्रोक जैसा कोई लक्षण नहीं पाया गया। इसके बाद MRI भी किया गया, उसमें भी कुछ नहीं निकला। बहुत जांच के बाद पता चला कि उसे माइग्रेन की समस्या है, जिसके चलते उसका विजन ब्लॉक हो रहा है।

आंखों की अच्छी जांच जरूरी

अमेरिकी फिजिशियन डॉक्टर जे वांग कहते हैं कि ऐसा किसी के साथ भी हो सकता है। कभी-कभी ऐसा होता है कि दिमाग और आंख के बीच इमेज प्रोसेसिंग में कुछ डिफेक्ट आ जाता है। इसकी कई वजहें होती हैं। एक्सपर्टस के मुताबिक सबसे पहले आंखों का एक डीप चेकअप जरूर कराएं। अगर आंखों में कुछ नहीं निकल रहा है, तो सीटी स्कैन और MRI कराएं।

रेटिना के ऊपरी हिस्से में ब्लॉकेज भी वजह

आई डिजीज जैसे, रेटिना के ऊपरी हिस्से में ब्लॉकेज होना भी इमेज ब्लॉक की वजह हो सकती है। ऐसा तब होता है, जब आंखों में कोई बड़ा पार्टिकल घुस जाता है या जब डस्ट के चलते आंखों में इंफेक्शन हो जाता है। अगर ऐसा कुछ है तो एक्सपर्ट्स के मुताबिक इसका इलाज बहुत जल्दी कराना चाहिए नहीं तो यह एक परमानेंट समस्या बन सकता है।

स्क्रीन टाइम बढ़ने से बढ़ रहीं हैं आंखों में दिक्कतें
स्क्रीन टाइम बढ़ने से भी लोगों को माइग्रेन के साथ आंखों में दिक्कतें हो रही हैं। खासकर नौकरीपेशा लोगों को। एक्सपर्ट्स का कहना है कि जितना ज्यादा स्क्रीन टाइम, उतनी ज्यादा दिक्कत। अगर आप अपनी आंखों का ख्याल रखना चाहते हैं तो इन 6 सलाहों को जरूर मानें।

  1. बार-बार आंखें झपकाना: ऑप्थेलमोलॉजिस्ट डॉक्टर विनिता रमनानी के मुताबिक आमतौर पर हमारी आंखें एक मिनट में 18-20 बार झपकती हैं, लेकिन स्क्रीन पर काम करते वक्त यह संख्या कम हो जाती है। इससे बचने के लिए कुछ देर में आंखों को बार-बार तेज झपकाएं।
  2. 20-20-20 रूल: डॉक्टर 20-20-20 नियम को फॉलो करने की सलाह देते हैं। इसमें आपको काम के दौरान हर 20 मिनट में 20 सेकंड के लिए 20 फुट दूर की किसी चीज को देखना है। इससे आंखों की मसल्स रिलेक्स होती हैं।
  3. एसी से बचें: एयर कंडीशनर में काम करने से ड्राइनेस की परेशानी बढ़ सकती है। एसी में काम करने से बचें। अगर एसी के बीच काम कर रहे हैं तो थोड़ी-थोड़ी देर में ब्रेक लें। इसके अलावा कमरे की लाइटों को बंद कर काम न करें। एक्सपर्ट्स के मुताबिक, हमेशा कमरे में रोशनी के बीच या लाइट के बीच ही काम करें।
  4. ब्रेक लें: काम के दौरान कुछ देर में ब्रेक लेते रहें और नॉर्मल माहौल में घूमें। इसके अलावा अपने नॉर्मल भोजन के साथ मल्टी विटामिन और एंटीऑक्सीडेंट फूड का भी उपयोग करें।
  5. चेयर हाइट को एडजस्ट करें: डॉक्टर्स के मुताबिक आंखों की सेहत के लिए काम करते वक्त पॉश्चर और मॉनीटर के बीच बैलेंस करना बहुत जरूरी है। कोशिश करें की स्क्रीन की हाइट नीचे हो, क्योंकि नीचे देखने से आंखें थोड़ी ही खुलती हैं और ज्यादा लुब्रिकेंट इवेपोरेट (भाप बनकर उड़ना) नहीं होता।
  6. अगर चश्मा लगा है तो उपयोग करें: डॉक्टर के मुताबिक, जिन लोगों को चश्मा लगा है, वे इसका जरूर उपयोग करें। इस बात से फर्क नहीं पड़ता कि आपको बगैर चश्मे के भी साफ नजर आ रहा है।
खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज जीवन में कोई अप्रत्याशित बदलाव आएगा। उसे स्वीकारना आपके लिए भाग्योदय दायक रहेगा। परिवार से संबंधित किसी महत्वपूर्ण मुद्दे पर विचार विमर्श में आपकी सलाह को विशेष सहमति दी जाएगी। नेगेटिव-...

और पढ़ें