पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कैसे पाएं नशे से निजात:सबसे ज्यादा दिमाग को नुकसान पहुंचाता है नशा, लत धीरे-धीरे नहीं एकदम छोड़ें; 8 तरीके जो कर सकते हैं आपकी मदद

2 महीने पहलेलेखक: निसर्ग दीक्षित
  • कॉपी लिंक
  • एक्सपर्ट्स के मुताबिक, नशे की लत छोड़ने से पहले इस बात का पता करें कि आपने नशा शुरू क्यों किया था
  • अगर किसी ऐसी जगह पर हैं जहां नशा ज्यादा है, तो इससे बचने के लिए विकल्प तलाशें, शराब की जगह सॉफ्ट ड्रिंक लें

मनोरंजन के लिए मशहूर बॉलीवुड आज ड्रग्स की वजह से दुनियाभर में चर्चा में है। इंडस्ट्री के कई बड़े सितारे नशे की लत से जूझ रहे हैं। वर्ल्ड ड्रग रिपोर्ट 2020 के अनुसार, ड्रग्स के बढ़ते उपयोग के तार बढ़ती हुई दौलत से जुड़े हैं। रिपोर्ट बताती है कि विकासशील देशों के मुकाबले विकसित देशों में ड्रग्स का उपयोग ज्यादा है। कोकेन जैसे ड्रग्स का इस्तेमाल दुनिया के कई अमीर हिस्सों में किया जा रहा है।

किसी भी अंग से ज्यादा दिमाग को नुकसान पहुंचाती है नशे की लत
राजस्थान के कोटा में न्यूरो साइकेट्रिस्ट और काउंसलर डॉक्टर नीना विजयवर्गीय कहती हैं, 'नशा आपको हमेशा एडिक्शन यानी लत की ओर ले जाता है। कोई भी नशा नहीं करना चाहिए।' उनका कहना है कि सिगरेट की लत वालों को लगता है कि उनका केवल फेफड़ा कमजोर हो रहा है या शराब पीने वालों को लगता है कि इस नशे का असर उनके लिवर पर हो रहा है, जबकि ऐसा नहीं है। कोई भी नशा हो वो लिवर, किडनी, फेफड़ों से ज्यादा दिमाग को नुकसान पहुंचाता है।

क्या है एडिक्शन?

  • अमेरिकन साइकेट्रिक एसोसिएशन के अनुसार, एडिक्शन एक मानसिक बीमारी जो किसी एक चीज (शराब, ड्रग्स) के लगातार उपयोग के कारण होती है। व्यक्ति जानता है कि इसका हेल्थ पर काफी बुरा असर पड़ सकता है, लेकिन इसके बावजूद वह इसका इस्तेमाल करता रहता है।
  • यह चीजें दिमाग के काम करने के तरीकों को प्रभावित करती हैं। नशे की लत से जूझ रहे लोगों में टोलरेंस विकसित हो जाता है, यानी धीरे-धीरे नशे की मात्रा बढ़ने लगती है, क्योंकि जितना नशा वे पहले करते थे, वह अब उन्हें कम लगने लगा है। उदाहरण के लिए पहले एक गिलास शराब पीने वाला व्यक्ति तीन-चार गिलास पीने लगा है। यह संख्या बढ़ती जाती है। ड्रग्स लोग कई कारणों से लेते हैं, इसमें बेहतर महसूस करना, बेहतर काम करना या दबाव जैसी चीजें शामिल होती हैं।

कैसे पहचानें कि आप किसी नशे की लत का शिकार हो गए हैं
डॉक्टर विजयवर्गीय के मुताबिक, नशे कई तरह के होते हैं और हर तरीके के नशे की लत के स्तर को पता करने का तरीका अलग है। उनके अनुसार, अपने अंदर आए इन तरीकों से आप नशे की लत का पता लगा सकते हैं।

  • न चाहते हुए भी नशा करना: लत इसी को कहते हैं। गंभीर मामलों में व्यक्ति को पता होता है कि नशा करने से कई तरह से उनका नुकसान हो रहा है, जैसे- सामाजिक, आर्थिक, पारिवारिक, सम्मान। इसके बावजूद नशा करने की तलब होती है।
  • काम या पढ़ाई का लॉस: नशे की लत से जूझ रहे व्यक्ति का सबसे ज्यादा ध्यान नशा करने पर ही होता है। ऐसे में अगर छात्र इससे जूझ रहा हैं, तो उनकी पढ़ाई प्रभावित होगी और कोई काम करने वाला लत का शिकार है, तो उनकी प्रोडक्टिविटी पर असर पड़ेगा।
  • नशे पर खर्च बढ़ना: लत की तरफ जा रहे लोग जरूरत से ज्यादा पैसा नशे पर खर्च करने लगते हैं। ऐसे में उनपर आर्थिक दबाव बढ़ता है और इसकी वजह से लत में भी इजाफा होता है। अगर आप पहले से ज्यादा पैसा नशे पर खर्च करने लगते हैं, तो यह लत का शुरुआती संकेत हो सकता है।

आइए जानते हैं नशे की लत से कैसे निपटें?

  1. धीरे-धीरे नहीं एकदम से नशा छोड़ें: ज्यादातर लोग धीरे-धीरे नशा छोड़ने के बारे में सोचते हैं। हालांकि, एक्सपर्ट्स इससे विपरीत सलाह देते हैं। डॉक्टर विजयवर्गीय के अनुसार, अगर आप लत छोड़ना चाहते हैं, तो एकदम से नशे की चीजों से दूरी बना लें।
  2. आत्मविश्वास बढ़ाना होगा: नशा छोड़ने में सबसे बड़ी भूमिका मजबूत मन और इरादा निभाता है। अगर आपने फैसला कर लिया है कि आप दोबारा नशे को हाथ नहीं लगाएंगे, तो पहले मन में आत्मविश्वास बढ़ाएं। खुद पर भरोसा करना शुरू करें कि इस काम को फिर से नहीं दोहराएंगे।
  3. घर वालों का सपोर्ट: एक्सपर्ट्स के मुताबिक, इस दौरान सबसे जरूरी चीज घर का सपोर्ट होता है। अगर रिश्तेदार लगातार लत से जूझ रहे व्यक्ति को ताना देते रहेंगे तो उनका शराब या किसी भी तरह के नशे को छोड़ना मुश्किल हो जाएगा। ऐसे में परिवार इस बात को तय करें कि उनका समर्थन करें, न कि कम समझें।
  4. पुरानी बीमारी का इलाज करें: कई बार कोई व्यक्ति किसी बीमारी के कारण ही नशा करना शुरू कर देता है। एक बीमारी को भुलाने के लिए नशे का सहारा लेता है और बाद में इसकी लत स्वास्थ्य पर और बुरा असर डालती है। ऐसे में नशे का कारण जानें और अगर वह कारण एक बीमारी है, तो पहले उसका इलाज कराएं।
  5. बुरी चीजों से दूरी: नशा करने के कई कारण होते हैं। कई बार व्यक्ति किसी दबाव में, दोस्ती के कारण नशा करना शुरू कर देता है। ऐसे में अगर आप नशा छोड़ने के लिए तैयार हो चुके हैं, तो इस तरह की हर चीज से दूरी बना लें। एक्सपर्ट के अनुसार, कोई दोस्त अगर आपको शराब पीने के लिए कह रहा है, तो वह असल में आपका दुश्मन है।
  6. नया प्लान तैयार करें: लत छोड़ने से पहले यह जानना बहुत जरूरी है कि आपने नशा करना शुरू क्यों किया था। क्योंकि अगर आप यह कारण जानते हैं, तो आपको भविष्य के लिए रणनीति तैयार करने में मदद मिलेगी। कारण जानने के बाद प्लान बनाएं कि अगर पुरानी स्थिति दोबारा आपके सामने आती है, तो आप क्या करेंगे।
  7. विकल्प तलाशें: लत छोड़ने की कोशिश के दौरान कई बार आप खुद को नशे वाली जगहों पर पाएंगे, जैसे- पार्टी। ऐसे में अपने मन को मजबूत रखें और यह तय करें कि आप यहां केवल शामिल होने आएं हैं, नशा करने नहीं। उदाहरण के लिए अगर पार्टी में शराब चल रही है, तो सॉफ्ट ड्रिंक के विकल्प को चुनें।
  8. लाइफस्टाइल में बदलाव: एक्सपर्ट ने बताया कि नशा छोड़ने के लिए आपको मानसिक ही नहीं शारीरिक तौर पर भी तैयार होना होगा। नशा छोड़ने की प्रक्रिया के दौरान अपनी फिजिकल हेल्थ का ख्याल रखें। संतुलित डाइट लें, रात में अच्छी नींद लें और एक्सरसाइज को रुटीन में शामिल करें। डॉक्टर विजयवर्गीय ने बताया कि एक्सरसाइज से मिलने वाला प्लेजर लंबे समय का होता है और लती नहीं होता है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज भविष्य को लेकर कुछ योजनाएं क्रियान्वित होंगी। ईश्वर के आशीर्वाद से आप उपलब्धियां भी हासिल कर लेंगे। अभी का किया हुआ परिश्रम आगे चलकर लाभ देगा। प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे लोगों के ल...

और पढ़ें