जरूरत की खबर:क्या वाकई ज्यादा देर तक मास्क लगाने से शरीर में बढ़ जाती है कार्बन डाइऑक्साइड? जानिए क्या है सच

5 महीने पहले

कोरोना से बचने के लिए मास्क लगाना बहुत जरूरी है। देश-दुनिया के हेल्थ एक्सपर्ट और डॉक्टर लगातार मास्क लगाने पर जोर दे रहे हैं। इधर सोशल मीडिया पर मास्क को लेकर एक अलग चर्चा हो रही है। बताया जा रहा है कि ज्यादा देर तक मास्क लगाने से हमारे शरीर में CO2 (कार्बन डाइऑक्साइड) का लेवल बढ़ सकता है। यह खतरनाक है। इसलिए लंबे समय तक मास्क न लगाएं।

झारखंड के जामताड़ा से कांग्रेस विधायक और MBBS डॉक्टर इरफान अंसारी ने कहा कि लंबे समय तक मास्क पहनने से आपके शरीर में CO2 (कार्बन डाइऑक्साइड) का लेवल बढ़ जाता है। उनका वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुआ, जिसके बाद कई लोग जानना चाह रहे हैं कि क्या यह बात सच है?

आज जरूरत की खबर में हम आपको बताएंगे कि जिस मास्क को आप अपनी सुरक्षा के लिए लगा रहे हैं, क्या वह आपको बीमार कर सकता है?

मास्क लगाने से क्या सच में बढ़ता है CO2 का लेवल?
नहीं, लंबे समय तक मास्क लगाने से आपके शरीर का CO2 लेवल नहीं बढ़ता है। अमेरिका की हेल्थ एजेंसी सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) ने साफ किया है कि सोशल मीडिया पर मास्क को लेकर दी जाने वाली जानकारी सही नहीं है। ज्यादा देर तक मास्क लगाने से CO2 का लेवल नहीं बढ़ता है। CDC ने बताया कि आखिर कैसे मास्क से CO2 बाहर निकल जाती है।

कोरोना के खिलाफ मास्क कैसे काम करता है?
कोरोना काल में विशेषज्ञों ने मास्क को सुरक्षा कवच माना है। एक्सपर्ट्स के अनुसार, मास्क हमें कोरोना वायरस से बचाता है। यह वायरस को रोकने के लिए एक मजबूत हथियार है। इसलिए दुनिया के तमाम देशों में मास्क को अनिवार्य कर दिया गया है। जब आप भीड़-भाड़ वाली जगह में होते हैं और कोई संक्रमित आपके संपर्क में आता है, तब मास्क हवा की बूंदों, यानी ड्रॉपलेट्स में मौजूद वायरस को रोककर आपको संक्रमण से बचाता है।

मास्क पहनने से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक कोरोना फैलने की आशंका कम हो जाती है, लेकिन आपको मास्क पहनते और उतारते वक्त कुछ बातों का ख्याल रखना होगा। अगर आपने पूरी सावधानी के साथ इसे नहीं पहना है तो यह कोरोना वायरस से आपकी सुरक्षा नहीं कर पाएगा।

कौन सा मास्क देता है सबसे ज्यादा सुरक्षा?
आप जो भी मास्क पहनेंगे, वह वायरस से आपकी सुरक्षा जरूर करेगा, लेकिन कोई कम सुरक्षा देगा तो कोई ज्यादा। देश में ओमिक्रॉन का संक्रमण बढ़ रहा है। विशेषज्ञों की मानें तो कपड़े का मास्क ओमिक्रॉन वैरिएंट को रोकने में ज्यादा कारगर नहीं है। इसलिए आपको N-95 मास्क का यूज करना चाहिए। इस मास्क को सबसे अच्छा माना जा रहा है। यह वायरस से आपकी 95% और बैक्टीरिया से 100% रक्षा करता है।

N-95 मास्क पॉलीप्रोपाइलीन फाइबर से बने होते हैं जो हवा से कोरोना वायरस को आपके शरीर के अंदर आने से रोकते हैं। N-95 मास्क छोटे और बड़े एयरोसॉल को फिल्टर करते हैं। वहीं, कपड़े वाले मास्क सिर्फ बड़े एयरोसॉल को फिल्टर करते हैं। इसलिए कपड़े से ज्यादा अच्छा N-95 मास्क को माना जा रहा है।

क्या डबल मास्क लगाना फायदेमंद है?
ड्यूक यूनिवर्सिटी के डॉक्टर बिके स्मिथ के अनुसार, डबल मास्क लगाने में कोई दिक्कत नहीं है। अगर आपको इसे पहनने में कोई परेशानी नहीं हैं तो आप डबल मास्क पहन सकते हैं, लेकिन पहले मेडिकल मास्क लगाएं फिर कपड़े का मास्क लगाएं।

किस तरह के मास्क नहीं पहनने चाहिए?

  • सिंगल लेयर के मास्क नहीं खरीदने चाहिए क्योंकि ये कोरोना से बचाव में ज्यादा कारगर नहीं हैं।
  • अगर कोई मास्क आपको पहनने में ढीला लगे तो इसे न पहनें क्योंकि इसके जरिए वायरस आपकी नाक में जा सकता है।
  • ज्यादा टाइट मास्क पहनने से बचें। इसे पहनने के बाद आप बार-बार अपने मास्क को ढीला करने की कोशिश करेंगे और इससे संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ेगा।